News Nation Logo
Banner

झारखंड के बाद यूपी और बिहार में पूजा-नमाज के लिए विधानसभा भवन में कमरे की मांग

बीजेपी की ओर से जारी विरोध के बीच राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने स्पष्ट संकेत दे दिया है कि सरकार किसी भी सूरत में बैकफुट पर जाने को तैयार नहीं है. 

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 07 Sep 2021, 05:45:57 PM
HEMANT SHOREN

हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री झारखंड (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुबर दास ने हेमंत सोरेनको लिखा पत्र
  • बिहार के विधायक ने विधानसभा में हनुमान चालीसा पाठ के लिए मांगा कक्ष
  • कानपुर के विधायक इरफान सोलंकी ने विधानसभा भवन में नमाज के लिए मांगा कमरा

 

 

नई दिल्ली:

झारखंड विधानसभा में नमाज पढ़ने के लिए अलग  कमरा अलॉट करने का विवाद अब राज्य की सीमा पार कर गया है. झारखंड  विधानसभा में जारी संग्राम के बाद अब बिहार और उत्तर प्रदेश विधानसभा में हनुमान चालीसा पाठ करने और नमाज पढ़ने की मांग शुरू हो गयी है. कानपुर के विधायक ने जहां यूपी विधानसभा में नमाज के लिए अलग कमरा मांगा है, तो वहीं बिहार बीजेपी के विधायक ने हनुमान चालीसा पाठ के लिए कमरे की मांग की है. झारखंड विधानसभा भवन के कमरा संख्या टीडब्ल्यू- 348 को नमाज़ कक्ष बनाया गया है. यहां मुस्लिम विधायक और अन्य मुस्लिम कर्मचारी नमाज़ पढ़ सकेंगे. यह आदेश विधानसभा अध्यक्ष रविंद्रनाथ महतो की तरफ़ से विधानसभा सचिवालय ने जारी किया है. इस आदेश के बाद विपक्षी पार्टी ख़ासतौर पर बीजेपी ने इसका ज़ोरदार विरोध किया है.

झारखंड विधानसभा भवन में अल्पसंख्यकों को नमाज पढ़ने के लिए अलग से कमरा आवंटित करने क मुद्दे पर सत्ता पक्ष और बीजेपी आमने-सामने है. सदन से लेकर सड़क तक घमासान मचा हुआ है. पूर्व मुख्यमंत्री रघुबर दास इस मामले को लेकर विधानसभा अध्‍यक्ष को चिट्ठी लिखी है. उन्‍होंने पत्र के माध्‍यम से कहा कि लोकतंत्र के मंदिर विधानसभा में नमाज के लिए अलग कमरे के आवंटन का निर्णय ठीक नहीं है. सरकार को इस फैसले को वापस लेना चाहिए. विधानसभा स्पीकर को लिखी अपनी चिट्ठी में रघुबर दास ने इसे संविधान विरोधी करार दिया है. उन्‍होंने अल्‍टीमेटम दिया कि अगर 24 घंटे के अंदर सरकार अपना फैसला नहीं बदलती है तो वह विधानसभा परिसर के मुख्यद्वार पर धरना पर बैठ जाएंगे.

यह भी पढ़ें:हंगामे और प्रदर्शन की भेंट चढ़ा झारखंड विधानसभा सत्र, जानें वजह 

बीजेपी की ओर से जारी विरोध के बीच राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने स्पष्ट संकेत दे दिया है कि सरकार किसी भी सूरत में बैकफुट पर जाने को तैयार नहीं है. 

झारखंड की विधानसभा में नमाज़ पढ़ने के लिए अलग कमरा अलॉट होने को लेकर विवाद जारी है. अब इस मसले पर उत्तर प्रदेश और बिहार तक चर्चा होनी शुरू हो गई है और यहां कि विधानसभा में भी ऐसी व्यवस्था की मांग की जा रही है. उत्तर प्रदेश के कानपुर के विधायक इरफान सोलंकी द्वारा मांग की गई है कि यूपी की विधानसभा में भी इसी तरह की व्यवस्था होनी चाहिए. सपा विधायक ने कहा कि सत्र के दौरान नमाज़ पढ़ने में दिक्कत होती है, ऐसे में आस्था को ध्यान में रखते हुए ये सही फैसला होगा.

यूपी के अलावा बिहार में भी इस मसले पर चर्चा जारी है. भारतीय जनता पार्टी के विधायक हरिभूषण ठाकुर ने मांग की है कि बिहार विधानसभा में हनुमान चालीसा का पाठ करने के लिए अलग कमरा बनाया जाए, साथ ही मंगलवार की छुट्टी भी घोषित कर दी जाए. बीजेपी विधायक ने कहा कि संविधान सभी को बराबरी का हक देता है, अगर नमाज़ के लिए कमरा मिल रहा है तो हनुमान चालीसा के लिए क्यों नहीं. हरिभूषण ठाकुर का कहना है कि वह इस मसले पर विधानसभा अध्यक्ष से बात करेंगे, हर किसी को पूजा का अधिकार समान है.

First Published : 07 Sep 2021, 03:47:34 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.