News Nation Logo

बोडोलैंड विवाद पर लगेगा पूर्ण विराम, बोडो संगठनों और मोदी सरकार में समझौता

सोमवार को गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में असम सरकार के साथ बोडो संगठनों ने समझौता किया है जिसके तहत अब बोडोलैंड की मांग नहीं की जाएगी

News Nation Bureau | Edited By : Aditi Sharma | Updated on: 27 Jan 2020, 04:30:22 PM
गृह मंत्री अमित शाह

गृह मंत्री अमित शाह (Photo Credit: फोटो- ani)

नई दिल्ली:

पिछले लंबे समय से चल रहे बोडोलैंड विवाद पर पूर्ण विराम लगने वाला है. दरअसल मोदी सरकार और बोडो संगठनों के बीच एक समझौता हुआ है जिसके तहत  0पिछले लंबे समय से चल रही बोडोलैंड की मांग पर रोक लगेगी. दरअसल असम में लंबे समय से एक अलग बोडोलैंड की मांग चल रही थी लेकिन अब इसकी मांग करने वाले चारों गुटों ने हिंसा का रास्ता छोड़ने का फैसला कर लिया है.

यह भी पढ़ें: शाहीन बाग प्रदर्शन पर CM अरविंद केजरीवाल ने कहा- बीजेपी नहीं चाहती है कि यह रास्ता खुले

सोमवार को गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में असम सरकार के साथ बोडो संगठनों ने समझौता किया है जिसके तहत अब बोडोलैंड की मांग नहीं की जाएगी. नेशनल डेमोक्रेटिक फेडरेशन ऑफ बोडोलैंड (NDFB) के नेतृत्व में पूर्वोत्तर में अलग राज्य की मांग की जा रही थी लेकिन अब इस पर रोक लगाने का फैसला लिया गया है.

यह भी पढ़ें: CAA Protest: शाहीन बाग के बाद अब मुंबई में न्यूज नेशन के वीडियो जर्नलिस्ट से मारपीट

समझौते के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, आज केंद्र, असम सरकार और बोडो प्रतिनिधियों ने एक महत्वपूर्ण समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं. यह समझौता असम के लिए और बोडो लोगों के लिए एक सुनहरा भविष्य सुनिश्चित करेगा. उन्होंने कहा, 130 हथियारों के साथ 1550 कैडर 30 जनवरी को आत्मसमर्पण करेंगे. गृह मंत्री के रूप में, मैं सभी प्रतिनिधियों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि सभी वादे समयबद्ध तरीके से पूरे होंगे. वहीं इस मसले पर दिल्ली में असम के मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा का बयान भी सामने आया है. उन्होंने कहा है कि बोडो समाज के सभी हितधारकों ने असम की क्षेत्रीय अखंडता की पुष्टि करते हुए इस समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.

बता दें, साल 1987 में इसको लेकर चल रहा आंदोलन हिंसक बन गया था जिसमें 2823 लोगों की मौत हो गई. इसके अलावा 949 बोडो काडर के लोग और 239 सुरक्षाबल भी मारे गए.

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 27 Jan 2020, 02:19:57 PM