News Nation Logo

AyodhyaVerdict: अयोध्‍या पर फैसले को लेकर सोशल मीडिया पर आपकी Post आपको पहुंचा सकती है जेल

AyodhyaVerdict: उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) राजनीतिक दृष्टि से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद (Ayodhya Dispute) मामले में शनिवार को फैसला सुनायेगा.

By : Drigraj Madheshia | Updated on: 09 Nov 2019, 12:04:54 AM
सोशल मीडिया पर अयोध्‍या केस संबंधित कुछ पोस्‍ट करने से पहले ये पढ़े

सोशल मीडिया पर अयोध्‍या केस संबंधित कुछ पोस्‍ट करने से पहले ये पढ़े (Photo Credit: फाइल)

लखनऊ:

AyodhyaVerdict: उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) राजनीतिक दृष्टि से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद (Ayodhya Dispute) मामले में शनिवार को फैसला सुनायेगा. प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ , न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर की पांच सदस्यीय संविधान पीठ शनिवार की सुबह साढ़े दस बजे यह फैसला सुनायेगी. इसको लेकर पूरे देश में अलर्ट है और सरकार सोशल मीडिया की कड़ी निगरानी कर रही है. कुछ भी पोस्‍ट करने से पहले 100 बार सोचें. आपकी एक गलती आपको जेल पहुंचा सकती है. देखिए उत्‍तर प्रदेश के डीजीपी ने क्‍या कहा है..

उत्‍तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह कहते हैं कि अयोध्या मामले में शनिवार को सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच का फैसला आ जाएगा.आप सब से अपील है कि किसी भी तरह का मैसेज फॉरवर्ड करने से पहले उसकी सत्यता अवश्य जांच लें.अन्यथा आपके द्वारा किया गया एक भी गलत मैसेज लाखों लोगों के लिए मुसीबत का सबब और प्रदेश के माहौल को खराब करने का कारण बन सकता है.जिसके जिम्मेदार पूरी तरह से आप होंगे.उत्तर प्रदेश पुलिस सोशल मीडिया (व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब आदि) पर पूरी निगरानी कर रही है.बावजूद इसके अगर कोई यह सोचकर कि पकड़ा नहीं जाऊंगा और गलत मैसेज फॉरवर्ड करता है तो यह उसकी गलतफहमी होगी.

यह भी पढ़ेंः AyodhyaVerdict: अयोध्या पर फैसले से पहले नरेंद्र मोदी-योगी आदित्‍यानाथ, RSS और मुस्लिम धर्मगुरुओं की ये अपील

पुलिस आपके सहयोग और सहायता के लिए तत्पर है.और आप से भी अपेक्षा करती है कि पुलिस का पूरा सहयोग करेंगे.हम यह भी अपेक्षा करते हैं कि अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ 112 नंबर, ट्विटर सेवा अथवा निकटतम थाने के थाना अध्यक्ष या प्रभारी निरीक्षक को सूचना देंगे.

यह भी पढ़ेंः AyodhyaVerdict: अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला शनिवार को, जानें 1528 से 1992 तक की घटनाएं

यदि आपके क्षेत्र में कोई अनजान व्यक्ति या समूह सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए निर्णय के विरोध में भड़काने की कोशिश करता है या बरगलाने की कोशिश करता है तो उसकी भी सूचना तत्काल पुलिस को दे सकते हैं.हम आपको विश्वास दिलाते हैं की प्रदेश के अमन-चैन से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ सख्ती से पेश आएंगे और कार्रवाई करेंगे.साथ ही आपकी सुरक्षा का पूरा ख्याल रखेंगे.

अयोध्या पर आने वाले फैसले की तैयारी शुरू

लखनऊ पुलिस ने 24 घंटे चलने वाला इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम बनाया.इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम का नंबर 9454405156. लखनऊ को 5 सुपर जोन,14 जोन,98 सेक्टर में बांटा गया.4 कंपनी पैरा मिलिट्री,10 कंपनी पीएसी राजधानी में तैनात.257 हॉटस्पॉट चिन्हित किए गए.राजधानी में 150 बैरियर,8 जगहों पर बॉर्डर सील.

पीएम मोदी की अपील

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आएगा, वो किसी की हार-जीत नहीं होगा.देशवासियों से मेरी अपील है कि हम सब की यह प्राथमिकता रहे कि ये फैसला भारत की शांति, एकता और सद्भावना की महान परंपरा को और बल दे.

यह भी पढ़ेंः AyodhyaVerdict: अयोध्‍या पर फैसले को लेकर देशभर में अलर्ट, कई जगह स्‍कूल-कॉलेज सोमवार तक बंद

देश की न्यायपालिका के मान-सम्मान को सर्वोपरि रखते हुए समाज के सभी पक्षों ने, सामाजिक-सांस्कृतिक संगठनों ने, सभी पक्षकारों ने बीते दिनों सौहार्दपूर्ण और सकारात्मक वातावरण बनाने के लिए जो प्रयास किए, वे स्वागत योग्य हैं.कोर्ट के निर्णय के बाद भी हम सबको मिलकर सौहार्द बनाए रखना है.

यह भी पढ़ेंः AyodhyaVerdict:रामायण से लेकर बौद्ध साहित्य में भी अयोध्या का जिक्र, जानें चीनी यात्रियों ने क्‍या कहा था

अयोध्या पर कल सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आ रहा है.पिछले कुछ महीनों से सुप्रीम कोर्ट में निरंतर इस विषय पर सुनवाई हो रही थी, पूरा देश उत्सुकता से देख रहा था.इस दौरान समाज के सभी वर्गों की तरफ से सद्भावना का वातावरण बनाए रखने के लिए किए गए प्रयास बहुत सराहनीय हैं.



For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 08 Nov 2019, 11:16:01 PM