News Nation Logo
बहादुरगढ़ के बादली के पास तेज़ रफ़्तार कार और ट्रक की टक्कर में एक ही परिवार के 8 लोगों की मौत उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव: कल शाम छह बजे सोनिया गांधी के आवास पर कांग्रेस सीईसी की बैठक राष्ट्रपति कोविन्द अपनी तीन दिवसीय बिहार यात्रा के अंतिम दिन गुरुद्वारा पटना साहिब, महावीर मंदिर गए छत्तीसगढ़ः राजनांदगांव में आईटीबीपी के 21 जवानों को फूड प्वाइजनिंग, अस्पताल में भर्ती कराया गया ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने लगातार तीसरे दिन पेट्रोल और डीजल को महंगा किया राजधानी दिल्ली में पेट्रोल का दाम बढ़कर 106.89 रुपये प्रति लीटर हुआ युद्ध जारी रहते कवच नहीं उतारते यानी मास्क को सहज स्वभाव बनाएंः पीएम मोदी हरियाणा के बहादुरगढ़ में दो कारों में भीषण भिड़ंत, 8 लोग मरे आर्यन और अनन्या की गांजे को लेकर चैट आई सामने, अनन्या का जवाब - मैं अरेंज कर दूंगी आर्यन खान की चैट के आधार पर एनसीबी आज फिर करेगी अनन्या पांडे से पूछताछ पुंछ में आतंकियों पर सुरक्षा बलों का घेरा कसा. आज या कल खत्म कर दिए जाएंगे आतंकी दूत जम्मू-कश्मीर दौरे से पहले गृह मंत्री अमित शाह की आईबी-एनआईए संग हाई लेवल बैठक आज आज फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, 35 पैसे प्रति लीटर का हुआ इजाफा

बिहार में पुलिस टीमों पर हमले बढ़े, एडीजी की अध्यक्षता में हुई बैठक में खुलासा

बिहार में पुलिस टीमों पर हमले बढ़े, एडीजी की अध्यक्षता में हुई बैठक में खुलासा

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 10 Oct 2021, 12:20:01 PM
Brazen attack

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

पटना: बिहार देश के उन कुछ राज्यों में शामिल है जहां अपराधी पुलिस कर्मियों पर खुलेआम और दिनदहाड़े हमला करने से नहीं हिचकिचाते हैं।

बिहार में पुलिस टीमों पर हमले के कई उदाहरण हैं जहां शराब माफिया, रेत माफिया, बाहुबली (बलवान), कुख्यात अपराधियों के अलावा राजनीतिक नेता पुलिस पर हमला करने में शामिल होते है।

3 अक्टूबर को गोविंदपुर थाना क्षेत्र के लखपत बीघा गांव में एक शराब माफिया ने छापेमारी कर एक एसएचओ समेत छह पुलिसकर्मी घायल हो गए थे।

गोविंदपुर थाने के एसएचओ नरेंद्र प्रसाद ने कहा कि हमें पता चला कि लखपत बीघा में एक देशी शराब निर्माण इकाई चालू थी। हमने छापेमारी की और शराब इकाई में मौजूद कुछ लोगों को गिरफ्तार किया। जब हम थाने लौट रहे थे, तो महिलाओं सहित शराब माफिया ने हम पर हमला कर दिया।

शराब माफिया ने गांव की बिजली काट दी और पुलिस टीम पर पथराव कर दिया। उन्होंने पुलिस कर्मियों को डंडों और लोहे की रॉड से भी पीटा। वे गिरफ्तार लोगों को पुलिस वैन से छुड़ाने में सफल रहे। शराब निर्माण इकाई को बुधन यादव और उनके पिता राम बृक्ष यादव चलाते थे।

उसी दिन (3 अक्टूबर) को सीतामढ़ी जिले में एक नवनिर्वाचित मुखिया (ग्राम प्रधान) के समर्थकों ने एक पुलिस दल पर पथराव किया और उन्हें डंडों से भी पीटा।

वहीं नानपुर थाना क्षेत्र के गौरी गांव में योगेंद्र मंडल के समर्थक डीजे बजाकर उनकी जीत का जश्न मना रहे थे। जब अन्य ग्रामीणों ने इसकी शिकायत की, तो एएसआई आरके यादव के नेतृत्व में एक पुलिस टीम गांव पहुंची और जश्न मनाने वालों से आवाज कम करने को कहा, लेकिन उन पर हमला कर दिया गया।

हमले का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। जिला एसपी प्रमोद कुमार यादव ने कहा कि वर्तमान में उपलब्ध वीडियो फुटेज के आधार पर आरोपियों की पहचान चल रही है। उसके अनुसार मामला दर्ज किया जाएगा।

पटना पुलिस और नगर निगम की एक संयुक्त टीम पर मलाही पकड़ी इलाके में भी हमला किया गया, अतिक्रमणकारियों ने पुलिस पर पथराव किया और उन पर डंडों, बेसबॉल बैट और हॉकी स्टिक से पीटा भी।

अतिक्रमणकारियों को सड़क से हटाने के लिए मौके पर पुलिस की टीम पहुंची थी। ग्रामीणों ने हालांकि दावा किया कि वे कई वर्षों से इस क्षेत्र में रह रहे थे और पुलिस दल यहां उनकी झोपड़ियों को हटाने के लिए आए थे।

बिहार पुलिस के एक अधिकारी के मुताबिक इस साल अगस्त में पुलिस टीमों पर हमले के 24 मामले सामने आए। एडीजी (कानून व्यवस्था) विनय कुमार की अध्यक्षता में बिहार पुलिस की मासिक बैठक में यह खुलासा हुआ है।

गया, वैशाली और नालंदा जिलों में तीन-तीन मामले दर्ज किए गए। नवादा, औरंगाबाद और बेगूसराय में दो-दो और पूर्णिया, खगड़िया, बांका, बाघा, दरभंगा, गोपालगंज, सीवान, कटिहार और मुजफ्फरपुर जिलों में एक-एक मामला दर्ज किया गया।

हमने जिलों के सभी एसपी और एसएसपी को पुलिस कर्मियों पर हमले में शामिल व्यक्तियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। हर जिले में कानून व्यवस्था बनाए रखना बेहद जरूरी है ताकि ऐसी घटनाएं न हों। हमने शीर्ष से भी पूछा है हर जिले के अधिकारी शराब निर्माण इकाइयों पर छापेमारी, बालू माफिया के खिलाफ कार्रवाई या आरोपी व्यक्तियों को गिरफ्तार करने से पहले पूरी तैयारी सुनिश्चित करें।

एडीजी ने कहा कि बड़े छापे के मामले में, डीएसपी रैंक के अधिकारियों को छापेमारी टीमों का नेतृत्व करना चाहिए और अधिकारियों को एसपी और एसएसपी को अग्रिम रूप से छापे की सूचना देनी चाहिए। हमने आरोपियों के खिलाफ त्वरित सुनवाई और मुकदमा चलाने की भी मांग की है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 10 Oct 2021, 12:20:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.