News Nation Logo
कोविड के खिलाफ लड़ाई में भी भारत और रूस के बीच सहयोग: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत में 85 फीसदी पात्र आबादी को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगा दी गई है: मनसुख मंडाविया दिल्ली में इस साल डेंगू से अब तक 15 मरीजों की मौत बीते 6 साल में डेंगू से मौत का सबसे बड़ा आंकड़ा शाही ईदगाह मस्जिद की जगह पर भव्य श्रीकृष्ण मंदिर के निर्माण के लिए संकल्प यज्ञ किया गया ओमिक्रोन के अलर्ट के बीच पटना में 100 विदेशियों की तलाश भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की

अमरिंदर जल्द करेंगे नई पार्टी का ऐलान, पंजाब चुनाव में भाजपा से समझौते के संकेत

अमरिंदर जल्द करेंगे नई पार्टी का ऐलान, पंजाब चुनाव में भाजपा से समझौते के संकेत

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 19 Oct 2021, 11:50:01 PM
Amarinder SinghphotoAmarinder

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

चंडीगढ़: पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और तीन बार राज्य कांग्रेस के अध्यक्ष रहे अमरिंदर सिंह ने पार्टी को औपचारिक रूप से अलविदा कहते हुए मंगलवार को कहा कि वह जल्द ही अपनी नई राजनीतिक पार्टी शुरू करने की घोषणा करेंगे।

पंजाब के पूर्व सीएम ने यह भी कहा कि अगर किसानों के मुद्दों को उनके हित में हल किया जाता है, तो उन्हें राज्य में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में भाजपा के साथ सीट बंटवारे की व्यवस्था की उम्मीद है।

उनके मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने सिलसिलेवार ट्वीटों में अमरिंदर सिंह के हवाले से कहा, पंजाब के भविष्य के लिए लड़ाई जारी है। जल्द ही पंजाब और उसके लोगों के हितों की सेवा के लिए अपनी खुद की राजनीतिक पार्टी शुरू करने की घोषणा करेंगे, जिसमें हमारे किसान भी शामिल हैं। वे एक साल से अधिक समय से अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहे हैं।

अमरिंदर सिंह ने एक अन्य ट्वीट में कहा, अगर किसानों के प्रदर्शन का समाधान उनके हित में किया जाता है तो 2022 के पंजाब विधानसभा चुनाव में भाजपा के साथ सीट व्यवस्था की उम्मीद है।

उन्होंने इस महीने की शुरुआत में पंजाब में कुप्रबंधन की बात कहकर विभिन्न पार्टी नेताओं द्वारा फैलाए जा रहे बेतुके झूठ पर कांग्रेस की खिंचाई की थी।

उन्होंने कहा, साथ ही समान विचारधारा वाले दलों, जैसे कि अलग हुए अकाली समूहों, विशेष रूप से ढींडसा और ब्रह्मपुरा गुटों के साथ गठबंधन संभव है।

अमरिंदर सिंह ने कहा कि वह तब तक चैन से नहीं बैठेंगे, जब तक कि वह अपने लोगों और अपने राज्य का भविष्य सुरक्षित नहीं कर लेते।

अमरिंदर सिंह के हवाले से एक ट्वीट ने लिखा है, पंजाब को आंतरिक और बाहरी खतरों से राजनीतिक स्थिरता और सुरक्षा की जरूरत है। मैं अपने लोगों से वादा करता हूं कि शांति और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए मैं वह करूंगा जो आज दांव पर है।

इससे पहले, एआईसीसी महासचिव हरीश रावत के उन पर बिना रोक-टोक के हमले का कड़ा विरोध करते हुए अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस के पंजाब प्रभारी के दावों और आरोपों को खारिज कर दिया था।

अमरिंदर सिंह ने 1 अक्टूबर को कहा था, मुख्यमंत्री पद छोड़ने से तीन हफ्ते पहले, मैंने सोनिया गांधी को अपना इस्तीफा देने की पेशकश की थी, लेकिन उन्होंने मुझे पद पर बने रहने के लिए कहा था। उन्होंने कहा कि कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की बैठक सार्वजनिक रिकॉर्ड का मामला था।

उन्होंने टिप्पणी की थी, दुनिया ने देखा कि मेरा अपमान और अपमान हुआ है, फिर भी रावत इसके विपरीत दावे कर रहे हैं।

रावत की टिप्पणी का उपहास उड़ाते हुए कि वह दबाव में थे, पूर्व सीएम ने कहा कि पिछले कुछ महीनों से उन पर कांग्रेस के प्रति अपनी वफादारी का एकमात्र दबाव था, जिसके कारण उन्होंने अपमान के बाद अपमान को सहन करना जारी रखा।

अमरिंदर ने सवाल किया, अगर पार्टी का इरादा मुझे अपमानित करने का नहीं था, तो नवजोत सिंह सिद्धू को महीनों तक सोशल मीडिया और अन्य सार्वजनिक प्लेटफार्मो पर मेरी खुली आलोचना और हमला करने की अनुमति क्यों दी गई? पार्टी ने सिद्धू के नेतृत्व वाले विद्रोहियों को खुली छूट क्यों दी? मेरे अधिकार को कम कर रहा है? साढ़े चार साल के दौरान मैं पार्टी को सौंपे गए चुनावी जीत की निर्बाध होड़ का कोई संज्ञान क्यों नहीं लिया गया था?

अमरिंदर सिंह ने यह भी पूछा कि कांग्रेस अभी भी सिद्धू को फिरौती के लिए पार्टी को पकड़ने और शर्तो को जारी रखने की अनुमति क्यों दे रही है।

मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद से अमरिंदर सिंह सार्वजनिक रूप से यह कहकर सिद्धू पर निशाना साध रहे हैं कि वह मुख्यमंत्री पद के लिए अपने संभावित उत्थान के लिए डटकर मुकाबला करेंगे, और ऐसे खतरनाक आदमी से देश को बचाने के लिए कोई भी बलिदान देने के लिए तैयार हैं।

उन्होंने यह भी दावा किया कि गांधी भाई-बहन (प्रियंका और राहुल) काफी अनुभवहीन हैं और उनके सलाहकार स्पष्ट रूप से उन्हें गुमराह कर रहे थे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 19 Oct 2021, 11:50:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.