News Nation Logo
भारत में अब तक कोविड के 3.46 करोड़ मामले सामने आए हैं: लोकसभा में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हरियाणा में अगले आदेश तक गुरुग्राम, सोनीपत, फरीदाबाद और झज्जर के स्कूलों को बंद करने का आदेश Omicron Update: 31 देशों में 400 से ज्यादा संक्रमण के मामले मलेशिया में ओमीक्रॉन के पहले मामले की पुष्टि अमेरिका में ओमीक्रॉन से संक्रमण के मामले बढ़कर 8 हुए केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: CCTV के मामले में दिल्ली दुनिया में नंबर 1 केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में महिलाएं पूरी तरह सुरक्षित केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में 1.40 कैमरे और लगाए जाएंगे थोड़ी देर में ओमीक्रॉन पर जवाब देंगे स्वास्थ्य मंत्री IMF की पहली उप प्रबंध निदेशक के रूप में ओकामोटो की जगह लेंगी गीता गोपीनाथ 12 राज्यसभा सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्षी दलों के सांसदों का गांधी प्रतिमा के पास विरोध-प्रदर्शन यमुना एक्‍सप्रेसवे पर सुबह सुबह बड़ा हादसा, मप्र पुलिस के दो जवानों समेत चार की मौत जयपुर में दक्षिण अफ्रीका से लौटे एक ही परिवार के चार लोग कोरोना संक्रमित

बंगाल में एक और भाजपा विधायक तृणमूल में शामिल

बंगाल में एक और भाजपा विधायक तृणमूल में शामिल

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 27 Oct 2021, 06:30:01 PM
Another BJP

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

कोलकाता: भाजपा से इस्तीफा देने के करीब एक महीने बाद रायगंज से विधायक कृष्ण कल्याणी बुधवार को पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए।

कल्याणी, जिन्होंने भाजपा सांसद देबाश्री चौधरी के साथ पार्टी छोड़ दी थी, उन्होंने पार्टी के राज्य महासचिव पार्थ चटर्जी से पार्टी का झंडा प्राप्त किया।

मुकुल रॉय, पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो और सब्यसाची दत्ता जैसे दिग्गज नेताओं के तृणमूल में शामिल होने के बाद, वह सत्ताधारी पार्टी में जाने वाले पांचवें विधायक हैं।

नदिया जिले के कृष्णानगर से जीतने वाले रॉय के अलावा, तृणमूल में शामिल होने वाले अन्य विधायक उत्तर बंगाल के कैलागंज से सौमेन रॉय, बांकुरा के विष्णुपुर से तन्मय घोष और उत्तर 24 परगना के बगदा निर्वाचन क्षेत्र से बिस्वजीत दास हैं।

तृणमूल में शामिल होने के बाद उत्तर दिनाजपुर के बेहद प्रभावशाली नेता कल्याणी ने कहा, भाजपा में काम के लिए कोई जगह नहीं है। सिर्फ साजिश और पीठ में छुरा घोंपना ही है। इस स्थिति में कुछ भी अच्छा नहीं हो सकता और इसलिए पार्टी से निकल जाना ही बेहतर है।

उन्होंने चौधरी पर उनके खिलाफ साजिश करने का आरोप लगाते हुए इस साल 1 अक्टूबर को भाजपा से इस्तीफा दे दिया था। उन्हें देशद्रोही करार देते हुए उन्होंने कहा था, मैं यहां लोगों की सेवा करने आया हूं। मैं ऐसे लोगों के साथ काम नहीं कर सकता जिन्हें अन्य चीजों में ज्यादा दिलचस्पी है और इसलिए मैंने इस्तीफा दे दिया।

कल्याणी ने आगे कहा, विशेष रूप से मैंने देबाश्री चौधरी की वजह से इस्तीफा दिया है। उन्होंने मेरी पीठ में छुरा घोंपा है। मैं उनके जैसे लोगों के साथ काम नहीं कर सकता।

इस साल जनवरी में तृणमूल से भाजपा में शामिल हुए कल्याणी ने कहा, मैंने भाजपा में शामिल होकर गलती की और मैंने इसे छह महीने के भीतर सुधारा है। मैं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा किए गए विकास और सामाजिक कार्यों से प्रेरित हूं और मैं इसका हिस्सा बनना चाहता हूं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 27 Oct 2021, 06:30:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.