News Nation Logo
Banner

Exclusive: लगातार CCTV कैमरे से रखी जा रही थी रेप पीड़िता पर नजर

उन्नाव रेप केस मामले में एक के बाद एक चौकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. न्यूज स्टेट की टीम ने जब विधायक के घर पर जाकर छानबीन की तो पता चला कि विधायक का परिवार लगातार पीड़िता पर नजर रखे हुए था.

By : Yogendra Mishra | Updated on: 02 Aug 2019, 04:57:58 PM
कुलदीप सेंगर (फाइल फोटो)

उन्नाव:

उन्नाव रेप केस मामले में एक के बाद एक चौकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. न्यूज स्टेट की टीम ने जब विधायक के घर पर जाकर छानबीन की तो पता चला कि विधायक का परिवार लगातार पीड़िता पर नजर रखे हुए था. नजर रखने के लिए विधायक और उसके परिवार के लोगों ने सीसीटीवी कैमरों का सहारा लिया हुआ था.

विधायक के घर की दीवार में कई सीसीटीवी कैमरे लगे हैं. कैमरों का एंगल ऐसा है जो सीधे तौर पर रेप पीड़िता के घर पर निगाह बनाए हुए थे. यानी रेप पीड़िता की हर रोज निगरानी की जा रही थी. वह कब आ रही है. कब जा रही है. कब उसके साथ सुरक्षा कर्मी हैं.

यह भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद एक्शन मोड में CBI, 60 पुलिसकर्मियों से हुई पूछताछ 

कब सुरक्षा कर्मियों की शिफ्ट बदल रही है. जैसी तमाम जानकारियों का कुलदीप सेंगर के पास होने का अनुमान लगाया जा रहा है. इस मामले में जांच एजेंसियां अहम खुलासे कर सकती हैं.

नंबर प्लेट छिपाने में हुआ नया खुलासा

न्यूज स्टेट की टीम ने ट्रक का फाइनेंस करने वाली कंपनी से बात की. कानपुर ब्रांच के कलेक्शन मैनेजर शशि कुमार ने बताया कि फाइनेंस कंपनी से उनके कई ट्रक फाइनेंस पर हैं. एक ट्रक की पूरी किश्त भी चुकाई गई है. लेकिन ट्रक के मालिक देवेंद्र किशोर को कभी भी कंपनी ने पैसों के लिए परेशान नहीं किया है.

यह भी पढ़ें- काशी विश्वनाथ मंदिर में चढ़ाये गये फूल, धतूरा व बेलपत्र से बनेगी अगरबत्ती, महकेगा आपका घर 

उन्होंने आगे बता कि दुर्घटना वाले दिन नंबर प्लेट पर क्यों लगाई गई है इसका उन्हें पता नहीं है. लेकिन कंपनी की तरफ से ऐसा कोई भी दबाव नहीं था कि ट्रक के मालिक को नंबर प्लेट को छुपा कर ट्रक चलाना पड़े. नंबर प्लेट को छुपाना उनकी कोई पर्सनल प्रॉब्लम रही होगी.

यह भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट का आदेश- 'उन्नाव रेप पीड़िता के चाचा को रायबरेली जेल से तिहाड़ जेल शिफ्ट किया जाए'

फतेहपुर निवासी ट्रक मालिक देवेंद्र ने एक बयान में बोला था, कि वह ट्रक की किस्तें नहीं चुका पा रहा था. इसलिए फायनेंसर से बचने के लिए ट्रक की नम्बर प्लेट पर ग्रीस लगाई थी. लेकिन ये बात फायनेंसर के बयान से सरासर झूठ साबित हुई है.

First Published : 02 Aug 2019, 04:34:33 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.