News Nation Logo
Banner
Banner

मध्यप्रदेश के 2 मंत्री बेंगलुरू में हिरासत में, बागी विधायकों ने मिलने से मना किया

बेंगलुरू एयरपोर्ट के पास मध्यप्रदेश के दो मंत्रियों सहित करीब एक दर्जन कांग्रेस नेताओं को हिरासत में ले लिया गया. ये नेता कांग्रेस के बागी 19 विधायकों से मिलना चाहते थे.

IANS | Edited By : Sunil Mishra | Updated on: 13 Mar 2020, 08:14:56 AM
Jitu Patwari

मध्यप्रदेश के 2 मंत्री बेंगलुरू में हिरासत में, बागी विधायक नहीं मिले (Photo Credit: IANS)

बेंगलुरू:

बेंगलुरू एयरपोर्ट के पास मध्यप्रदेश के दो मंत्रियों सहित करीब एक दर्जन कांग्रेस नेताओं को हिरासत में ले लिया गया. ये नेता कांग्रेस के बागी 19 विधायकों से मिलना चाहते थे. एक पुलिस अधिकारी ने आईएएनएस से कहा कि एयरपोर्ट के एंबेसी बॉलेवार्ड क्लब के नजदीक से मध्यप्रदेश के दो मंत्रियों जीतू पटवारी और लाखन सिंह को हिरासत में लिया गया है. बागी विधायक उनसे मिलना नहीं चाहते थे, इसीलिए उन्हें हिरासत में लिया गया.

यह भी पढ़ें : मध्यप्रदेश के 2 मंत्री बेंगलुरू में हिरासत में, बागी विधायकों ने मिलने से मना किया

पार्टी के एक सूत्र ने आईएएनएस से कहा कि एक बागी विधायक मनोज चौधरी भी क्लब पहुंचे थे जिन्हें यह जानकारी मिली थी कि उनके पिता उनसे मिलने आए हैं. लेकिन पुलिस ने उन्हें किसी से मिलने नहीं दिया और हिरासत में ले लिया. इसके बाद यहां आने वाले नेता वापस लौट गए. बागी विधायकों ने रिसॉर्ट प्रबंधकों और पुलिस से कहा था कि कोई भी उनसे मिलने आए तो मिलने न दिया जाए.

क्‍या मध्‍य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिर जाएगी? ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने दिया यह बड़ा संदेश

कांग्रेस छोड़कर भारतीय जनता पार्टी (BJP) का दामन थामने के बाद पहली बार भोपाल पहुंचे राज्यसभा प्रत्याशी ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने खुद को भाजपा के हवाले करने का ऐलान करते हुए इशारों में कहा कि 'कमल नाथ सरकार जाने वाली है.' भाजपा के प्रदेश कार्यालय में गर्मजोशी के साथ हुए स्वागत से गदगद सिंधिया ने भाजपा की रीति-नीति के साथ अपने पारिवारिक रिश्तों का हवाला दिया.

यह भी पढ़ें : ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया की राह चलेंगे सचिन पायलट? शेखावत ने कही यह बड़ी बात

उन्होंने कमल नाथ सरकार (Kamalnath Govt) पर संकट होने का इशारा किया और कहा, "किसी दल के अंदर रहकर आलोचना करना मुश्किल होता है. लेकिन मैं सिंधिया परिवार का खून हूं. जो सही है, उसे सही बोलता हूं. 1968 में मेरी दादी को ललकारा था, तब संविद सरकार का क्या हुआ सब जानते हैं. 1990 में मेरे पिताजी के ऊपर झूठे हवाला कांड के आरोप लगाए और जब मैंने अतिथि विद्वानों, किसानों की बात उठाते हुए सड़क पर उतरने की बात कही तो मुझे कहा कि उतरना है तो उतरो. सिंधिया परिवार को जब ललकारा जाता है तो परिणाम अलग होते हैं."

First Published : 13 Mar 2020, 08:13:14 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो