News Nation Logo
उत्तराखंड : बारिश के दौरान चारधाम यात्रा बड़ी चुनौती बनी, संवेदनशील क्षेत्रों में SDRF तैनात आंधी-बारिश को लेकर मौसम विभाग ने दिल्ली-NCR के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया राजस्थान : 11 जिलों में आज आंधी-बारिश का ऑरेंज अलर्ट, ओला गिरने की भी आशंका बिहार : पूर्णिया में त्रिपुरा से जम्मू जा रहा पाइप लदा ट्रक पलटने से 8 मजदूरों की मौत, 8 घायल पर्यटन बढ़ाने के लिए यूपी सरकार की नई पहल, आगरा मथुरा के बीच हेली टैक्सी सेवा जल्द महाराष्ट्र के पंढरपुर-मोहोल रोड पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत- 3 की हालत गंभीर बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ धाम की यात्रा, जिला प्रशासन के सख्त निर्देश आंधी-बारिश के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से 19 फ्लाइट्स डाइवर्ट
Banner

इस साल पाकिस्तान से 33 घुसपैठ की कोशिश हुई, चीनियों से नहीं : भारत

इस साल पाकिस्तान से 33 घुसपैठ की कोशिश हुई, चीनियों से नहीं : भारत

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 09 Aug 2021, 10:35:01 PM
Agartala Border

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   जम्मू-कश्मीर में इस साल जून तक नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ की कुल 33 कोशिशें की गईं, लेकिन भारत-चीन सीमा पर घुसपैठ का कोई मामला सामने नहीं आया।

रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट ने उच्च सदन में एक प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा कि नियंत्रण रेखा पर 11 आतंकवादी उस दौरान मारे गए जब वे भारत के क्षेत्र में प्रवेश करने की कोशिश कर रहे थे और 20 को पकड़ लिया गया।

भारत-बांग्लादेश सीमा की बात करें तो इस साल जून तक कुल 441 घुसपैठ की कोशिश की गई। मंत्री ने यह भी कहा कि 740 लोगों को पकड़ा गया और एक की मौत हो गई।

इसके अलावा, इस साल जून तक भारत-नेपाल सीमा पर 11 घुसपैठियों को पकड़ा गया है।

भारत-म्यांमार सीमा पर, 1 फरवरी, 2021 के सैन्य तख्तापलट के बाद, कुल 8486 म्यांमार नागरिक और शरणार्थी भारत आए, जिनमें से 5796 को पीछे धकेल दिया गया और 2690 अभी भी भारत में हैं।

मंत्री ने कहा कि सीमाओं पर बलों द्वारा पकड़े गए घुसपैठियों को संबंधित राज्य पुलिस को सौंप दिया जाता है।

भारत-चीन सीमा पर घुसपैठ की कोशिशों पर मंत्री ने कहा कि इस साल घुसपैठ का कोई मामला सामने नहीं आया है।

6 अगस्त को, भारत और चीन के बीच सीमा विवाद पर एक और बड़ी सफलता मिली, दोनों देशों ने पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गोगरा में घर्षण पैट्रोलिंग पॉइंट (पीपी) 17ए से सैनिकों को वापस ले लिया। उस स्थान पर जहां सीमा विवाद था, मई 2020 में विस्फोट हुआ था।

भारतीय सेना ने कहा है कि दोनों देशों ने चरणबद्ध, समन्वित और सत्यापित तरीके से इस क्षेत्र में अग्रिम तैनाती बंद कर दी है।

भारतीय सेना ने एक बयान में कहा, विघटन प्रक्रिया को दो दिनों यानी 4 और 5 अगस्त 2021 को अंजाम दिया गया। दोनों पक्षों के सैनिक अब अपने-अपने स्थायी ठिकानों में हैं।

सुरक्षा बल ने कहा कि भारत और चीन के कोर कमांडरों के बीच बारहवें दौर की वार्ता 31 जुलाई, 2021 को पूर्वी लद्दाख के चुशुल मोल्दो बिंदु पर हुई थी। दोनों पक्षों ने भारत-चीन सीमा क्षेत्रों के पश्चिमी क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर विघटन से संबंधित शेष क्षेत्रों के समाधान पर विचारों का स्पष्ट और गहन आदान-प्रदान किया।

भारतीय सेना ने कहा, बैठक के परिणाम के रूप में, दोनों पक्ष गोगरा के क्षेत्र में विघटन पर सहमत हुए।

सेना के मुताबिक, गोगरा के लिए दोनों देशों के बीच विच्छेदन के साथ, भारत अब अन्य शेष घर्षण क्षेत्रों जैसे हॉट स्प्रिंग्स और 900 वर्ग किलोमीटर के देपसांग मैदानों को अपने कब्जे में ले लेगा।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 09 Aug 2021, 10:35:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.