News Nation Logo

LIVE: दिल्ली पुलिस ने संयम बरता, सरकार ने 10 राउंड बात की : प्रकाश जावड़ेकर

कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसानों का आंदोलन आज 63वें दिन में प्रवेश कर गया है. किसान दिल्ली की सीमाओं पर डटे हैं, लेकिन उनका अब कोई नेतृत्व नहीं है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 27 Jan 2021, 10:10:19 PM
Prakash Javadekar

LIVE: योगेंद्र यादव, राकेश टिकैत समेत कई नेताओं पर FIR दर्ज (Photo Credit: ANI)

नई दिल्ली:

कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसानों का आंदोलन आज 63वें दिन में प्रवेश कर गया है. किसान दिल्ली की सीमाओं पर डटे हैं, लेकिन उनका अब कोई नेतृत्व नहीं है. नेतृत्वविहान रही ट्रैक्टर परेड के दौरान किसानों ने मंगलवार को दिल्ली में बवाल मचाया. सबसे शर्मनाक बात ये थी कि दंगाई किसानों ने लाल किले पर चढ़कर एक विशेष संगठन का झंडा लगा दिया. ये कह सकते हैं कि किसान ट्रैक्टर परेड के लिए नहीं, बल्कि दिल्ली में हिंसा फैलाने के लिए आए थे. लेकिन अब विडंबना यह है कि आंदोलन के नेतृत्व और समर्थन कर रहे नेता कल की घटना से अपना पल्ला झाड़ रहे हैं. फिलहाल इस हिंसा को लेकर पुलिस एक्शन मोड़ में है और मुकदमे दर्ज किए गए हैं. 

LIVE TV NN

NS

NS

गाजीपुर बॉर्डर पर गाजीपुर कमेटी के प्रवक्ता जगतार सिंह बाजवा की गिरफ्तारी के लिए दिल्ली पुलिस किसी भी समय दे सकती है दबिश. किसानों में हलचल सभी किसान एकजुट होना हुए शुरू लगातार अधिकारी किसान नेता जगतार सिंह बाजवा से कर रहे हैं बातचीत... गाजीपुर थाने में दर्ज हुई एफ आई आर में नेमेड है बाजवा. ग़ाज़ीपुर बॉर्डर- किसान लगातार anounce कर यह हैं कि साथी घबराएं नहीं, हमारे और किसान साथी चल चुके हैं, जल्दी ही बड़ी संख्या में यहां पहुचेंगे किसान साथी.

जिन किसान नेताओं की मिलीभगत पाई जाएगी, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी. किसान नेताओं ने विश्वासघात किया. कर्रवाई होगी. 19 आरोपी अभी तक गिरफ्तार, 50 अभी हिरासत में दीप सिंधु पर बार बार पूछे गए सवाल के जवाब में CP ने  उनका नाम नहीं लिया. सिर्फ यही कहा- जिसकी मिलीभगत होगी, कार्रवाई होगी : CP

308 ट्विटर हैंडल पाकिस्तान से ऑपरेट हो रहे है. हमारे पास बराबर खुफिया जानकारी मिल रही थी. वरना हमे एम ट्विटर हैंडल का पता नहीं चलता. पर चूंकि हमारी एग्रीमेंट हुआ था, हम उस पर कायम रहना चाहते थे. यही वजह है कि पुलिस की वजह से किसी की मौत नहीं हुई : CP

हमारे पास हिंसा करने वालो की वीडियो फुटेज है. उनकी शिनाख्त हो रही है. हम बेहद गम्भीरता से ले रहे है. एक बात साफ कर दे किसी को छोड़ा नहीं जाएगा. देश के सम्मान कसाथ खिलवाड़ करने वालो के खिलाफ कार्रवाई होगी. अब तक 25 से ज़्यादा केस पुलिस ने दर्ज किए गए.

CP- पुलिस ने संयम का रास्ता चुना क्योंकि  हम जान माल का नुकसान नहीं चाहते थे. हमने एग्रीमेंट के लिहाज से अपनी जिम्मेदारी का पालन किया. हिंसा शर्तों के उल्लंघन के चलते हुई. हिंसा में किसान नेता शामिल थे. 394 पुलिस वाले ज़ख्मी. 428 बैरिकेड , 4 xray मशीन, 30 पुलिस गाड़िया, 6  कन्टेनर डैमेज हुए. आसूं गैस का इस्तेमाल किया हमने.

गाजीपुर से राकेश टिकैत के साथ किसान आगे बढ़े. हिंसा में शामिल होते हुए लाल किले तक पहुँच गए.

