News Nation Logo
Banner

एआईएडीएमके शहरी चुनावों के दौरान डीएमके सरकार की 9 महीने की विफलताओं को करेगी उजागर

एआईएडीएमके शहरी चुनावों के दौरान डीएमके सरकार की 9 महीने की विफलताओं को करेगी उजागर

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 28 Jan 2022, 01:40:01 PM
All India

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

चेन्नई:   तमिलनाडु में 2019 के आम चुनावों के बाद से लगातार हार का सामना कर रही विपक्षी अन्नाद्रमुक 19 फरवरी को होने वाले शहरी स्थानीय निकाय चुनावों में वापसी करने के लिए तैयार है। ये जानकारी पार्टी के सूत्रों ने दी।

अपनी चुनावी रणनीति के तहत पार्टी की योजना द्रमुक के नौ महीनों के शासन में विफलताओं को उजागर करने की है। 2021 के विधानसभा चुनावों में किए गए वादे राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) को खत्म करने में विफलता के रूप में देखा जा रहा है।

सूत्रों ने कहा कि अन्नाद्रमुक यह भी बताएगी कि सत्तारूढ़ दल ने परिवार की महिला मुखियाओं को प्रति माह 1,000 रुपये देने के अपने वादे का सम्मान नहीं किया। सरकार ने राज्य में चावल राशन कार्डधारकों को वितरित पोंगल गिफ्ट हैम्पर्स में आपूर्ति की गई वस्तुओं की खराब गुणवत्ता पर भी हर तरफ से आलोचना की है।

भ्रष्टाचार और आय से ज्यादा संपत्ति के मामलों में पूर्व मंत्रियों के खिलाफ छापेमारी और मामले दर्ज करने में सत्तारूढ़ सरकार की बदले की राजनीति एक अन्य कारक होगा जिसे विपक्ष उजागर करने की योजना बना रहा है।

सूत्रों के अनुसार, अन्नाद्रमुक द्रमुक पर आरोप लगाती रही है कि वह हिसाब चुकता करने के लिए अन्नाद्रमुक के पूर्व मंत्रियों के खिलाफ सतर्कता और भ्रष्टाचार निरोधक निकायों के निदेशालय का इस्तेमाल कर रही है।

अन्नाद्रमुक पार्टी के वरिष्ठ नेता ओ. पनीरसेल्वम और एडप्पादी के. पलानीस्वामी शहरी स्थानीय निकाय चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों की सूची को अंतिम रूप देने के लिए पार्टी जिला सचिवों के साथ बैठक कर रहे हैं।

हालांकि, शक्तिशाली वन्नियार समुदाय के पट्टाली मक्कल काची (पीएमके) द्वारा घोषणा किए जाने के बाद अन्नाद्रमुक को एक झटका लगा है कि वह अपने दम पर चुनाव लड़ेगी। पीएमके ने संयोग से अक्टूबर 2021 में हुए ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनाव अकेले लड़ा था।

बीजेपी की तमिलनाडु यूनिट में भी अन्नाद्रमुक के साथ गठबंधन जारी रखने के खिलाफ, भाजपा के विधायक दल के नेता नैनार नागेंद्रन के अन्नाद्रमुक के कामकाज की शैली के खिलाफ जोरदार तरीके से सामने आ रहे हैं।

भाजपा के वरिष्ठ नेताओं का एक वर्ग चाहता है कि पार्टी अपने दम पर शहरी स्थानीय निकाय चुनाव लड़े और अन्नाद्रमुक पर सुस्ती का आरोप लगाया और कहा कि पार्टी के कार्यकर्ताओं ने 2021 के विधानसभा चुनावों के दौरान अपने वोट भाजपा उम्मीदवारों को हस्तांतरित नहीं किए थे।

एआईएडीएमके में गठबंधन के मुद्दे होने के बावजूद, पार्टी नेतृत्व मजबूत है कि वह डीएमके सरकार की विफलताओं को उजागर करके शहरी स्थानीय निकाय चुनावों में अपनी छाप छोड़ेगी। यह विधानसभा चुनावों के दौरान किए गए वादों को पूरा करने में द्रमुक की विफलता को भी उजागर करेगा।

ये पता चला है कि अन्नाद्रमुक के मुख्य समन्वयक और पूर्व मुख्यमंत्री पन्नीरसेल्वम और पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी के संयुक्त समन्वयक एडप्पादी के.पलानीस्वामी शुक्रवार शाम तक पार्टी द्वारा अपनाई जाने वाली रणनीतियों को अंतिम रूप देंगे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 28 Jan 2022, 01:40:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.