News Nation Logo
Banner

कश्मीर-लद्दाख में 10 सुरंग बनेंगी, चीन तक पहुंच होगी आसान

भारत की लद्दाख (Ladakh) और कश्मीर (Kashmir) के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में 10 सुरंग बनाने की योजना है, जिससे पूरे साल सेना की सुगम आवाजाही सुनिश्चित हो सके.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 21 Oct 2020, 07:19:25 AM
Ladakh Tunnels

चीन-पाकिस्तान सीमा तक भारतीय सेना की पहुंच होगी आसानभारत की लद्दाख (La (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

भारत की लद्दाख (Ladakh) और कश्मीर (Kashmir) के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में 10 सुरंग बनाने की योजना है, जिससे पूरे साल सेना की सुगम आवाजाही सुनिश्चित हो सके. ऊंचाई वाले क्षेत्रों में 100 किलोमीटर से अधिक लंबी कुल 10 सुरंगें बनाए जाने की योजना है. सीमा सड़क संगठन (BRO) ने लद्दाख और कश्मीर के लिए सभी मौसम कनेक्टिविटी बढ़ाने और दोनों क्षेत्रों में आगे के क्षेत्रों के लिए आठ सुरंगों का प्रस्ताव दिया है.

यह भी पढ़ेंः जम्मू के हितों से समझौता नहीं किया जा सकता : नेशनल कॉन्फ्रेंस

सभी मौसम में आवाजाही
एक सूत्र ने कहा, 'कुछ सुरंगें 17,000 फीट के स्तर पर होंगी, जिससे आगे के स्थानों को जोड़ा जा सकेगा.' इनमें से एक सात किलोमीटर लंबी खारदुंग ला सुरंग होगी, जो लेह को नुब्रा घाटी से जोड़ेगी. यह लद्दाख का एक रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण क्षेत्र है, जो चीन और पाकिस्तान दोनों से लगता है. एक अन्य आठ किलोमीटर की सुरंग होगी, जो कि 17,580 फीट की ऊंचाई पर होगी. यह कारू को लद्दाख में टंगस्टे से जोड़ेगी और पैंगॉन्ग झील के करीब के क्षेत्रों में सभी प्रकार के मौसम में आवाजाही को सुनिश्चित करेगी.

यह भी पढ़ेंः कोरोना पर बोले पीएम मोदी-  लॉकडाउन भले चला गया, वायरस नहीं गया...

दौलत बेग ओल्डी तक वैकल्पिक कनेक्टिविटी
लद्दाख से साल भर की कनेक्टिविटी के लिए शंकु ला पास के माध्यम से निम्मू-दारचा-पदम रोड पर एक और सुरंग पाइपलाइन में है. यह सात किलोमीटर लंबी सुरंग 16,703 फीट की ऊंचाई पर बनेगी. इसके अलावा श्रीनगर को कारगिल, द्रास और लेह से जोड़े रखने के लिए 11,500 फीट के जोजिला दर्रे से 14 किलोमीटर लंबी सुरंग का निर्माण शुरू हो गया है. एक और प्रस्तावित सुरंग है, जिसके 17,800 फीट की ऊंचाई पर बनाए जाने की योजना है. यह पूर्वी लद्दाख में दौलत बेग ओल्डी (डीबीओ) और डेपसांग को वैकल्पिक कनेक्टिविटी प्रदान करेगी.

भारतीय सेना को मिलेगी मदद
डीबीओ और डेपसांग ऐसे क्षेत्र हैं, जहां चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के साथ भारत का गतिरोध बना हुआ है, जिसकी शुरूआत इस साल मई में ही हो गई थी. इसके अलावा मनाली-लेह राजमार्ग और कश्मीर के गुरेज से भी कनेक्टिविटी के लिए सुरंग की आवश्यकता है. इन इलाकों में भी सभी मौसम के लिहाज से काम आने वाली सुरंग बनाए जाने की योजना है.

First Published : 21 Oct 2020, 07:19:25 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.