News Nation Logo

By Election : एमपी में एक और कांग्रेस विधायक ने दिया इस्तीफा

उत्तर प्रदेश की 7 विधान सभा सीटों पर उपचुनाव होगा. जिसके लिए बीजेपी, सपा, बसपा और कांग्रेस ने पूरा जोर लगाया है. वहीं, यह उपचुनाव भारतीय जनता पार्टी और सीएम योगी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है, हालांकि उत्तर प्रदेश में सरकार को लेकर कोई परेशानी नहीं है.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 25 Oct 2020, 03:47:13 PM
By Election in 11 States

उपचुनाव Live अपडेट (Photo Credit: न्यूज नेशन )

नई दिल्ली:

देश के कई राज्यों के विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने वाले है. इन उपचुनाव विधानसभा सीटों पर 3 नवंबर को मतदान होंगे. अगर बात करें उपचुनाव को लेकर सियासी हलचल की तो सबसे ज्यादा मध्य प्रदेश को लेकर है. क्योंकि यहां पहली बार एक साथ 28 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा. यह उपचुनाव तय करेगा की बीजेपी की शिवराज सिंह चौहान की सरकार रहेगी या कांग्रेस की कमलनाथ सरकार की वापसी होगी.

उत्तर प्रदेश की 7 विधान सभा सीटों पर उपचुनाव होगा. जिसके लिए बीजेपी, सपा, बसपा और कांग्रेस ने पूरा जोर लगाया है. वहीं, यह उपचुनाव भारतीय जनता पार्टी और सीएम योगी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है, हालांकि उत्तर प्रदेश में सरकार को लेकर कोई परेशानी नहीं है. जिस पर इसका असर पड़ेगा, लेकिन प्रदेश में कुछ वक्त से बदले माहौल बीजेपी के खिलाफ जा सकता है. वहीं, समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी के लिए 2022 के पहले जनता के मुड का अंदाजा होगा.

LIVE TV NN

NS

NS

मप्र विधानसभा उप-चुनाव में बेलगाम जुबान


मध्य प्रदेश में हो रहे विधानसभा के उपचुनाव में चाहे जो जीते या हारे, मगर इस चुनाव ने आपसी सियासी सौहाद्र्र को जरुर बिगाड़ने का काम किया है. राजनेताओं की भाषा निम्न स्तर पर पहुंच गई है और वे एक दूसरे के खिलाफ उस भाषा का उपयोग करने में लगे है जेा समाज में कम ही उपयोग की जाती है, बल्कि उसे गली-चौराहों की बोली के तौर पर जाना पहचाना जाता है.

एमपी विस उपचुनाव में 23 प्रतिशत उम्मीदवार करोड़पति


मध्यप्रदेश में विधानसभा उपचुनाव लड़ने वाले 23 प्रतिशत उम्मीदवार करोड़पति हैं, इनमें से अधिकांश भाजपा और कांग्रेस के हैं. मध्य प्रदेश इलेक्शन वॉच और 'एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स' (एडीआर) के आंकड़ों में यह खुलासा हुआ है.


3 नवंबर के चुनाव के लिए 28 विधानसभा क्षेत्रों में सभी 355 उम्मीदवारों के स्व-शपथ पत्रों का विश्लेषण किया गया. आंकड़ों के अनुसार, 355 उम्मीदवारों में से 80 (23 प्रतिशत) करोड़पति या मल्टी-मिलियनेयर हैं जिनकी औसत संपत्ति 1.10 करोड़ रुपये है.

बुलंदशहर में भीम आर्मी के चंद्रशेखर की रैली आज


भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर अपने उम्मीदवार हाजी यामीन के समर्थन के साथ बुलंदशहर में रविवार को रैली को संबोधित करके आगामी उत्तर प्रदेश उपचुनाव के लिए अपने प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगे. इस रैली से भीम आर्मी उत्तर प्रदेश में चुनावी आगाज को चिह्न्ति करेगा. गौरतलब है कि यह पार्टी राज्य में दलितों के बीच एक ताकत के रूप में उभरा है.

नुमाइश मैदान में आयोजित होने वाली रैली में 20,000 से अधिक समर्थकों के शामिल होने की संभावना है. भीम आर्मी के कार्यकर्ता समर्थन जुटाने और रैली में बड़े पैमाने पर उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए घर-घर जाकर मुहिम में शामिल होने की अपील कर रहे हैं.