CP बोल रहे है. मुकरबा चौक पर हिंसा हुई, टिकरी बॉर्डर पर भी किसान आठ साढ़े आठ बजे के आसपास निकले. उनके नेता बूटा सिंह भी वहाँ हिंसा में शामिल रहे. इसके बाद उनमें से कुछ लाल किले तक पहुंचे. अभी वीडियो नहीं चला.

आठ बजे के आसपास ही टिकरी और गाजीपुर से भी वो ट्रैक्टर मार्च निकल पड़ा। जबकि 12 बजे का वक़्त तय था। पुलिस ने समझाया पर वो बरकेड तोड़ कर आगे बढ़ गया. मुकरबा चौक पर सतनाम सिंह पन्नू ने भड़काऊ भाषण दिया. अभी स्क्रीन पर सतनाम सिंह पन्नू का भाषण दिखाया जा रहा है.

 CP - किसान नेताओं से अंडरटेकिंग भी ली गई. ये समझ नहीं आया कि वो वायदे2से क्यों मुकरे. Agrrsesive स्पीच दी गई. उनसे उनकी मंशा साफ थी, शुरुआत से नेता सतनाम सिंह पन्नु ने भड़काऊ भाषण दिया, जिससे किसान बरिकडे2 तोड़ने ओर आमादा हो गए.  दर्शनपाल भी वहाँ पहुँच गए औऱ  रूट फ़ॉलो करने से मना कर दिया.


 

CP - उस दिन रिपब्लिक परेड थी. लिहाज कुछ शर्तें उनके लिए रखी गई.


1-  मार्च की शुरुआत 12 बजे शुरू हो, 5 बजे खत्म हो


2- किसान नेता मार्च को लीड करें


3 - हर जत्थे के साथ उनके लीडर न हो


4 - 5 हज़ार से ज्यादा ट्रैक्टर न हो,


5- कोई हथियार  न हो

संयुक्त किसान मोर्चा पिछले दो महीने से धरने पर बैठे है. 2 जनवरी को पुलिस को किसानों को  ट्रैक्टर मार्च की जानकारी मिली. हमने जानकारी मिलते ही किसान नेताओं से बात की.5 राउंड की बातचीत हुई. उनसे कहा गया कि 26 जनवरी के बजाए किसी और दिन ट्रैक्टर मार्च करे. उनके ना मानने पर हमने कहा कि KMP पर ही मार्च  करे, उन्हें सहयोग का आश्वासन भी दिया गया पर वो दिल्ली में ही मार्च के लिए अड़े रहे. इसके बाद पांच राउंड की बातचीत के बाद हमने उनके लिए 3 रूट तय किये : CP -

यूपी दिल्ली गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने शक्ति प्रदर्शन किया किसानों ने तीनों कृषि कानून वापस लेने के नारे लगाए. वीएम सिंह के धरना खत्म करने के बाद किसान आक्रोशित. शक्ति प्रदर्शन करते नजर आए किसान.

गाजीपुर बॉर्डर पर हलचल तेज. बताया जा रहा है कि फोर्स बुलाई गई है. आज रात आंदोलन स्थल को कराया जा सकता है खाली.

गाज़ीपुर बॉर्डर पर विएम सिंह के हटने के बाद अब टिकैत गुट में हलचल चल रही है. मीटिंग की जा रही है.

दिल्ली हिंसा के बाद twitter ने 550 हैंडल सस्पेंड किए. इन से भड़काने का काम हो रहा था. दिल्ली पुलिस और एजेंसीज ने इनकी जानकारी दी थी.

गाज़ीपुर बॉर्डर पर पहले के मुकाबले सन्नाटा है. लंगर स्थल सूने हैं. टेंट हट रहे हैं. किसान नहीं है. लेकिन जब किसानों की कम होती संख्या पर कुछ बोला तो वहां मौजूद किसान हमसे उलझ गए भा होने लगी.

वीएम सिंह ने कल हुए हुड़दंग को लेकर राकेश टिकैत को जिम्मेदार ठहराते हुए आंदोलन को यहीं खत्म करने की बात कही. ऐ किसानों फर्जी नेताओं से सावधान करता हूँ.

भानु गट के अध्यक्ष भानु प्रताप की प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू . हम चिल्ल पर किसानों की समस्या हल के लिए आये थे. लाल किले और दिल्ली में अराजकता करने. नहीं आये थे, कल जो हुआ देश को शर्मसार करने वाला है. भानु गुट घोर निंदा करता है. मेरा मन दुखी है कि 58 दिन का धरना खत्म करता हूं.

किसान नेता वीएम सिंह ने ऐलान किया है कि उनका संगठन किसानों के आंदोलन से अलग हो रहा है. वीएम सिंह के संगठन का नाम राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ है. ये संगठन अब आंदोलन का हिस्सा नहीं होगा. वीएम सिंह ने कहा कि इस रूप से आंदोलन नहीं चलेगा. हम यहां पर शहीद कराने या लोगों को पिटवाने नहीं आए हैं.

किसान नेता (राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन) वीएम सिंह से जुड़े किसान धरना स्थल से वापस अपने अपने घरों के लिए निकलेंगे. वीएम सिंह ने कहा कि संगठन से जुड़े लोगों को धरना खत्म करने के लिए कहा

दिल्ली हिंसा में अब तक कुल 26 किसान नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज


जगबीर सिंह टाडा ,भोग सिंह मनसा, सुखपाल सिंह डाफर,ऋषि पाल, प्रेम सिंह गहलोत, सुरजीत सिंह फूल कृपाल सिंह नातुवाला विएमसिंह सतपाल सिंह मुक्केश चंद्र जोगिंदर सिंह बलवीर सिंह राजेवाल बूटा सिंह योगेंद्र यादव सतनाम पन्नू सरवन सिंह दर्शन पाल राकेश टिक्केत और अन्य के खिलाफ FIR दर्ज.

किसानों के दिल्ली में बवाल के बाद अब उसके खिलाफ ही विरोध की आवाज उठने लगी है. इसी कड़ी में हरियाणा के पेट्रो पदार्थ एशोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष अनिल यादव ने ऐलान किया है कि अगर आज शाम तक हाईवे खाली नहीं किए तो कल से रेवाड़ी में बने तीनों डिपो से एक भी बूंद तेल पेट्रोल पंपों पर सप्लाई नहीं होगा. अनिल यादव आज राजस्थान हरियाणा बॉर्डर  पहुंचे और कहा कि फर्जी किसानों को अब और नहीं झेल सकते हैं, रोज करोड़ों का नुकसान हो रहा है.

दिल्ली की घटना को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत, योगेंद्र यादव समेत कई नेताओं पर FIR दर्ज की गई है.

मैंने आज संस्कृति मंत्रालय और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के उच्च अधिकारियों के साथ लाल किले का भ्रमण किया. मैंने 2 निर्देश दिए हैं कि तत्काल रिपोर्ट बनाई जाए और उसे गृह मंत्रालय को सौंपी जाए तथा तत्काल FIR दर्ज की जाए. रिपोर्ट आने के बाद बाकी चीजें स्पष्ट हो सकेंगी : पर्यटन मंत्री प्रहलाद जोशी

बॉल कोपरा को 10,600 रुपये देने का फैसला हुआ है. इसमें 300 रुपए MSP बढ़ाया गया है. इसका लागत मूल्य 6,805 और इसमें 55 फीसदी वृद्धि हुई है: केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में आज कैबिनेट की बैठक हुई. बैठक में कोपरा निर्माण करने वाले किसानों के लिए एक महत्वपूर्ण फैसला लिया गया. आज  MSP में बढ़ोतरी की गई. 375 रुपये से ज़्यादा बढ़कर 10,335 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है. इसकी लागत मूल्य 6805 है.

गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को बुलाया है. दिल्ली में किसानों द्वारा हुए उपद्रव और हिंसा पर गृह मंत्री को विस्तृत रिपोर्ट देंगे. विस्तृत रिपोर्ट लेकर दिल्ली पुलिस कमिश्नर बैठक में पहुंचे हैं. आईबी चीफ भी बैठक में मौजूद हैं.

गृहमंत्री अमित शाह के घर हाई लेवल मीटिंग चल रही है. दिल्ली पुलिस कमिश्नर भी बैठक में मौजूद हैं.

दिल्ली में कल हुए उत्पात के बाद गाजीपुर बॉर्डर पर धरना दे रहे किसानों में दो फाड़ नजर आ रही है. सिख और उत्तर प्रदेश के किसान आंदोलन अब अलग अलग कर रहे हैं. सिख नेशनल हाईवे पर आंदोलन बढ़ा रहे हैं तो यूपी के किसान नीचे की तरफ बैठे हैं.

कल की हिंसा को लेकर IPC की धारा 395 (डकैत), 397 (लूट या डकैत, मारने या चोट पहुंचाने की कोशिश), 120 बी (आपराधिक साजिश की सजा) और अन्य धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की है. क्राइम ब्रांच द्वारा जांच की जाएगी- दिल्ली पुलिस

दिल्ली में हिंसा पर 93 उपद्रवी गिरफ्तार किए गए हैं. पुलिस ने कल शहर में किसान ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के संबंध में 200 लोगों को हिरासत में लिया. जल्द ही उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा: दिल्ली पुलिस


यूपी दिल्ली गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे किसान प्रदर्शन के चलते सुरक्षा की दृष्टि से दिल्ली पुलिस की तरफ से नेशनल हाईवे 9 को बंद कर दिया है, जिसकी वजह से दिल्ली से गाजीपुर की तरफ आने वाली सर्विस रोड पर लंबा जाम लगा हुआ है.

लाल किले के अंदर मंगलवार को उपद्रवी किसानों ने जमकर उत्पात मचाया. लाल किले में टिकट काउंटर से लेकर तमाम चीजों को तोड़ा गया है.


लाल किले पर झंडा फहराने वालों के खिलाफ गृह मंत्रालय कड़ी कानूनी कार्रवाई का विचार कर रहा है. गृह मंत्रालय में उच्चस्तरीय बैठक चल रही है. जिसमें गृह सचिव, कानून मंत्रालय के सचिव, एडिसनल सेक्रेटरी(UT) और IB के अधिकारी मौजूद हैं. उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के लिए गृह मंत्रालय कानून मंत्रालय की मदद ले रहा है. 

दिल्ली पुलिस कमिश्नर कल किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं.

दिल्ली में कल हुई हिंसा के बाद केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रहलाद पटेल ने लाल किले का दौरा किया है.


दिल्ली में मंगलवार को हुई हिंसा के दौरान किसानों के हमले में 300 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. दिल्ली पुलिस ने इसकी पुष्टि की है.


भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि जिसने झंडा फहराया वो कौन आदमी था? एक कौम को बदनाम करने की साज़िश पिछले 2 महीने से चल रही है. कुछ लोग को चिंहित किया गया है, उन्हें आज ही यहां से जाना होगा. जो आदमी हिंसा में पाया जाएगा उसे स्थान छोड़ना पड़ेगा और उसके खिलाफ कार्रवाई होगी.

कल किसान ट्रैक्टर रैली के दौरान आईटीओ इलाके में हुई हिंसा के बाद आज आईटीओ में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. 

किसानों के आंदोलन के चलते दिल्ली में पुलिस ने आज कई सड़कों को बंद किया गया है. मिन्टो रोड से कनाट प्लेस जाने वाले मार्ग को बंद कर दिया गया है. गाज़ीपुर मंडी, NH-9 और NH-24  को बंद कर दिया है. दिल्ली से गाज़ियाबाद जाने के लिए कड़कड़ी मोड़, शाहदरा और DND का प्रयोग कर सकते हैं.

टिकरी बॉर्डर पर पहले जैसी स्थिति बहाल हो गई है. यहां पुलिस ने बैरिकेड लगा दिए हैं. बड़ी संख्या में सुरक्षाबल तैनात हैं. फिहाल आज टिकरी बॉर्डर पर शांत है. 

दिल्ली के बुराड़ी थाने में आंदोलन के चलते दंगे, फसाद और सरकारी काम में बाधा डालने की धाराओं के तहत उपद्रवियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. 

दिल्ली में कल की हिंसा और आज के कार्यक्रम को लेकर पंजाब किसान जत्थेबंदियों की बैठक बुलाई गई है. सुबह 11 बजे यह बैठक होगी.

भारत में कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसानों के आंदोलन के समर्थन में खालिस्तानियों ने यूएस में भारतीय दूतावास के बाहर प्रदर्शन किया. 


किसानों के आंदोलन के दौरान दिल्ली में कल कुल 153 पुलिसकर्मी घायल हुए. नॉर्थ दिल्ली में 41, ईस्ट में 34, वेस्ट में 27, द्वारका में 30, शाहदरा में 5 तथा बाहरी नॉर्थ डिस्ट्रिक और साउथ डिस्ट्रिक में 12-12 जवान घायल हुए हैं. 

लाल किला के परिसर में अब कोई भी ट्रैक्टर और किसान नहीं है. लाल किला को खाली करा लिया गया है. पुलिस ने पूरे इलाके को अपने कब्जे में ले लिया है.

कल की घटना के बाद रात को 1 बजे गाजीपुर पर माहौल शांत दिखा. हालांकि भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है तो वहीं किसानों की संख्या में पहले के मुक़ाबले कम दिख रही है.

सिंघु बॉर्डर पर रात 3 बजे पुलिस नदारद दिखी. जबकि किसान यहां कई किलोमीटर पर हजारों ट्रैक्टरों के साथ खड़े हैं. न्यूज नेशन की टीम ने देर रात सिंघु बॉर्डर का जायजा लिया.

दिल्ली में कल हुई घटना में 83 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. पुलिस ने इस मामले में 7 एफआईआर दर्ज की हैं.

First Published : 27 Jan 2021, 06:44:19 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.