News Nation Logo
Banner

अयोध्या पर फैसले से कुछ नेताओं के पेट में होगा दर्द, दिग्विजय सिंह को बीजेपी का जवाब

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बाबरी मस्जिद विध्वंस को लेकर सवाल उठाने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह को भारतीय जनता पार्टी ने करारा जवाब दिया है.

By : Dalchand Kumar | Updated on: 10 Nov 2019, 02:32:41 PM
दिग्विजय सिंह

दिग्विजय सिंह (Photo Credit: फाइल फोटो)

भोपाल:

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बाबरी मस्जिद विध्वंस को लेकर सवाल उठाने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह को भारतीय जनता पार्टी ने करारा जवाब दिया है. दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर पलटवार करते हुए बीजेपी नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री विश्वास सारंग ने उनसे पूछा कि हर वर्ग ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को माना है. सभी ने फैसले का स्वागत किया है तो फिर कांग्रेस के इस दिग्गज नेता को प्रदेश में अमन शांति पंसद नहीं है क्या ?

यह भी पढ़ेंः  अयोध्या फैसलाः भोपाल में 5 लोगों पर रासुका की कार्रवाई तो 18 किए गए जिला बदर

पूर्व मंत्री विश्वास सारंग ने कहा, 'कुछ लोग इस देश में विघटन की राजनीति को आगे बढ़ाना चाहते हैं. कुछ नेताओं के तो पेट में दर्द होगा, क्योंकि विघटन की राजनीति किए बिना उन्हें चैन नहीं मिलता. सारंग ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने इस देश में सैकड़ों साल पुरानी समस्या का हल किया है. सभी ने फैसले का स्वागत किया है.'

इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने आज सुबह ट्वीट कर बाबरी मस्जिद विध्वंस को लेकर बड़ा सवाल खड़ा किया. उन्होंने कहा, 'राम जन्म भूमि के निर्णय का सभी ने सम्मान किया हम आभारी हैं. कांग्रेस ने हमेशा से यही कहा था हर विवाद का हल संविधान द्वारा स्थापित कानून व नियमों के दायरे में ही खोजना चाहिए. विध्वंस और हिंसा का रास्ता किसी के हित में नहीं है.' कांग्रेस नेता ने कहा, 'माननीय उच्चतम न्यायालय ने राम जन्म भूमि फैसले में बाबरी मस्जिद को तोड़ने के कृत्य को गैर कानूनी अपराध माना है. क्या दोषियों को सजा मिल पाएगी ? देखते हैं. 27 साल हो गए.'

यह भी पढ़ेंः अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद नाखुश, कही ये बड़ी बात 

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को अयोध्या में विवादित 2.77 एकड़ भूमि हिंदुओं को देकर भगवान राम के भव्य मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ कर दिया और मुस्लिमों को मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ भूमि देने का आदेश सुनाया. मगर बाबरी मस्जिद का ढांचा गिराए जाने के मामले में फैसला आना अभी बाकी है. संभावना है कि अप्रैल 2020 तक इस मामले में कोर्ट अपना फैसला सुना सकता है. इस मामले की सुनवाई लखनऊ की विशेष अदालत चल रही है. सबसे अहम बात यह है कि इस मामले में बीजेपी के लाल कृष्ण आडवाणी, कल्याण सिंह, उमा भारती और मुरली मनोहर जोशी समेत कई और बड़े नेता आरोपी हैं.

यह वीडियो देखेंः 

First Published : 10 Nov 2019, 02:30:42 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.