News Nation Logo

पीएमके, बीजेपी गठबंधन को लेकर अन्नाद्रमुक की बैठक में हो सकता है हंगामा

पीएमके, बीजेपी गठबंधन को लेकर अन्नाद्रमुक की बैठक में हो सकता है हंगामा

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 09 Jul 2021, 03:05:01 PM
AIADMK leader

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

चेन्नई: शुक्रवार शाम पार्टी मुख्यालय में होने वाली पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों और जिला सचिवों की अन्नाद्रमुक की बैठक में हंगामा हो सकता है।

पार्टी संचालन समिति के सदस्य और पूर्व मंत्री सी.वी. शनमुगम, पीएमके और बीजेपी के साथ पार्टी के चुनावी गठबंधन के खिलाफ विपक्ष का झंडा बुलंद करने जा रहे हैं।

षणमुगम, जो पार्टी के विल्लुपुरम जिला सचिव भी हैं, उन्होंने मंगलवार रात एक सार्वजनिक समारोह में कहा था कि अन्नाद्रमुक के भाजपा के साथ गठबंधन के कारण चुनावों में उसे हार का सामना करना पड़ा था और कई निर्वाचन क्षेत्रों में जहां अल्पसंख्यक वोट निर्धारक थे, पार्टी उम्मीदवारों की भारी हार हुई थी।

पार्टी के नेताओं के एक वर्ग ने पीएमके और उसके नेता अंबुमणि रामदास के खिलाफ सबसे पिछड़ी जातियों (एमबीसी) श्रेणी के तहत वन्नियार समुदाय को 10.5 प्रतिशत आरक्षण के बारे में अपनी टिप्पणी पर पार्टी प्रवक्ता एस. पुगाझेंडी के निष्कासन पर पहले ही नाखुशी व्यक्त की है।

अन्नाद्रमुक कोर कमेटी के नेताओं ने गुरुवार को ऑनलाइन मुलाकात की थी, और शुक्रवार की बैठक के लिए योजना तैयार की थी। विचार-विमर्श के दौरान ये दो प्रमुख मुद्दे सामने आए है।

पार्टी के अंदरूनी सूत्रों के अनुसार, अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री, डी. जयकुमार, सी.वी. शनमुगम, के.सी. वीरामणि, जिन्होंने क्रमश: रॉयपुरम, विल्लुपुरम और जोलारपेट से चुनाव लड़ा था, और 2021 के चुनावों में हार गए, के पलानीस्वामी की अन्नाद्रमुक सरकार में एक तिहाई से अधिक मंत्री चुनाव नहीं जीत सके। यह, भाजपा के साथ गठबंधन का परिणाम था क्योंकि इन निर्वाचन क्षेत्रों में मुस्लिमों की एक मजबूत उपस्थिति थी और उन्होंने एआईएडीएम-बीजेपी गठबंधन के खिलाफ पूर्ण मतदान किया था।

अन्नाद्रमुक के एक वरिष्ठ नेता, जिन्होंने आईएएनएस से बात करते हुए नाम नहीं बताया, उन्होंने कहा, हमें अब स्थानीय निकाय चुनावों का सामना करना है और पहले ही हम दो चुनाव हार चुके हैं - 2019 के आम चुनाव और 2021 के विधानसभा चुनाव। वोट शेयर अंतर 3 प्रतिशत से भी कम और यह दशार्ता है कि अगर हम तमिलनाडु जैसे राज्य में राजनीतिक गठबंधन में नहीं गए होते तो हम आसानी से घर-घर जा सकते थे। नेतृत्व के पास उस पर कोई ²ष्टिकोण नहीं था और शुक्रवार को हम बैठक में इसका विरोध करेंगे।

हालांकि, अन्नाद्रमुक नेतृत्व के पास अब भाजपा और पीएमके के साथ गठबंधन जारी रखने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। एआईएडीएमके के कुछ नेताओं के मुताबिक, बीजेपी एआईएडीएमके के साथ रहने से ज्यादा खुश है, क्योंकि उसने 2016 में 4 विधानसभा सीटें जीती थीं, पीएमके अपनी निष्ठा को बहुत अच्छी तरह से बदल सकती है।

पलानीस्वामी और पन्नीरसेल्वम दोनों ने कहा था कि भाजपा गठबंधन के खिलाफ विरोध पार्टी की ओर से नहीं बल्कि व्यक्तियों की ओर से किया गया था। पीएमके नेता अंबुमणि रामदास की आलोचना करने के लिए एस. पुगाझेंडी जैसे वरिष्ठ नेता को निष्कासित करके नेतृत्व ने एक कड़ा संदेश भी दिया।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 09 Jul 2021, 03:05:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो