logo-image
लोकसभा चुनाव

जय भीम के बाद जय फिलिस्तीन... लोकसभा में शपथ के दौरान असदुद्दीन ओवैसी ने लगाया नारा, BJP ने जताई आपत्ति

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने लोकसभा में जय भीम के बाद जय फिलिस्तीन का नारा लगाया है. ओवैसी ने ये नारा 18वीं लोकसभा के सदस्य के रूप में शपथ ग्रहण करने के दौरान लगाया है.

Updated on: 25 Jun 2024, 04:51 PM

New Delhi:

Asaduddin Owaisi News: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने लोकसभा में जय भीम के बाद जय फिलिस्तीन का नारा लगाया है. ओवैसी ने ये नारा 18वीं लोकसभा के सदस्य के रूप में शपथ ग्रहण करने के दौरान लगाया है. लोकसभा में ओवैसी ने अपने शपथ की समाप्ति 'जय भीम, जय मीम, जय तेलंगाना, जय फिलिस्तीन' शब्दों के साथ की. ऐसे में लोकसभा में ओवैसी के 'जय फिलिस्तीन' का नारा लगाने पर सियासी घमासान मच सकता है. सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने ओवैसी के नारे पर आपत्ति जताई है. 

असदुद्दीन ओवैसी ने 5वीं बार लोकसभा सदस्य के रूप में शपथ ली. इस दौरान ओवैसी ने कहा कि मैं भारत के हाशिए पर पड़े लोगों के मुद्दों को ईमानदारी से उठाता रहूंगा. उनके बयान का वीडियो भी सामने आया है.

यहां देखें-- असदुद्दीन ओवैसी का शपथ भाषण


असदुद्दीन ओवैसी से जब मीडिया ने शपथ लेते समय उनके शब्दों पर सवाल किया तो उन्होने कहा कि, 'हर कोई बहुत सारी बातें कह रहा है. मैंने सिर्फ जय भीम, जय मीम, जय तेलंगाना, जय फिलिस्तीन कहा है. उन्होंने कहा कि उनका ये नारा लगाना संविधान के खिलाफ कैसे है, अगर कोई प्रावधान है तो दिखाओ.'

ओवैसी के नारे पर BJP ने जताई आपत्ति

संसद में शपथ के दौरान एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी के शब्दों पर संसदीय कार्य मंत्री किरेन रिजिजू ने आपत्ति जताई है. उन्होंने कहा, 'फिलिस्तीन या किसी अन्य देश से हमारी कोई दुश्मनी नहीं है. क्या शपथ लेते समय किसी भी सदस्य के लिए दूसरे की प्रशंसा में नारा लगाना उचित है. अगर यह उचित है तो हमें नियमों की जांच करनी होगी.'

'ओवैसी ने असंवैधानिक काम किया'

वहीं, केंद्रीय मंत्री जी किशन रेड्डी ने असदुद्दीन ओवैसी के शपथ ग्रहण करने के बाद 'जय फिलिस्तीन' कहने को असंवैधानिक बताया. उन्होंने कहा कि, 'एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन औवेसी ने आज संसद में जो 'जय फिलिस्तीन' का नारा दिया है, वह बिल्कुल गलत है. यह सदन के नियमों के खिलाफ है. वह भारत में रहकर 'भारत माता की जय' नहीं कहते. लोगों को समझना चाहिए कि वह देश में रहकर असंवैधानिक काम करते हैं.'