News Nation Logo
उत्तर प्रदेश : आज तीन बड़े मामले ज्ञानवापी, श्रीकृष्ण जन्मभूमि मथुरा और ताजमहल पर सुनवाई प्रधानमंत्री आवास पर कैबिनेट और CCEA की बैठक, कुछ MoU समेत अहम मुद्दों पर हो सकता है फैसला कपिल सिब्बल सपा कार्यालय में अखिलेश यादव के साथ मौजूद, बनेंगे राज्यसभा उम्मीदवार राज्यसभा के लिए कपिल सिब्बल, डिंपल यादव और जावेद अली होंगे समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार- सूत्र पंजाब : ग्रुप सी और डी के पदों के लिए पंजाबी योग्यता टेस्ट कंपलसरी, भगवंत मान सरकार का फैसला मथुरा : जिला अदालत में श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले में 31 मई को होगी अगली सुनवाई मुंबई : मोटरसाइकिल पर दोनों सवारों को हेलमेट पहनना अनिवार्य होगा, 15 दिनों में नियम पर अमल यासीन मलिक की सजा पर बहस पूरी- ऑर्डर रिजर्व, दोपहर बाद विशेष NIA कोर्ट सुनाएगी सजा ज्ञानवापी हिंदुओं को सौंपने-पूजा की मांग वाला नया मामला सिविल जज फास्ट ट्रैक कोर्ट में स्थानांतरित अयोध्या : 1 जून को श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह का शिला पूजन होगा, सीएम योगी होंगे शामिल उत्तराखंड : मौसम सामान्य होने के बाद आज दोबारा सुचारू रूप से शुरू हुई चारधाम यात्रा औरंगजेब की कब्र के बाद अब सतारा में मौजूद अफजल खान के कब्र पर बढ़ाई गई सुरक्षा
Banner

अफगान राजदूत ने भारत में कहा, अप्रैल से 3600 लोग मारे गए, 1000 सैनिक शहीद

भारत में अफगानिस्तान के राजदूत, फरीद ममुंडजाय ने बताया कि अप्रैल से अब तक हमलों 3,600 से अधिक लोग मारे गए हैं. उन्होंने आगे बताया कि इस दौरान करीब 1000 सैनिक भी शहीद हुए हैं जबकि 3000 से अधिक लोग इस दौरान घायल भी हुए हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 09 Jul 2021, 06:57:12 PM
farid mamundzay enoy afghan

राजदूत फरीद मामुन्दजई (Photo Credit: फाइल )

highlights

  • पाकिस्तानी शूराओं की मौजूदगी चिंता का विषय
  • अफगान राजदूत ने बयां की अफगान की दास्तां
  • भारत तालिबान पर बातचीत का दबाव बना सकता है

नई दिल्ली :  

भारत में अफगानिस्तान के राजदूत, फरीद ममुंडजाय (Farid mamundzay) ने बताया कि अप्रैल से अब तक हमलों 3,600 से अधिक लोग मारे गए हैं. उन्होंने आगे बताया कि इस दौरान करीब 1000 सैनिक भी शहीद हुए हैं जबकि 3000 से अधिक लोग इस दौरान घायल भी हुए हैं. उन्होंने आगे कहा कि हम जो मानव जीवन की कीमत चुका रहे हैं वो बेशकीमती है. अफगानी राजदूत फरीद ने आगे बताया कि भारत सरकार वाणिज्य दूतावासों की उपस्थिति और लोगों के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लेती हैं. उन्होंने आगे बताया कि फिलहाल हमें कोई तत्कालिक खतरा यहां पर नहीं दिखाई दे रहा है और ना ही भारतीय वाणिज्य दूतावास बंद करने पर ऐसी कोई बातचीत हुई है.

अफगानी राजदूत, फरीद ममुंडजाय भारत में पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि, भारत एक प्रमुख भागीदार रहा है. यह अन्य देशों के साथ मिलकर हमारी शांति प्रक्रिया में रचनात्मक भूमिका निभा सकता है. भारत तालिबान को बातचीत के लिए अन्य देशों को भी साथ लाकर अपना दबाव बना सकता है. उन्‍होंने आगे कहा कि हम अंधकार युग की ओर नहीं जा रहे हैं. हमें यह याद रखने की जरूरत है कि 40+ नाटो सदस्य देश आतंकवाद के खिलाफ युद्ध लड़ रहे थे. उनकी वापसी के बाद, यह उम्मीद की जा रही थी कि हम एक कठिन दौर से गुजरेंगे.

भारत में अफगान दूत ने बताया कि  हमने हमेशा कहा है कि पाकिस्तान में शूराओं की मौजूदगी हमारे लिए बहुत चिंता का विषय रही है। उनके परिवार अभी भी वहीं रहते हैं. उनके पास वर्तमान में पाकिस्तान में मौजूद समर्थन और बुनियादी ढांचा है, हम इसे बदलना चाहते हैं. आपको बता दें कि हाल में एक मीडिया इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि कैसे भारत कई देशों की वैध सुरक्षा चिंताओं के अनुरूप तालिबान की आतंकी गतिविधियों को बेअसर करने में रचनात्मक भूमिका निभा सकता है.

First Published : 09 Jul 2021, 05:25:00 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.