News Nation Logo
Banner

Surgical Strike 2 के बाद इमरान खान ने एक बार फिर दी हथियारों की धमकी, साथ में की बातचीत की पेशकश

सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद काफी तेजी से घटनाक्रम बदल रहे हैं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत से बातचीत की पेशकश की.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Mishra | Updated on: 27 Feb 2019, 05:24:00 PM
इमरान खान, पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री (फाइल फोटो)

इमरान खान, पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव के बीच पाकिस्तान पीएम इमरान खान ने संबोधन के दौरान एक बार फिर भारत को बताया कि दोनों देशों के बाद समान (परमाणु) हथियार हैं. बता दें कि भारतीय सीमा के भीतर पुलवामा में जैश के आतंकी द्वारा केंद्रीय पुलिस बल  की बस को निशाना बनाकर किए गए हमले में 42 जवानों के शहीद हो जाने बाद भारतीय लोगों में आतंकियों के खिलाफ आक्रोश था. इसे के चलते भारत ने सर्जिकल स्‍ट्राइक 2 को अंजाम दिया और पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकी कैंप को तबाह कर दिया. इसी घटना के बाद दोनों देशों के बीच तनाव कुछ और बढ़ गया है. अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बार फिर भारत से बातचीत की पेशकश की है. उन्होंने सम्बोधन के दौरान कहा कि जो माहौल बन रहा है वह ठीक नही है. हमने भारत से कहा था कि अगर कोई जांच चाहते हैं तो हम तैयार हैं. उन्होंने कहा कि विश्व इतिहास में सभी युद्धों को गलत माना गया है. उन्होंने कहा कि मैं भारत से पूछना चाहता हूं कि जो आपके और हमारे पास हथियार है, क्या हम गलत अनुमान सह सकते है?

पाक पीएम ने अपने बयान में कहा, 'अगर युद्ध होता है, तो यह मेरे या नरेंद्र मोदी के नियंत्रण में नहीं होगा. अगर आप आतंकवाद पर किसी भी तरह की बातचीत चाहते हैं तो हम तैयार हैं. बेहतर समझदारी होनी चाहिए. हमें बैठकर बात करनी चाहिए.'

इमरान खान ने संबोधन के दौरान कहा, 'महीनों में पहला विश्व युद्ध खत्म होना था, जिसे 6 साल लग गए. दूसरे विश्व युद्ध में हिटलर ने सोचा था कि वह रूस को हरा देगा लेकिन उसे मुंह की खानी पड़ी.' उन्होंने आगे कहा, आतंक के खिलाफ लड़ाई में क्या अमेरिका ने सोचा था कि अफगानिस्तान में इतने लंबे वक्त तक फंसे रहेंगे. ऐसे ही वियतनाम युद्ध में भी पता नहीं था कि कब तक इतने दूर तक जाएगा.

और पढ़ें: Surgical Strike 2: पाकिस्तान ने बंद की समझौता एक्सप्रेस, गुरूवार को लाहौर से चलनी थी ट्रेन 

सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले के 12 दिन बाद मंगलवार तड़के आईएएफ के लड़ाकू विमानों ने बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े प्रशिक्षण शिविर पर हमला किया. वायुसेना ने कार्रवाई में बड़ी संख्या में आतंकवादियों और उनके प्रशिक्षकों को मार गिराया. इससे पहले भारत कूटनीतिक स्तर पर पाकिस्तान के खिलाफ सख्त रुख अपना चुका है.  भारत ने आर्थिक मोर्चे पर कड़ी कार्रवाई करते हुए भारत ने पाकिस्तान से आयात होने वाले सभी सामानों पर सीमाशुल्क तत्कार प्रभाव से बढ़ाकर 200 फ़ीसदी कर दिया. इससे पहले भारत ने पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया था. भारत ने पाकिस्तान को पूर्वी क्षेत्र की नदियों से मिलने वाले पानी में अपने हिस्से के पानी पर रोक लगाने का फैसला लिया. केंद्र सरकार ने पूर्वी नदियों (रावी, व्यास और सतलुज) की धरा जम्मू-कश्मीर और पंजाब की ओर मोड़ने का फैसला किया है. 


बता दें कि जम्मू-कश्मीर में 14 फरवरी को आत्मघाती हमला हुआ था. इस हमले में 40 जवान शहीद हो गए. पुलवामा जिले में आतंकी ने श्रीनगर-जम्मू हाई-वे पर अपनी विस्फोटकों से लदी एसयूवी सीआरपीएफ की बस से टकराकर उसमें विस्फोट कर दिया. धमाका इतना जबरदस्त था कि बस के परखच्चे उड़ गए और आस पास जवानों के शव टुकड़ों में सड़क पर बिखेर गए. जैश ए मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है. पुलिस ने आतंकवादी की पहचान पुलवामा के काकापोरा के रहने वाले आदिल अहमद के तौर पर की है. उन्होंने बताया कि अहमद 2018 में जैश-ए-मोहम्मद में शामिल हुआ था. 

First Published : 27 Feb 2019, 03:47:12 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×