News Nation Logo
Banner

अपनी अधिनायकवादी व्यवस्था को बरकरार रखने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं को नया रूप देना चाहता है बीजिंग

अपनी अधिनायकवादी व्यवस्था को बरकरार रखने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं को नया रूप देना चाहता है बीजिंग

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 04 Nov 2021, 03:55:02 PM
Beijing eek

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   बीजिंग चीनी राष्ट्र के महान कायाकल्प को प्राप्त करने के लिए अपनी रणनीति के एक महत्वपूर्ण घटक के रूप में अपनी अधिनायकवादी प्रणाली और राष्ट्रीय हितों के साथ बेहतर तालमेल बिठाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था को नए सिरे से आकार देना चाहता है।

अमेरिकी रक्षा विभाग (डीओडी) की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। रिपोर्ट के अनुसार, पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना (पीआरसी) की व्यापक राष्ट्रीय शक्ति, जिसमें सैन्य शक्ति भी शामिल है, उसका संग्रहण बीजिंग के लिए वैश्विक स्तर पर अपनी प्राथमिकताओं पर जोर देने के लिए शर्तों को निर्धारित करने के लिए आवश्यक है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2049 तक चीनी राष्ट्र के महान कायाकल्प को प्राप्त करने के लिए पीआरसी की राष्ट्रीय रणनीति पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को मजबूत करने की अपनी महत्वाकांक्षाओं के साथ गहराई से एकीकृत है।

पीआरसी ने लंबे समय से संयुक्त राज्य अमेरिका को एक प्रतियोगी के रूप में देखा है और वह शक्तिशाली राष्ट्रों के साथ भी प्रतिद्वंद्विता रखता है।

जैसा कि अंतरिम राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीतिक मार्गदर्शन में व्यक्त किया गया है, पीआरसी एकमात्र प्रतियोगी है, जो एक स्थिर और खुली अंतरराष्ट्रीय प्रणाली के लिए एक निरंतर चुनौती का सामना करने के लिए अपनी आर्थिक, राजनयिक, सैन्य और तकनीकी शक्ति को संयोजित करने में सक्षम है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पीआरसी अपनी महत्वाकांक्षाओं और इरादों को लेकर काफी स्पष्ट है।

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने 2017 में 19वीं पार्टी कांग्रेस में अपने भाषण के दौरान दो पीएलए आधुनिकीकरण लक्ष्यों को निर्धारित किया था, जिसमें 2035 तक पीएलए आधुनिकीकरण को मूल रूप से पूर्ण करना और 2049 तक पीएलए को एक विश्व स्तरीय सेना में बदलना शामिल है।

2020 के दौरान, पीएलए ने अपने महत्वाकांक्षी आधुनिकीकरण उद्देश्यों को आगे बढ़ाना जारी रखा, प्रमुख संगठनात्मक सुधारों को परिष्कृत किया और उन लक्ष्यों के अनुरूप अपनी युद्ध तैयारी में सुधार किया।

इसी दिशा में काम करते हुए पीएलए लंबी दूरी के सटीक हमले करने की क्षमता विकसित कर रही है, जिसमें तेजी से परिष्कृत स्थान तक पहुंच, काउंटरस्पेस और साइबर क्षमताएं भी शामिल हैं। यही नहीं, चीनी सेना अपनी परमाणु क्षमता को भी बड़े पैमाने पर तेजी से विस्तारित कर रही है।

2020 में, चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) ने 2027 में पीएलए आधुनिकीकरण के लिए एक नए मील के पत्थर की घोषणा की थी, जिसे मोटे तौर पर पीएलए की क्षमताओं के आधुनिकीकरण के रूप में समझा जाता है।

बता दें कि अमेरिकी रक्षा विभाग ने अपनी एक हालिया रिपोर्ट में यह भी कहा है कि पीएलए के परमाणु विस्तार की तेज गति पीआरसी (पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना) को 2027 तक लगभग 700 परमाणु हथियार रखने में सक्षम बना सकती है।

इसके साथ ही विभाग की रिपोर्ट में कहा गया है कि पीआरसी का इरादा 2030 तक कम से कम 1,000 परमाणु हथियार रखने का है - जो कि 2020 की चीन सैन्य शक्ति रिपोर्ट में अमेरिकी रक्षा विभाग द्वारा अनुमानित गति और आकार से अधिक है।

रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि चीन ने पहले ही एक परमाणु त्रय (तीनों ओर से सक्षम) स्थापित कर लिया है, जिसमें हवा, जमीन और समुद्र से ऐसी मिसाइलों को लॉन्च करने की क्षमता शामिल है।

रिपोर्ट में कहा गया है, पीआरसी ने परमाणु-सक्षम, हवा से लॉन्च की गई बैलिस्टिक मिसाइल के विकास और इसकी जमीन और समुद्र-आधारित परमाणु क्षमताओं में सुधार के साथ संभवत: पहले से ही एक नवजात परमाणु त्रय स्थापित कर लिया है।

इस साल की रिपोर्ट में चीनी सेना के रासायनिक और जैविक अनुसंधान प्रयासों पर एक खंड (सेक्शन) पेश किया गया है। इसमें कहा गया है कि चीन संभावित दोहरे उपयोग वाले अनुप्रयोगों (एप्लिकेशंस) के साथ जैविक गतिविधियों में लगा हुआ है और इससे जैविक और विषाक्त हथियार तथा रासायनिक हथियारों के बारे में चिंता पैदा हो गई है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 04 Nov 2021, 03:55:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.