logo-image

सीपी जोशी के खिलाफ भाजपा की लड़ाई का नेतृत्व करेंगे महाराणा प्रताप के वंशज!

सीपी जोशी के खिलाफ भाजपा की लड़ाई का नेतृत्व करेंगे महाराणा प्रताप के वंशज!

Updated on: 28 Oct 2023, 02:40 PM

जयपुर:

भाजपा के राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सी.पी. जोशी के खिलाफ महाराणा प्रताप के वंशज विश्वराज सिंह मेवाड़ को खड़ा करने के बाद नाथद्वारा सीट पर मुकाबला राज्य में सबसे ज्यादा चर्चित है।

हर कोई यह देखने का इंतजार कर रहा है कि क्या 2008 का एपिसोड, जब सी.पी. जोशी सिर्फ एक वोट से विधानसभा चुनाव हार गए थे, इस बार दोहराया जाएगा।

कहा जाता है कि उस वक्त अशोक गहलोत के अलावा डॉ. जोशी को भी मुख्यमंत्री पद का दावेदार माना जा रहा था, लेकिन महज एक वोट से उनका सपना टूट गया।

पंद्रह साल पहले के ऐतिहासिक चुनाव में कुल 51 फीसदी वोट पड़े थे, जिसमें भाजपा के कल्याण सिंह को 62,216 वोट मिले थे, जबकि जोशी को 62,215 वोट मिले।

जोशी पहली बार 1980 में नाथद्वारा से विधायक चुने गए। इसके बाद वह 1985, 1998, 2003 और 2018 में उसी सीट से फिर विधानसभा चुनाव जीता। पांच बार विधायक रहने के अलावा, वह एक बार भीलवाड़ा से सांसद भी रह चुके हैं।

सी.पी. जोशी के प्रभावशाली ट्रैक रिकॉर्ड को देखते हुए यहां भाजपा के लिए उन्हें हराना आसान नहीं होगा। इसलिए, भगवा पार्टी ने विश्वराज सिंह मेवाड़ को मैदान में उतारा है, जो पूर्व मेवाड़ शाही परिवार से हैं।

भाजपा में शामिल होने के तीन दिन बाद ही महाराणा प्रताप के इस वंशज को नाथद्वारा सीट से उम्मीदवार घोषित कर दिया गया।

अब सवाल उठ रहे हैं कि क्या नाथद्वारा में 2008 का एपिसोड दोहराया जा सकता है।

राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि हालांकि सी.पी. जोशी की वजह से यह सीट कांग्रेस का गढ़ है, लेकिन भाजपा यहां कई बार भाग्यशाली रही है, खासकर राजपूत उम्मीदवार उतारने के बाद। साथ ही, भाजपा की जीत और कांग्रेस के दिग्गज नेता की महज एक वोट से हार ऐतिहासिक है और लोग इस बार के मुकाबले पर उत्सुकता से नजर रख रहे हैं।

नाथद्वारा, जहां देश भर से हजारों भक्त भगवान श्रीनाथजी की पूजा करने के लिए आते हैं, उदयपुर शहर से सिर्फ 45 किमी दूर है, जो इसे मेवाड़ की राजधानी का निकटतम शहर बनाता है। इसलिए उदयपुर भी यहां प्रभाव डालता है।

नाथद्वारा में मतदाताओं की संख्या 2.34 लाख है और इनमें से करीब 80 हजार मतदाता राजपूत समुदाय से हैं। इसके बाद यहां आदिवासियों और फिर ब्राह्मण समुदाय का दबदबा है।

दोनों प्रतियोगियों के बीच मुकाबला कड़ा होगा क्योंकि जहां जोशी पांच बार विधायक रह चुके हैं, वहीं मेवाड़ के वंशज की भी अपनी प्रसिद्धी है। उन्होंने अक्सर राजपूतों के लिए आवाज उठाई है और जब समुदाय ने फिल्म पद्मावत पर आपत्ति जताई तो उन्होंने आगे बढ़कर नेतृत्व किया।

मेवाड़ पर्यावरण के मुद्दे पर भी मुखर रहा है। उदयपुर के पुराने शहर में वास्तुकला की कम प्रचार पर अपनी चिंता व्यक्त करता रहा है।

साथ ही, वह सदियों पुरानी स्थापित जल प्रबंधन प्रणाली में बदलाव के भी खिलाफ हैं, जिसके बारे में उनका कहना है कि यह आने वाले समय में विनाशकारी साबित हो सकता है।

दो मजबूत दावेदारों के मैदान में होने से नाथद्वारा की यह बहुचर्चित सीट एक बार फिर राजनीतिक समीकरण बदलकर इतिहास रचेगी या नहीं, यह तो समय ही बताएगा।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.