News Nation Logo

भारतीय वायुसेना का युद्ध और एयरोस्पेस रणनीति कार्यक्रम

भारतीय वायुसेना का युद्ध और एयरोस्पेस रणनीति कार्यक्रम

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 24 Jun 2022, 01:05:01 AM
Air Marhal

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   भारतीय वायु सेना 24 जून को नई दिल्ली स्थित वायु सेना सभागार में एक कैपस्टोन सेमिनार (संगोष्ठी) के साथ पहला युद्ध और एयरोस्पेस रणनीति कार्यक्रम (डब्ल्यूएएसपी) आयोजित कर रही है। यह सेमिनार कॉलेज ऑफ एयर वारफेयर एंड सेंटर फॉर एयर पावर स्टडीज के अधीन आयोजित किया जाएगा। इस अवसर पर वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी अपना मुख्य भाषण देंगे।

वहीं, इस दौरान तीनों सेवाओं के वरिष्ठ अधिकारी, वायु शक्ति के विद्वान और देश के प्रमुख थिंक टैंक व प्रमुख कॉलेजों के शिक्षाविद उपस्थित रहेंगे। इस कैपस्टोन सेमिनार का लक्ष्य डब्ल्यूएएसपी के शिक्षण उद्देश्यों को प्रदर्शित करना और इस कार्यक्रम से प्राप्त वांछित परिणामों को मान्य करने के लिए आईएएफ नेतृत्व की सहायता करना है।

इसके प्रतिभागियों को हालिया संघर्षों में वायु शक्ति के अनुप्रयोग और राष्ट्रीय सुरक्षा में वायु शक्ति की प्रमुख भूमिका को स्थापित करने वाले बदलते सैद्धांतिक नियमों से संबंधित समकालीन विषयों पर पेपर प्रस्तुत करने होंगे।

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक आईएएफ की ओर से डब्ल्यूएएसपी की अवधारणा रणनीतिक कौशल और युद्ध के इतिहास व सिद्धांत की गहरी समझ के साथ मिड-करियर वायु शक्ति कर्मियों के समूह निर्माण के उद्देश्य से की गई थी। इसका उद्देश्य प्रतिभागियों की सैद्धांतिक सोच को बढ़ाना और रणनीति पर प्रभावी तर्क के लिए उनकी योग्यता को विकसित करना है। यह संपूर्ण सरकार के ²ष्टिकोण को लेकर विभिन्न विचारों और सिद्धांतों को शासन कला (स्टेटक्राफ्ट) से जोड़ने के संबंध में प्रतिभागियों की क्षमता में और अधिक बढ़ोतरी करेगा। यह पाठ्यक्रम सीएडब्ल्यू में आयोजित किया गया था, जो वायु शक्ति अध्ययन के लिए आईएएफ का प्रमुख संस्थान है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 24 Jun 2022, 01:05:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.