News Nation Logo
Banner

बसपा, सपा सांप्रदायिक नफरत पैदा कर समाज को बांट रही है : कौशल किशोर

बसपा, सपा सांप्रदायिक नफरत पैदा कर समाज को बांट रही है : कौशल किशोर

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 08 Aug 2021, 11:40:01 AM
BSP, SP

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   भाजपा आगामी चुनावों की तैयारी कर रही है। इस बीच, आवास और शहरी मामलों के राज्य मंत्री कौशल किशोर का दावा है कि मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी दोनों (सपा) समाज में फूट पैदा कर रहे हैं।

किशोर ने आईएएनएस को दिए एक विशेष साक्षात्कार में आरोप लगाया कि जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं, उन्होंने जाति विशेष के कार्यक्रमों का आयोजन कर लोगों को जाति और धर्म के नाम पर लामबंद करना शुरू कर दिया है। वे लोगों के बीच सांप्रदायिक नफरत भी पैदा कर रहे हैं और अपने छोटे-छोटे राजनीतिक फायदे के लिए समाज को बांट रहे हैं।

नीचे साक्षात्कार के अंश दिए गए हैं।

प्रश्न: क्या आपको लगता है कि अगले साल होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में जाति एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी क्योंकि यह देखा गया है कि समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव और बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती दोनों ने जाति समीकरण पर खेलना शुरू कर दिया है।

उत्तर: दोनों नेता जाति और सांप्रदायिक आधार पर लोगों को भड़का रहे हैं और वे अपने मिशन में सफल नहीं होंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में, केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास के एकमात्र उद्देश्य के साथ एक समावेशी समाज के लिए काम कर रही है।

प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जाति और धर्म के आधार पर लोगों में फर्क नहीं कर रहे हैं। वे नागरिकों के जीवन को बेहतर और खुशहाल बनाने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं। भारत को वैश्विक लीडर बनाने के लिए प्रधानमंत्री जी-तोड़ मेहनत कर रहे हैं।

प्रश्न: एसपी और बीएसपी का जाति और धर्म के आधार पर लोगों को भड़काने से आपका क्या मतलब है?

उत्तर: जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं, उन्होंने जाति और धर्म के नाम पर लोगों को लामबंद करना शुरू कर दिया है। उन्होंने समाज को बांटने के लिए जाति विशेष के कार्यक्रम आयोजित करना शुरू कर दिया है। वे लोगों के बीच सांप्रदायिक नफरत भी पैदा कर रहे हैं। आपको बता दूं, मायावती विधानसभा चुनाव जीतने के लिए केवल बीएमडी (ब्राह्मण, मुस्लिम और दलित) की बात कर रही हैं, जबकि अखिलेश और सपा बीएमवाई (ब्राह्मण, मुस्लिम और यादव) के समर्थन से मुख्यमंत्री बनने का सपना देख रहे हैं। मैं बस इतना पूछना चाहता हूं कि क्या उन्हें दूसरे समुदायों के वोटों की जरूरत नहीं है। वे अपने छोटे-छोटे राजनीतिक फायदे के लिए समाज को बांट रहे हैं।

मायावती बीएमडी पर ध्यान केंद्रित करते हुए 52 फीसदी अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) और अन्य समुदायों की अनदेखी कर रही हैं। मैं आपको बताता हूं कि दलितों ने उन्हें और बसपा को छोड़ना शुरू कर दिया है और उनके पास 20 फीसदी से भी कम दलितों का समर्थन बचा है। ब्राह्मणों का पांच प्रतिशत समर्थन प्राप्त करना उनके लिए एक बड़ी उपलब्धि होगी।

इसी तरह अखिलेश कह रहे हैं कि सपा को बीएमवाई के वोट चाहिए। अखिलेश को दलितों और गैर-यादव ओबीसी का वोट और समर्थन नहीं चाहिए।

भाजपा ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो सभी को एक साथ लाने के लिए काम कर रही है, समर्थन और सेवा के लिए उनका आशीर्वाद मांग रही है।

मायावती और अखिलेश क्रमश: डॉ बी आर अंबेडकर और राम मनोहर लोहिया के अनुयायी हैं। लेकिन वे अपने आदशरें की शिक्षाओं का पालन क्यों नहीं कर रहे हैं। वे समाज में विभाजन पैदा कर रहे हैं, जबकि भाजपा सभी को एक साथ लाने का काम कर रही है।

प्रश्न: अखिलेश और मायावती द्वारा डॉ अंबेडकर और डॉ लोहिया की शिक्षाओं का पालन नहीं करने से आपका क्या मतलब है?

उत्तर: वे डॉ. अम्बेडकर और डॉ. लोहिया के नाम लेते रहते हैं लेकिन उनके शिक्षण या सिद्धांतों की परवाह नहीं करते हैं। वे सिर्फ डॉ अंबेडकर और डॉ लोहिया के नाम का इस्तेमाल कर सत्ता हासिल करना चाहते हैं।

जय भीम के नारे का डॉ अंबेडकर के विचारों से कोई लेना-देना नहीं है। डॉ अंबेडकर ने जाति विहीन समाज (जातिविहीन समाज) के बारे में बात की, लेकिन उनकी राजनीति का तरीका, मायावती ने जाति के आधार पर समाज में विभाजन पैदा किया है। मायावती की राजनीति डॉ अंबेडकर की जातिविहीन समाज की बुनियादी शिक्षा के खिलाफ है।

मायावती डॉ अम्बेडकर के सपनों को हाथी के जोड़े के नीचे कुछ तो रही है (मायावती डॉ अंबेडकर की ²ष्टि को हाथी के पैरों तले कुचल रही हैं)।

लोहिया ने अपने पूरे जीवन में समाज के अंतिम व्यक्ति के चेहरे पर मुस्कान लाने की बात की, लेकिन अखिलेश और उनकी पार्टी ने महान नेता के इस सपने को पूरा करने के लिए कुछ नहीं किया। अखिलेश ने लोहिया के विचारो का साइकिल से दुर्घटना करा दिया (अखिलेश की साइकिल लोहिया के विचारों पर दौड़ गई)।

अखिलेश और मायावती दोनों ने मिलकर दो दशकों से ज्यादा समय तक राज्य पर शासन किया और क्या वे लोगों को बताएंगे कि उन्होंने पानी, बिजली, स्वास्थ्य आदि जैसी बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए क्या किया है। वे राज्य के विकास और लोगों के जीवन में सुधार करने में विफल रहे साथ ही जाति सहित, जिसके बारे में वे बात कर रहे हैं।

प्रश्न: क्या आप कह रहे हैं कि उन्होंने अपने शासन के दौरान कुछ नहीं किया?

उत्तर: उन्होंने निरंतर बिजली या पानी की आपूर्ति प्रदान करने या सभी के लिए आवास सुनिश्चित करने के लिए कुछ नहीं किया जिसमें वे समुदाय भी शामिल हैं जो उनका समर्थन करते हैं। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भाजपा सरकार ने सभी के लिए ये सभी बुनियादी सुविधाएं सुनिश्चित कीं।

सौभाग्य के तहत, मोदी सरकार ने हर घर में बिजली कनेक्शन सुनिश्चित किया है, योगी आदित्यनाथ सरकार ने गांवों में पहले अधिकतम आठ घंटे से कम से कम 18 घंटे बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित की है। भाजपा सरकार 2022 तक हर घर में नल के पानी की आपूर्ति, सभी के लिए आवास, सभी के लिए शौचालय सुनिश्चित कर रही है और कल्याणकारी पहलों की एक लंबी सूची है।

कोविड के दौरान, मोदी सरकार ने 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन प्रदान किया। बुनियादी ढांचे के विकास के अलावा, भाजपा सरकार ने पिछले साढ़े चार वर्षों में राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति में सुधार किया है। हम तीन दिनों की जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार के कामों के बारे में लोगों को बताने जा रहे हैं।

प्रश्न: विधानसभा चुनाव में भाजपा का क्या एजेंडा होगा?

उत्तर: हम उन लोगों का आशीर्वाद लेने जा रहे हैं जिन्होंने भाजपा को उनकी सेवा करने का अधिकार दिया। केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार सत्ता में आने के बाद लोगों के लिए काम कर रही है और भविष्य में भी ऐसा ही करती रहेगी।

उत्तर प्रदेश में, हम काम का विवरण सूचीबद्ध करेंगे और लोगों को यह भी बताएंगे कि अगर विपक्षी दल सत्ता में आते हैं तो यह काम बंद हो जाएगा क्योंकि विकास और कल्याण उनके एजेंडे में कभी नहीं होता है।

हम उनसे उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार को वापस लाने के लिए कहेंगे जिससे चल रहे विकास को जारी रखा जा सके और भविष्य में और नई पहल की जा सके।

हम लोगों को कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन करने की अपील के साथ तीसरी लहर के लिए सरकार की तैयारियों के बारे में भी बताएंगे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 08 Aug 2021, 11:40:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.