News Nation Logo
Banner

CAA Protest: सीलमपुर हिंसा में गिरफ्तार 11 आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत

CAA Protest: सीलमपुर हिंसा में गिरफ्तार 11 आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत

न्‍यूज स्‍टेट ब्‍यूरो | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 21 Dec 2019, 06:31:17 PM
नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन करते लोग

नई दिल्‍ली:  

दिल्ली के सीलमपुर इलाके में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन करने के बहाने हिंसा फैलाने वाले 11 आरोपियों को अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. आरोपियों की ओर से पेश किए गए सीनियर एडवोकेट रेबेका जॉन एड मामले में कहा कि इस मामले में सभी आरोप ज़मानती है. रेबेका ने कहा कि इस बात की संभावना है कि वो नमाज अता करने के लिए इकट्ठे हुए हो लेकिन पुलिस ने जिसे देखो, उसे गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तार आरोपियों में से एक की उम्र 15 वर्ष है. जब अदालत ने उसकी उम्र जानने के लिए उसकी आईडी मांगी तब उसने जवाब दिया कि उसकी आईडी उसके फोन में है और वो पुलिस के कब्जे में है.

वहीं पुलिस अधिकारियों ने इस बात का दावा किया है कि इस लड़के की उम्र 15 वर्ष नहीं बल्कि 23 वर्ष है. आरोपियों के वकील ने कहा कि  ये डेली वेज पर काम करते है, कारपेंटर है. वो एक दूसरे को जानते तक नहीं है, फिर कॉमन इंटेंशन  कैसे हो सकता है । वो वहाँ नमाज़ पढ़ने के लिए आये थे और पुलिस ने जिसे चाहा, उसे पकड़ लिया पुलिस का मकसद बस उन्हें किसी तरह कस्टडी में रखना है. वहीं सरकार वकील ने कहा कि सीलमपुर हिंसा मामले में अभी जांच जारी है. प्रदर्शनकारियों ने पुलिसकर्मियों पर पत्थरबाजी की सार्वजनिक सम्पति को नुकसान पहुंचाया गाड़ियां फूंकी गई एक सुनियोजित साजिश के तहत ये सब हुआ  इसलिए कोर्ट से आग्रह किया कि सभी आरोपियों को जेल भेजा जाए.

आपको बता दें कि उत्तर पूर्वी दिल्ली में मंगलवार को पुलिस और सीएए (CAA Protest) विरोधी प्रदर्शनकारियों के बीच हुए संघर्ष में भीड़ ने पुलिस पर खुल कर 'पेट्रोल-बम (Petrol Bomb)' फेंके थे. ये बम देसी फार्मूले से बनाए गए थे. इन बमों को बनाने के लिए ज्यादा सामान की जरूरत नहीं पड़ती है. एक जगह से दूसरी जगह लाने ले जाने में भी ज्यादा जोखिम नहीं रहता है और इनका हमला कई गुना ज्यादा प्रभावी और घातक होता है.

उत्तर पूर्वी दिल्ली जिला पुलिस के एक उच्चाधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर शनिवार को मीडिया को बताया, "गिरफ्तार हमलावर का नाम रहीस (Rahees) है. उसके साथ उसके साथी हसन (Hasan) को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. दरअसल रहीस ने मंगलवार को खुलकर पब्लिक और पुलिस के ऊपर देसी स्टाइल में तैयार इन पेट्रोल-बम का इस्तेमाल किया था. तमाम लोग हमले में घायल हुए थे. रहीस को हाथ में कुछ लेकर भागते हुए देखे जाने के वीडियो भी सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल हुए थे."

First Published : 21 Dec 2019, 04:52:32 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.