News Nation Logo
एकनाथ शिंदे ने आगे की रणनीति पर चर्चा के लिए दोपहर 2 बजे गुवाहाटी के होटल में बैठक बुलाई भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 17,073 नए मामले सामने आए दिल्ली हाईकोर्ट के नए मुख्य न्यायाधीश सतीश चंद्र शर्मा को आज LG दिलाएंगे शपथ महाराष्ट्र: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुलाई कैबिनेट बैठक, 2.30 बजे होगी मीटिंग असम : एकनाथ शिंदे गुवाहाटी स्थित कामाख्या मंदिर पहुंचे भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 14,506 नए मामले सामने आए महाराष्ट्र: कल होगा फ्लोर टेस्ट, राज्यपाल ने बुलाया विधानसभा का विशेष सत्र असम बाढ़ के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में 51 लाख रुपए दान करेंगे एकनाथ शिंदे बीजेपी के 164 विधायकों का दावा- देवेंद्र फडणवीस कल देर रात सीएम पद का शपथ ले सकते हैं बीजेपी के कोर ग्रुप के सदस्यों और विधायकों की बैठक देवेंद्र फडणवीस के घर शुरू

बिहार चुनाव : एआईएमआईएम और बसपा बन सकती हैं किंगमेकर, जानें पूरा गणित

इस बीच ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और निर्दलीय उम्मीदवारों की अहमियत बढ़ गई है और वे किंगमेकर की भूमिका निभा सकते हैं.

IANS | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 11 Nov 2020, 12:33:43 AM
owaisi

असदुद्दीन ओवैसी (Photo Credit: आईएएनएस)

नई दिल्ली:  

बिहार विधानसभा चुनाव के परिणाम को लेकर मतगणना जारी है. अभी तक जो रुझान सामने आए हैं, उनमें राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) बढ़त बनाए हुए है, मगर अभी भी तस्वीर पूरी तरह से साफ नहीं हुई है और इसकी बहुमत के जादुई आंकड़े को छूने के लिए राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेतृत्व वाले महागठबंधन के साथ कांटे की टक्कर चल रही है. इस बीच ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और निर्दलीय उम्मीदवारों की अहमियत बढ़ गई है और वे किंगमेकर की भूमिका निभा सकते हैं.

राजग बेशक महागठबंधन के मुकाबले बढ़त हासिल किए हुए है, मगर इसके बावजूद, अभी तक यह स्पष्ट नहीं है किवह 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा में बहुमत के आंकड़े (122 सीट) तक पहुंच जाएगी.

अगर रुझानों में गठबंधन से अलग अकेली पार्टी की बात की जाए तो राजद सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरती दिखाई दे रही है और उसके नेताओं का कहना है कि वे राज्यपाल से मिलकर कानूनी रूप से बिहार में सरकार बनाने के लिए दावा करेंगे.

अगर कोई भी गठबंधन बहुमत हासिल नहीं कर पाता है तो फिर असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम, बहुजन समाज पार्टी और अन्य निर्दलीय नेताओं की भूमिका काफी मायने रखेगी. औवेसी की पार्टी एक सीट पर जीत दर्ज कर चुकी है और चार सीटों पर आगे चल रही है, जबकि बसपा एक सीट पर आगे चल रही है. इसके अलावा दो निर्दलीय भी उम्मीदवार महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं.

एआईएमआईएम अपनी भगवा विरोधी विचारधारा के कारण अहम भूमिका निभा सकती है, भले ही ओवैसी को सीमांचल के अल्पसंख्यक बहुल गढ़ में राजद को कमजोर करने के लिए तेजस्वी यादव ने उन्हें निशाना बनाया हो.

First Published : 10 Nov 2020, 11:38:52 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.