News Nation Logo

त्रिपुरा में असंतोष के बीच, राज्य के साप्ताहिक दौरे पर पहुंचे 4 केंद्रीय भाजपा नेता

त्रिपुरा में असंतोष के बीच, राज्य के साप्ताहिक दौरे पर पहुंचे 4 केंद्रीय भाजपा नेता

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 31 Aug 2021, 12:30:01 AM
Amid open

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

अगरतला: त्रिपुरा में सत्तारूढ़ भाजपा विधायकों और नेताओं के एक वर्ग के असंतोष के बीच, पार्टी के चार वरिष्ठ नेता सरकार और संगठन दोनों में कमियों को दूर करने के लिए सोमवार को एक सप्ताह के दौरे पर राज्य पहुंचे।

भाजपा के त्रिपुरा के मुख्य प्रवक्ता सुब्रत चक्रवर्ती ने कहा कि पार्टी के पूर्वोत्तर क्षेत्रीय सचिव, अजय जामवाल के नेतृत्व में केंद्रीय नेता मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब, राज्य अध्यक्ष माणिक साहा, सभी मंत्रियों, विधायकों, राज्य तथा जिला नेताओं से मुलाकात करेंगे और पार्टी संगठन के शासन और कामकाज के बारे में उनके विचार प्राप्त करेंगे।

टीम में भारतीय जनता पार्टी के अन्य नेता राष्ट्रीय महासचिव दिलीप सैकिया, त्रिपुरा-असम के प्रभारी महासचिव फणींद्रनाथ शर्मा और राज्य के केंद्रीय पर्यवेक्षक विनोद सोनकर हैं।

चक्रवर्ती ने आईएएनएस को बताया, केंद्रीय पार्टी के नेता जमीनी स्तर के नेताओं और कार्यकतार्ओं से मिलने के लिए कुछ जिलों और उपमंडलों का भी दौरा करेंगे।

भाजपा के पांच असंतुष्ट विधायकों और रविवार को यहां जिले और राज्य के पूर्व नेताओं की बैठक के एक दिन बाद केंद्रीय टीम राज्य के दौरे पर पहुंची है।

यह पांच विधायक सुदीप रॉय बर्मन, आशीष कुमार साहा, दीबा चंद्र हरंगखाल, आशीष दास और बरबा मोहन त्रिपुरा हैं।

पूर्व स्वास्थ्य और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री, बर्मन ने आईएएनएस को बताया कि बैठक में उन्होंने सभी आठ जिलों के जिला और स्थानीय नेताओं के विचार और सुझाव प्राप्त किए और इन पर आने वाले केंद्रीय नेताओं को सूचित किया जाएगा।

कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए नेता ने कहा, सरकार और पार्टी संगठनों के नेता जिले और जमीनी स्तर के नेताओं की राय, शिकायतों और सुझावों को सुनने के इच्छुक नहीं हैं। इसलिए सम्मेलन आयोजित किया गया था। यह भाजपा के खिलाफ या तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने के लिए नहीं है।

उन्होंने कहा, हमारे शामिल होने के साथ, 2016 में हजारों पार्टी (तृणमूल और कांग्रेस) कार्यकतार्ओं के साथ, भाजपा को एक बड़ी राजनीतिक ताकत मिली, जिससे 25 साल बाद वाम दलों को हराकर सत्ता में आने में मदद मिली।

साहा ने आईएएनएस से कहा, पार्टी के लोगों और कार्यकतार्ओं के सामने कई समस्याएं और मुद्दे हैं। हम चाहते हैं कि सरकार और पार्टी सभी की राय और प्रस्तावों को महत्व दें।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने आईएएनएस को बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हाल ही में किए गए केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल के अनुरूप मुख्यमंत्री अपने मंत्रिपरिषद का विस्तार और फेरबदल करेंगे। भाजपा नेता ने कहा कि मंत्रालय और संगठन दोनों में यह कार्य फरवरी 2023 में होने वाले अगले विधानसभा चुनावों पर नजर रखते हुए किया जाएगा।

9 मार्च, 2018 को भाजपा-आईपीएफटी (इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा) सरकार के सत्ता संभालने के बाद से, तीन मंत्री पद खाली पड़े थे और मई 2019 में मुख्यमंत्री के साथ मतभेदों के बाद बर्मन को बर्खास्त कर दिया गया था।

राज्य में भाजपा ने केंद्रीय नेताओं के साथ मतभेदों को सुलझाने के लिए जून से कई बैठकें शुरू की हैं।

28 जून को हुई राज्य कार्यकारिणी की बैठक के अलावा महज 12 दिनों में विधायकों की बैठक समेत दो और अहम बैठकें हुईं हैं। 16 जून को भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बी. एल. संतोष, जामवाल और शर्मा राज्य पहुंचे और राज्य के नेताओं, विधायकों, मंत्रियों और पार्टी के अन्य पदाधिकारियों के साथ दो दिनों तक कई बैठकें कीं।

28 जून की बैठक में, जहां रॉय बर्मन के नेतृत्व में असंतुष्ट नेता और विधायक अनुपस्थित रहे, शर्मा ने शारीरिक रूप से भाग लिया, जबकि भाजपा के रणनीतिकार और राष्ट्रीय महासचिव भूपेंद्र यादव (अब केंद्रीय मंत्री) और सोनकर ने दिल्ली से वर्चुअल तरीके से बैठक में भाग लिया।

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय के अपने बेटे सुभ्रांशु रॉय के साथ 11 जून को कोलकाता में पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ तृणमूल में फिर से शामिल होने के बाद त्रिपुरा में ताजा राजनीतिक घटनाक्रम के बारे में मजबूत अटकलों को बल मिला है। लगभग चार साल पहले भाजपा में शामिल होने से पहले रॉय तृणमूल के संगठनात्मक मामलों की निगरानी के लिए अक्सर त्रिपुरा जाते थे।

राज्य में व्याप्त इस असंतोष के बीच, मुख्यमंत्री देब ने पिछले साल दिसंबर में अगरतला में सार्वजनिक सभाओं के माध्यम से सार्वजनिक जनादेश लेने की घोषणा की थी, लेकिन बाद में केंद्र और राज्य के नेताओं के अनुरोध पर, योजना को बंद कर दिया गया।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 31 Aug 2021, 12:30:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.