News Nation Logo
Banner

ओवैसी के बाद असम सरकार के वित्तमंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा ने भी NRC पर जताई नाराजगी

अंतिम एनआरसी सूची जारी होने से पहले शर्मा ने कहा, मैंने एनआरसी को लेकर सभी उम्मीदें खो दी हैं.

By : Ravindra Singh | Updated on: 20 Nov 2019, 06:22:55 PM
असम के वित्तमंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा

असम के वित्तमंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा (Photo Credit: ट्वीटर)

नई दिल्ली:

NRC मुद्दे को लेकर असम के भारतीय जनता पार्टी के नेता और वित्तमंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा ने केंद्र सरकार पर नाराजगी जताई है. उन्होंने कहा कि अभी असम में और भी बहुत कुछ सामने आना बाकी है. असम के वित्त मंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि वह राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर सारी उम्मीदें छोड़ चुके हैं क्योंकि केंद्र और राज्य सरकार विदेशियों को राज्य से बाहर करने के नए तरीकों पर चर्चा कर रही हैं. अंतिम एनआरसी सूची जारी होने से पहले शर्मा ने कहा, 'मैंने एनआरसी को लेकर सभी उम्मीदें खो दी हैं. मैं बस चाहता हूं कि दिन बिना किसी बुरी घटना के शांति से गुजर जाए.'

इतना ही नहीं असम के वित्तमंत्री ने आगे कहा कि, 'दिल्ली और असम सरकार विदेशियों को राज्य से बाहर निकालने के लिए नए तरीकों पर चर्चा कर रही हैं. मुझे नहीं लगता कि यह अंतिम सूची है, अभी और भी बहुत कुछ सामने आना बाकी है.'

यह भी पढ़ें-शरद पवार के आवास पर कांग्रेस-NCP की कोआर्डिनेशन कमेटी की बैठक शुरू, ये दिग्गज नेता हुए शामिल

इसके पहले एआइएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने एनआरसी पर केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा था कि बीजेपी को सबक सीखना चाहिए, उन्हें हिंदू और मुस्लिम के आधार पर देशभर में एनआरसी की मांग को बंद कर देना चाहिए. उन्हें सीखना चाहिए कि असम में क्या हुआ. असम में अवैध घुसपैठियों का भ्रम टूट गया है. ओवैसी ने आगे कहा कि मरी आशंका है कि आने वाले समय में भारतीय जनता पार्टी नागरिकता संशोधन बिल के जरिए ऐसा बिल ला सकती है जिससे सभी गैर इस्लामिक लोगों को नागरिकता दी सकती है. अगर बीजेपी ऐसा करती है तो यह समानता के अधिकार का उल्लंघन होगा.

यह भी पढ़ें-असम सरकार इस स्कीम के तहत देगी मुफ्त में सोना, बस आपको करना होगा ये काम 

ओवैसी ने आगे कहा कि, असम में एनआरसी लिस्ट जारी होने के बाद कई लोगों ने मुझे बताया कि उनके माता-पिता के नाम तो लिस्ट में हैं जबकि बच्चों के नहीं हैं. उदाहरण के तौर पर मोहम्मद सनाउल्लाह भी ऐसी लापरवाही के शिकार हुए हैं आपको बता दें कि सनाउल्लाह ने भारतीय सेना में काम किया है. असम में एनआरसी लिस्ट जारी होने के बाद से उनका मामला हाई कोर्ट में लंबित है. ओवैसा ने आगे कहा कि मुझे उम्मीद है कि सनाउल्लाह को एनआरसी मामले में हाई कोर्ट से उचित न्याय मिलेगा.

यह भी पढ़ें-राज्यसभा में कांग्रेस ने गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा बहाल करने की मांग की

आपको बता दें कि 31 अगस्त को असम एनआरसी की फाइनल लिस्ट जारी कर दी गई थी. गृह मंत्रालय ने फाइनल लिस्ट की सूची जारी की थी. एनआरसी के स्टेट कॉर्डिनेटर प्रतीक हजेला ने बताया कि 3 करोड़ 11 लाख 21 हजार लोगों का एनआरसी की फाइनल लिस्ट में जगह मिली और 19,06,657 लोगों को बाहर कर दिया गया. जो लोग इससे संतुष्ट नहीं है, वे फॉरनर्स ट्रिब्यूनल के आगे अपील दाखिल कर सकते हैं.

First Published : 20 Nov 2019, 06:22:55 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.