बुलंदशहर सीट भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक वीरेंद्र सिरोही के पास थ. हालांकि मार्च में उनकी मृत्यु के बाद यह सीट खाली है. भाजपा ने दिवंगत विधायक की पत्नी ऊषा सिरोही को मैदान में उतारा है, वहीं राष्ट्रीय लोकदल-समाजवादी पार्टी ने संयुक्त उम्मीदवार प्रवीण कुमार के नाम की घोषणा की है.

बहुजन समाज पार्टी ने शमसुद्दीन रायन को मैदान में उतारा है, जबकि कांग्रेस के उम्मीदवार सुशील चौधरी हैं. यह उपचुनाव सात सीटों के लिए 3 नवंबर को होने वाले हैं. चंद्रशेखर ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि उनकी पार्टी 'आजाद समाज पार्टी' के नाम के साथ राजनीति में उतरेगी, जबकि भीम आर्मी संगठन के रूप में काम करना जारी रखेगी. वह हाल ही में बिहार की यात्रा पर गए थे, जहां उन्होंने पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी के साथ गठबंधन किया था और चुनावी प्रचार करते देखे गए थे.

एमपी में एक और कांग्रेस विधायक ने दिया इस्तीफा


मध्य प्रदेश में कांग्रेस को रविवार को एक और झटका लगा जब दमोह विधानसभा क्षेत्र के विधायक राहुल लोधी ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया. प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने रविवार को मीडिया को बताया कि दमोह से विधायक राहुल लोधी ने दो दिन पहले इस्तीफा देने की बात कही थी, जिस पर उन्हें सोच विचार करने को कहा गया था, राहुल लोधी ने शनिवार को फिर अपना इस्तीफा देने की इच्छा जाहिर की. रविवार को नवरात्रि के नवमीं के दिन राहुल लोधी ने इस्तीफा दे दिया.

झारखंड सरकार के खिलाफ सड़क से सदन तक संघर्ष होगा, एनडीए उपचुनाव जीतेगा : दीपक प्रकाश


भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद दीपक प्रकाश और जदयू के राष्ट्रीय महासचिव प्रवीण सिंह ने शनिवार को झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार पर कड़ा हमला बोला और कहा कि जनता 10 महीने में ही राज्य में चल रही महा-गठबंधन सरकार से तंग हो गयी है और उससे निजात चाहती है, जिसके लिए भाजपा-जदयू सड़क से सदन तक संघर्ष करेंगे. दोनों पार्टियों ने राज्य में दुमका और बेरमो में दो विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनावों में भी राजग की जीत का दावा किया.


जदयू प्रदेश कार्यालय में दोनों नेताओं ने पत्रकारों से कहा, ‘‘राज्य की स्थिति भयावह है, कानून व्यवस्था नाम की यहां कोई चीज नही है, मुख्यमंत्री को न तो न्यायालय पर भरोसा है, न संवैधानिक संस्थाओं पर. दीपक प्रकाश ने कहा कि मुख्यमंत्री को अब खुद पर भी भरोसा नहीं रह गया है, इसीलिए वे प्रधानमंत्री जी से भी अकेले में नहीं बल्कि पूरी कैबिनेट के साथ मिलना चाहते हैं.


 

बड़बोले जीतू के बिगड़े बोल, CM शिवराज को बताया कमलनाथ के पैरों की धूल


मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर 3 नवंबर को उप चुनाव के लिए मतदान होने वाले है. जिसको लेकर यहां पर सियासत पूरे शवाब पर है. हर दिन पार्टियों के नेता रैलियां कर रहे हैं. चुनाव प्रचार- प्रसार में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. नेता अपनी रैलियों में भाषण के दौरान भाषा की मर्यादा भूल रहे हैं.


उपचुनाव में नेताओं के बिगड़ते बोल. मध्य प्रदेश की सियासी सरगर्मी को बढ़ा रहे है. दरअसल, पूर्व सीएम कमलनाथ के बाद अब कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने विवादित बयान दिया है. उन्होंने सीएम शिवराज सिंह चौहान को पूर्व सीएम कमलनाथ के पैरों की धूल बता बताया है.


First Published : 25 Oct 2020, 07:52:58 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो