News Nation Logo
Banner
Banner

गुजरात में भारत बंद को मिली मिली-जुली प्रतिक्रिया

गुजरात में भारत बंद को मिली मिली-जुली प्रतिक्रिया

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 27 Sep 2021, 09:00:01 PM
Bengaluru Farmer,

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

गांधीनगर 27 सितंबर: तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ 40 से अधिक किसान संघों के संगठन संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) द्वारा सोमवार को बुलाए गए भारत बंद को गुजरात के विभिन्न हिस्सों से मिली-जुली प्रतिक्रिया मिली। राजमार्गो के अवरुद्ध होने से कुछ समय के लिए यातायात प्रभावित हुआ।

एसकेएम की घोषणा के अनुसार, बंद सुबह छह से शाम चार बजे तक था, जिसे राज्य में मिली-जुली प्रतिक्रिया मिली।

बंद का शहरी इलाकों में बहुत कम या लगभग कोई असर नहीं पड़ा, जबकि कुछ जगहों पर विरोध प्रदर्शन हुए। आर्थिक राजधानी अहमदाबाद में कुछ जगहों को छोड़कर बाकी जगह सब्जी विक्रेताओं ने स्वेच्छा से बंद का समर्थन किया।

भरूच जिले में जिला कांग्रेस पार्टी, किसान संगठन और आम आदमी पार्टी (आप) द्वारा विरोध प्रदर्शन किया गया। पुलिस ने एबीसी सर्किल में एकत्रित कई कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया, जबकि कुछ को चक्काजाम कॉल से पहले पुलिस ने रोक दिया।

सूरत शहर में संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से बंद का आह्वान किया गया था। सूत्रों के मुताबिक, कडोडोरा रोड हाईवे पर टायर जलाने का प्रयास किया गया। हालांकि पुलिस ने प्रदर्शन से काफी पहले ही प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया।

इसी तरह सूरत जिले में, पुलिस ने कामरेज तालुका में राष्ट्रीय राजमार्ग को अवरुद्ध करने से पहले कई कांग्रेस और भारतीय किसान संघों के नेताओं को हिरासत में लिया। पुलिस के मुताबिक, करीब 25 लोगों को हिरासत में लिया गया और यातायात बहाल कर दिया गया।

सौराष्ट्र के उपलेटा में उपलेट किसान सभा द्वारा धरना प्रदर्शन किया गया, जिसमें केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई। वे तख्तियां लिए हुए भी नजर आए।

संयुक्त किसान मोर्चा के बंद को सुरेंद्रनगर के ग्रामीण इलाकों में आंशिक प्रतिक्रिया मिली। मुली तालुका, दुख की बात है, दुधई, भवानीगढ़ आदि सहित आसपास के गांवों के व्यापारियों और दुकानदारों ने अपने व्यवसाय और प्रतिष्ठान बंद कर दिए।

सूरत के ओलपाड इलाके में किसानों के एक समूह को विरोध शुरू करने से पहले ही हिरासत में ले लिया गया। हिरासत में लिए गए एक किसान ने कहा, हमारे विरोध शुरू करने से पहले ही पुलिस ने हमारे सभी सदस्यों को हिरासत में ले लिया। हमारी आवाज को दबाने के लिए सरकारी तंत्र का इस्तेमाल किया जा रहा है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 27 Sep 2021, 09:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.