News Nation Logo
Banner

खुद को भगवान मानने वाले रेप के आरोपी बाबा ने तो खुद का देश ही बना लिया

जानकारी के मुताबिक 'कैलाशा' पूरी तरह से एक हिंदू राष्ट्र है और उसका राष्ट्रीय पशु नंदी है. यही नहीं 'कैलाशा' का अपना पासपोर्ट और झंडा भी है.

By : Dhirendra Kumar | Updated on: 04 Dec 2019, 12:50:03 PM
बाबा नित्यानंद उर्फ जनार्दन शर्मा

बाबा नित्यानंद उर्फ जनार्दन शर्मा (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

रेप के आरोपी बाबा नित्यानंद उर्फ जनार्दन शर्मा देश की सुरक्षा एजेंसियों को धोखा देकर विदेश भाग गया था. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नित्यानंद ने अपना एक अलग देशी ही बना लिया है. इस देश का नाम 'कैलाशा' रखा गया है. जानकारी के मुताबिक कैलाशा पूरी तरह से एक हिंदू राष्ट्र है और उसका राष्ट्रीय पशु नंदी है. यही नहीं 'कैलाशा' का अपना पासपोर्ट और झंडा भी है. झंडे पर नित्यानंद की तस्वीर के साथ नंदी बैल है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नित्यानंद का सपना एक धार्मिक अर्थव्यवस्था के रूप में विकसित करने का है.

यह भी पढ़ें: महंगे हो सकते हैं रोजमर्रा के सामान, जीएसटी काउंसिल की बैठक में हो सकता है बड़ा फैसला

किस जगह है तथाकथित 'कैलाशा'
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लैटिन अमेरिका में इक्वाडोर के पास नित्यानंद ने एक द्वीप को खरीदा है और उसी को उसने अपना देश 'कैलाशा' घोषित किया है. बता दें कि 'कैलाशा' की अपनी एक वेबसाइट kailaasa.org भी है. इसके अलावा नित्यानंद का विकिपीडिया के ऊपर एक पेज है. 'कैलाशा' की वेबसाइट पर लिखा है कि कैलाशा दुनिया भर के हिंदुओं द्वारा फैलाए गए सीमाओं के बिना एक राष्ट्र है, जिन्होंने अपने ही देशों में प्रामाणिक रूप से हिंदू धर्म का अभ्यास करने का अधिकार खो दिया है.

यह भी पढ़ें: बीएसएनएल (BSNL) के इस शानदार प्लान में मिल रहा है छप्परफाड़ इंटरनेट डेटा

किस मकसद से बनाया गया है 'कैलाशा'
'कैलाशा' को ना सिर्फ सनातन हिंदू धर्म को संरक्षित करने के लिए बल्कि पूरी दुनिया के साथ साझा करने के दृढ़ संकल्प के साथ बनाया गया है. इसके अलावा उत्पीड़न की कहानी को साझा करने के लिए भी जो दुनिया के लिए अभी तक अज्ञात है उसके लिए भी बनाया गया है. इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए कैलाशा प्रामाणिक हिंदू धर्म पर आधारित एक प्रबुद्ध संस्कृति और सभ्यता के संरक्षण, बहाली और पुनरुद्धार के लिए पूरी तरह से समर्पित है. वेबसाइट के मुताबिक इस देश की आधिकारिक भाषाएं अंग्रेजी, हिंदी और तमिल हैं और दुनिया का कोई हिंदू यहां की नागरिकता हासिल कर सकता है.

यह भी पढ़ें: बासमती चावल का एक्सपोर्ट 10 फीसदी लुढ़का, गैर-बासमती 37 फीसदी गिरा

बता दें कि 2010 में नित्यानंद की एक सेक्स CD सामने आई थी. उसके बाद उसे अरेस्ट भी किया गया था. बाद में वह जमानत पर छूट कर बाहर भी आ गया था. वर्ष 2012 में उसके ऊपर बलात्कार के आरोप भी लगे और अभी भी उसका ट्रायल चल रहा है. यही नहीं गुजरात में भी उसके ऊपर नाबालिग लड़के लड़कियों के बंधक बनाने और उन्हें टॉर्चर करने के आरोप में आपराधिक मामले चल रहे हैं. पुलिस के मुताबिक नित्यानंद 2018 के आखिरी महीनों के दौरान देश को छोड़कर भाग गया था.

First Published : 04 Dec 2019, 12:50:03 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.