News Nation Logo

BREAKING

Banner

विवादित बयान पर अधीर रंजन ने लोकसभा में निर्मला सीतारमण से मांगी माफी, कहा- वह मेरी बहन जैसी हैं

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chowdhury) ने देश के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (nirmala sitharaman) को निर्बला कहने पर खेद जताया है.

By : Deepak Pandey | Updated on: 04 Dec 2019, 07:33:20 PM
कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

नई दिल्‍ली:

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chowdhury) ने देश के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (nirmala sitharaman) को निर्बला कहने पर खेद जताया है. इसके लिए उन्होंने बुधवार को लोकसभा में निर्मला सीतारमण से माफी मांगी है. बता दें कि लोकसभा में कॉर्पोरेट टैक्स कटौती पर चर्चा के दौरान अधीर रंजन चौधरी ने वित्त मंत्री सीतारमण निर्मला की जगह 'निर्बला' कह दिया था. इस पर लोकसभा में खूब हंगामा हो गया.

यह भी पढ़ेंःमहाराष्ट्र: शिवसेना के संजय राउत बोले- BJP के सामने नहीं झुके शरद पवार, क्योंकि

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने लोकसभा में कहा कि मैंने सदन में चर्चा के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) को निर्बाला (Nirbala) के रूप में संबोधित किया था. निर्मला जी मेरी बहन की तरह हैं और मैं उनके भाई की तरह हूं. अगर मेरे शब्दों से उसे दुख पहुंचा है तो मुझे खेद है. 

बता दें कि लोकसभा में आज कॉरपोर्ट टैक्स पर चर्चा के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार को कॉरपोरेट टैक्स कम करने का यही सही समय लगा, क्योंकि यूएस-चीन के बीच व्यापार युद्ध से संकेत मिले हैं कि कई कॉरपोरेट और बहुराष्ट्रीय कंपनियां चीन से बाहर निकलना चाह रही हैं. कॉरपोरेट टैक्स कम करके हम भारत में इन्हें ला सकते हैं.

यह भी पढ़ेंःभारत के साथ T20 मैच खेलने से पहले वेस्टइंडीज को विराट कोहली से भय, सिमन्स ने बताई ये बड़ी वजह

इस दौरान टीएमसी के सांसद महुआ मोइत्रा ने लोकसभा में कॉरपोरेट टैक्स में कटौती को लेकर कहा कि कॉरपोरेट टैक्स को कम करने से केवल उन्हीं को फायदा मिलेगा जो पहले से फायदे में हैं. इससे सुस्ती की सामना कर रही अर्थव्यवस्था को कोई फायदा नहीं होने वाला है. उन्होंने आगे कहा कि अगर यह बिल वाकई सभी के लिए मददगार होगा विशेषकर MSME सेक्टर में तो सभी जगहों पर टैक्स रेट में कमी होनी चाहिए. यह सिर्फ कंपनियों पर लागू नहीं होना चाहिए, यह एलएलपी, साझेदारी फर्म और अन्य गैर-कॉर्पोरेट संस्थाओं पर भी लागू होना चाहिए.

First Published : 04 Dec 2019, 07:17:41 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो