logo-image
लोकसभा चुनाव

दूरदर्शी नेतृत्व, युवा प्रतिभा के दम पर 2047 तक 30 ट्रिलियन डॉलर पर पहुंच जायेगा भारत का जीडीपी : एसएपी

दूरदर्शी नेतृत्व, युवा प्रतिभा के दम पर 2047 तक 30 ट्रिलियन डॉलर पर पहुंच जायेगा भारत का जीडीपी : एसएपी

Updated on: 29 Apr 2024, 02:55 PM

मुंबई:

क्लाउड सॉफ्टवेयर कंपनी एसएपी के एशिया प्रशांत जापान के अध्यक्ष पॉल मैरिएट ने सोमवार को कहा कि एक स्थिर और दूरदर्शी नेतृत्व, युवा प्रतिभाशाली आबादी, बड़ा एआई तथा स्टार्टअप समुदाय और विभिन्न प्रकार के कारोबारों में नवाचार के दम पर भारत का जीडीपी 2047 तक 30 लाख करोड़ डॉलर (30 ट्रिलियन डॉलर) पर पहुंच जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2047 तक विकसित भारत के लक्ष्य को हासिल करने के लिए देश की अतुल्य से अनिवार्य तक की यात्रा को जरूरी बताने हुए कंपनी के शीर्ष कार्यकारी ने कहा कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली और तीसरी सबसे बड़ी डिजिटलीकृत अर्थव्यवस्था है।

मैरिएट ने यहां कंपनी के एक कार्यक्रम में कहा, उत्कृष्ट राजनीतिक नेतृत्व के साथ हम विभिन्न प्रकार के कारोबार में जिस प्रकार के नवाचार देख रहे हैं, भारत 2047 तक 30 लाख करोड़ डॉलर के जीडीपी का लक्ष्य हासिल कर सकता है जो वर्तमान की तुलना में 10 गुना है।

उन्होंने जोर दिया कि देश के व्यवसायों को जेनरेटिव एआई का लाभ उठाते हुए अपने पैमाने का विस्तार करना चाहिए। एआई के युग में व्यवसायों को अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी से लैस करने के लिए हम भारत में काफी बड़ा निवेश कर रहे हैं।

कंपनी भारतीय कारोबार को तीन महत्वपूर्ण सेक्टरों में समाधान प्रदान कर रही है : आपूर्ति श्रृंखला को इंटेलीजेंट एवं टिकाऊ बनाने के लिए, बिजनेस एआई के साथ नवाचार के लिए और एसएमई (छोटे तथा मध्यम उद्यम) के जरिये देश के विकास में योगदान देने के लिए।

भारतीय उपमहाद्वीप के लिए एसएपी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक मनीष प्रसाद ने बताया कि भारत का 60 प्रतिशत जीडीपी कहीं न कहीं एसएपी से जुड़ा है। उन्होंने कहा, जहां तक समावेशी विकास की बात है भारत में हमारे 80 प्रतिशत ग्राहक छोटे एवं मध्यम उद्यम से हैं जो भविष्य के विकास की नींव है।

जर्मनी की कंपनी का विदेश में सबसे बड़ा आरएंडडी केंद्र भी भारत में है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.