News Nation Logo
Breaking
पहले बड़े मंगल के मौके पर लखनऊ में बजरंगबली के मंदिरों पर दर्शनार्थियों की भीड़ मैरिटल रेप का मामला SC पहुंचा, याचिकाकर्ता खुशबू सैफी ने दिल्ली HC के फैसले को SC में चुनौती दी मुंबई : कार्तिक चिदंबरम और उनसे जुडे ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी दिल्ली : कुतुबमीनार के कुव्वुतुल इस्लाम मस्जिद मामले की याचिका पर साकेत कोर्ट में सुनवाई टली मथुरा जिला अदालत में एक और याचिका, शाही ईदगाह मस्जिद को सील करने की मांग दाऊद के करीबी और 1993 मुंबई धमाकों के वॉन्टेड आरोपियों को गुजरात ATS ने पकड़ा हरिद्वार हेट स्पीच मामला : जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ़ वसिम रिज़वी को 3 महीने की अंतरिम जमानत जम्मू : म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन में गैर कानूनी लाउडस्पीकर बैन के प्रस्ताव के पारित होने पर हंगामा चिंतन शिविर के बाद हरियाणा कांग्रेस की कोर टीम आज शाम राहुल गांधी से करेगी मुलाकात वाराणसी कोर्ट में आज ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश नही होगी, तीन दिन का और समय मांगा जाएगा राजस्थान : पुलिस कांस्टेबल भर्ती में 14 मई की द्वितीय पारी की परीक्षा दोबारा ली जाएगी जम्मू कश्मीर : राजौरी इलाके के कई वन क्षेत्रों में भीषण आग, बुझाने में जुटे फायर टेंडर्स
Banner

अयोध्या विवाद पर बोले ओवैसी, सुप्रीम कोर्ट सुलझाए विवाद, बातचीत रास्ता नहीं

एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने रामजन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के सुझाव को खारिज करते हुए कहा है कि ये मालिकाना हक की लड़ाई है और इसका फैसला सिर्फ अदालत ही कर सकती है।

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Tripathi | Updated on: 21 Mar 2017, 06:03:57 PM

नई दिल्ली:  

एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने रामजन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के सुझाव को खारिज करते हुए कहा है कि ये मालिकाना हक की लड़ाई है और इसका फैसला सिर्फ अदालत ही कर सकती है।  

अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी पर जहां संघ और बीजेपी ने खुशी जताई है वहीं कई मुस्लिम संगठनों और इस्नेलामी धर्म गुरुओं ने इस सुझाव को खारिज कर दिया है।

और पढ़ें: अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी का RSS-BJP ने किया स्वागत, मुस्लिम संगठनों ने जतायी नाखुशी

असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर कहा कि बाबरी मस्जिद का मामला मालिकान हक का है, जिस पर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने पार्टनरशिप का गलत फैसला दिया था। इसी कारण सुप्रीम कोर्ट में अपील की गई थी। 

ओवैसी ने कहा, 'शायद सुप्रीम कोर्ट को ये नहीं पता है कि 6 बातचीत हुई लेकिन कोई फैसला नहीं निकला। इसलिए अब आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का ये फैसला है कि कोई बातचीत नहीं होगी। जो भी फैसला लेना है वो कोर्ट तय करे।'

और पढ़ें: अयोध्या विवाद: सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, दोनों पक्ष मिलकर हल निकालें

उन्होंने कहा, 'हमारा कहना है कि मई के महीने में जब सुप्रीम कोर्ट ट्रिपल तलाक पर सुनवाई कर सकता है तो इसको भी सुन लीजिये और 23 साल से कंटेम्प्ट का मामला पड़ा है उस पर भी फैसला लीजिये । रोज मामला सुने सुप्रीम कोर्ट हम तैयार है।'

अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद पर सुब्रहमनियन स्वामी की दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को सुझाव दिया कि इस विवाद को न्यायिक तरीके से सुलझाने के बजाय दोनों पक्ष बैठकर बातचीत के माध्यम से समाधान निकालना बेहतर होगा।

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी का राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ (आरएसएस) और राम मंदिर आंदोलन से जुड़ी रही उमा भारती ने स्वागत किया है। वहीं मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने नाखुशी जतायी है।

और पढ़ें: पाकिस्तान ने की मांग, कश्मीर में बन रहे जलविद्युत परियोजनाओं के बारे में जानकारी साझा करे भारत

First Published : 21 Mar 2017, 03:45:00 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.