News Nation Logo

संसद में नहीं हुआ काम, BJD सांसद पांडा नहीं लेंगे सैलरी

संसद में हंगामें से नाराज बीजेडी के सांसद बिजयंत जय पांडा ने अपना वेतन नहीं लेने की पेशकश की है।

News Nation Bureau | Edited By : Jeevan Prakash | Updated on: 18 Dec 2016, 06:59:02 PM
बिजयंत जय पांडा (Image Source- Getty Images)

highlights

  • संसद के शीतकालीन सत्र नहीं चलने से कई सांसद नाराज
  • बीजेपी सांसद बिजयंत जय पांडा ने सैलरी नहीं लेने की पेशकश की
  • शीतकालीन सत्र में मात्र 15% और राज्यसभा में 17% हुआ काम

नई दिल्ली:

संसद के शीतकालीन सत्र नहीं चलने से कई वरिष्ठ सांसद मायूस हैं। बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी मुखर रूप से सदन नहीं चलने को लेकर नाराजगी जता चुके हैं वहीं कई अन्य सांसद हैं जो दबी जुबान से शीतकालीन सत्र के नहीं चलने पर नाराजगी जताई है। इस बीच उड़ीसा बीजू जनता दल (बीजेडी) के सांसद बिजयंत जय पांडा ने अपना वेतन नहीं लेने की पेशकश की है।

उड़ीसा के केंद्रापारा से सांसद पांडा ने संसद की शीतकालीन सत्र के ठप रहने के बाद अपना वेतन लौटाने की बात की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'संसद ना चलने से जो समय का नुकसान हुआ है उसके मद्देनजर मैं हमेशा की तरह अपने वेतन को लौटाने की पेशकश करता हूं।'

उन्होंने कहा, लोकसभा की कार्यवाही का जितना हिस्सा हंगामें की भेंट चढ़ता है, उसी अनुपात में वह अपने वेतन और भत्तों को लौटा देते हैं।'

16 नवंबर से शुरू होकर 16 दिसंबर तक चले संसद की शीतकालीन सत्र नोटबंदी की वजह से ज्यादातर समय बाधित रही। पीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च के मुताबिक, शीतकालीन सत्र में लोकसभा में 15 प्रतिशत और राज्यसभा में 17 प्रतिशत ही काम हो सका है। मोदी सरकार के ढाई साल के कार्यकाल के दौरान संसद में सबसे कम काम हुआ।

और पढ़ें: संसद में हो रहे हंगामे से दुखी हैं लालकृष्ण आडवाणी, कहा इस्तीफ़ा देने को जी चाहता है

और पढ़ें: थिंक टैंक PRS के मुताबिक संसद के शीतकालीन सत्र में पिछले 15 सालों में सबसे कम काम हुआ

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 18 Dec 2016, 06:28:00 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो