News Nation Logo
संसद में हमने पेगासस का मुद्दा उठाया था: राहुल गांधी पेगासस देश पर, देश के संस्थानों पर एक हमला है: राहुल गांधी पेगासस को कोई प्राइवेट पार्टी नहीं खरीद सकती: राहुल गांधी आर्यन की जमानत पर सुनवाई जारी हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में हुआ अग्निकांड अत्यंत दुखद है: पीएम मोदी मलाणा गांव में त्रासदी के सभी पीड़ित परिवारों के प्रति पीएम मोदी ने संवेदना व्यक्त की राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन राहत और बचाव के काम में पूरी तत्परता से जुटे NCB के DDG ज्ञानेश्वर सिंह समेत NCB की 5 सदस्यीय टीम दिल्ली से मुंबई पहुंची प्रभाकर मुंबई के क्रूज़ ड्रग्स मामले में एक गवाह है दिल्ली में 1 नवंबर से खुल सकेंगे सभी स्कूल: मनीष सिसोदिया भारत सभी देशों के अधिकारों का सम्मान करता है: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह हम अपने समुद्रों और विशेष आर्थिक क्षेत्र की रक्षा हर कीमत पर करेंगे: राजनाथ सिंह लालू ने सोनिया से समान विचारधारा वाले लोगों और पार्टियों को एक मंच पर लाने की बात कही सोनिया जी एक मजबूत विकल्प (सत्तारूढ़ पार्टी का) देने की दिशा में काम करें: लालू प्रसाद यादव मैंने सोनिया गांधी से बात की, उन्होंने मुझसे मेरी कुशलक्षेम पूछी: राजद नेता लालू प्रसाद यादव कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी ने दिल्ली में बुलाई हाई लेवल बैठक पटना के गांधी मैदान बम ब्लास्ट मामले का एक आरोपी फखरुद्दीन को रिहा पटना के गांधी मैदान बम ब्लास्ट मामले में सजा 1 नवंबर को सुनाई जाएगी NIA की स्पेशल कोर्ट ने 10 आरोपियों में से नौ को दोषी करार दिया सीएम तीर्थयात्रा योजना में अयोध्या शामिल: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली दिल्ली के लोग रामलला के दर्शन कर सकेंगे: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किया नई पार्टी बनाने का ऐलान, कहा- सभी 117 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव

किसान संगठनों ने दिल्ली के अंदर परेड करने की मांग फिर दोहराई

कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसानों का आंदोलन आज 59वें दिन में प्रवेश कर गया है. दिल्ली की सीमाओं पर डटे किसान किसी भी मुद्दे पर पीछे हटने को तैयार नहीं है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 23 Jan 2021, 02:00:14 PM
Dehradun farmers

किसान आंदोलन (Photo Credit: ANI)

नई दिल्ली:

कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसानों का आंदोलन आज 59वें दिन में प्रवेश कर गया है. दिल्ली की सीमाओं पर डटे किसान किसी भी मुद्दे पर पीछे हटने को तैयार नहीं है. सरकार और किसानों के बीच अब वार्ता का दौर भी समाप्त हो गया है. अब तक 11 दौर की बातचीत हुई, सरकार की ओर से कई प्रस्ताव दिए गए, मगर किसान सिर्फ अपनी जिद पर अड़े रहे, जिस वजह से इन बैठकों का कोई नतीजा नहीं निकल सका. इन कानूनों को रद्द किए जाने की मांग के साथ अब किसान 26 जनवरी को राजपथ पर ट्रैक्टर रैली करने की जिद पर अड़े हैं. 

गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली में परेड करने के मद्देनजर एक रिसोर्ट में हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश के पुलिस अधिकारियों के साथ किसानों की बैठक. बैठक में किसान संगठनों ने दिल्ली के भीतर परेड करने की मांग दोहराई.

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में कृषि कानूनों के विरोध में राजभवन तक मार्च करने से रोकने पर किसानों और पुलिस के बीच हाथापाई हुई है.


मध्य प्रदेश में राजधानी भोपाल में किसानों के समर्थन में मार्च कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर वाटर कैनन का इस्तेमाल किया गया है. 


गणतंत्र दिवस पर किसानों के प्रस्तावित ट्रैक्टर परेड को लेकर दिल्ली पुलिस के साथ किसान संगठनों की आज एक महत्वपूर्ण बैठक होनी है, जिसमें इस परेड के लिए रोड मैप तय कर लिया जाएगा. 

सिंघु बॉर्डर पर किसान आंदोलन के बीच एक और जान चली गई है. आंदोलन में शामिल एक किसान मजदूर ठंड की वजह से मौत हो गई है.

नोएडा के चिल्ला बॉर्डर पर किसानों ने आंदोलन की सुरक्षा के लिए खुद तैयारियां करनी शुरू कर दी है. जिला बॉर्डर पर किसानों ने सुबह दो ऐसे रास्तों को खुद ही बांस बल्ली लगाकर बंद करना शुरू कर दिया, जिन से कुछ लोग आंदोलन की तरफ पहुंच पा रहे थे. किसानों का कहना है कि नोएडा में लगातार दो दिन बम मिलने की झूठी सूचना मिली, लेकिन इससे एक बात तो तय है कि शरारती तत्व एक्टिव हो गए हैं और ऐसे में हमारे आंदोलन में कोई शरारती तत्व ना पहुंच पाए, इसलिए हम इस रास्ते को बंद कर रहे हैं.

किसान आज 26 दिसंबर की ट्रैक्टर परेड के लिए 'फुल ड्रेस रिहर्सल' करेंगे. किसानों ने बॉर्डर पर अब भैंसा बुग्गी भी मंगवाने शुरू किए हैं. 

26 जनवरी को किसानों ने ट्रैक्टर मार्च निकालने का ऐलान किया है, जिस पर किसानों और पुलिस के बीच भी गतिरोध बना हुआ है.

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा है कि किसान आंदोलन के दौरान जितने भी किसानों ने दम तोड़ा है, उन सभी के एक-एक परिजन को पंजाब सरकार नौकरी देगी.

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसान नेताओं पर बातचीत के सिद्धांतों का पालन न करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि जब किसी मुद्दे पर दो पक्षों में बातचीत चल रही हो, तब नए-नए तरह के आंदोलनों के ऐलान से बचना चाहिए. दबाव बनाने के लिए नए आंदोलनों की घोषणा से बातचीत का माहौल प्रभावित होता है.

कड़ाके की ठंड में हजारों की संख्या में किसान दिल्ली की अलग अलग सीमाओं पर डटे हुए हैं. 

First Published : 23 Jan 2021, 07:11:32 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो