logo-image
लोकसभा चुनाव

एनडीएसए टीम 6 मार्च को कालेश्‍वरम परियोजना के बैराजों का दौरा करेगी

एनडीएसए टीम 6 मार्च को कालेश्‍वरम परियोजना के बैराजों का दौरा करेगी

Updated on: 04 Mar 2024, 01:25 AM

हैदराबाद:

राष्ट्रीय बांध सुरक्षा प्राधिकरण (एनडीएसए) ने तेलंगाना सरकार के अनुरोध पर कालेश्‍वरम लिफ्ट सिंचाई योजना (केएलआईएस) के मेदिगड्डा, अन्नाराम और सुंडीला बैराज के डिजाइन और निर्माण का निरीक्षण व अध्ययन करने के लिए छह सदस्यीय समिति गठित की है।

सिंचाई मंत्री एन. उत्तम कुमार रेड्डी ने रविवार को कहा कि कालेश्‍वरम परियोजना की गहन जांच के लिए विशेषज्ञ समिति 6 मार्च को आने वाली है। उन्होंने टीम को जांच में राज्य सरकार की ओर से पूरा सहयोग का आश्‍वासन दिया।

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि सरकार एनडीएसए की सिफारिशों को प्राथमिकता देगी।

मंत्री ने कहा कि केंद्रीय जल आयोग के पूर्व अध्यक्ष जे.चंद्रशेखर अय्यर के नेतृत्व वाली समिति मेदिगड्डा बैराज स्तंभों के डूबने के कारणों की जांच करेगी और दो अपस्ट्रीम बैराजों, अन्नाराम और सुंडीला में आए संकट का निरीक्षण करेगी।

मंत्री ने कहा कि मेडीगड्डा बैराज घाटों के डूबने और अन्नाराम और सुंडीला बैराजों को संभावित नुकसान की व्यापक जांच के अनुरोध के बाद समिति का गठन किया गया।

एनडीएसए की एक टीम, जिसने पिछले साल अक्टूबर में मेदिगड्डा बैराज का निरीक्षण किया था, ने तुरंत पानी खाली करने की सिफारिश की थी। सुंडीला और अन्नाराम बैराजों के निरीक्षण के बाद इसने समान मुद्दों की पहचान की थी और निर्देश दिया था कि उन्हें खाली कर दिया जाए।

हालांकि, उत्तम कुमार रेड्डी ने कहा कि बीआरएस नेता उन बैराजों को भरने की मांग करके मुद्दे का राजनीतिकरण करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बीआरएस नेताओं के पास तकनीकी ज्ञान की कमी है और उन्होंने कालेश्‍वरम परियोजना की गुणवत्ता, रखरखाव, निर्माण और डिजाइन की उपेक्षा करने और सभी नियमों को तोड़ने के लिए पिछली बीआरएस सरकार की आलोचना की।

यह देखते हुए कि मेदिगड्डा बैराज कालेश्‍वरम परियोजना के तहत 94,000 करोड़ रुपये में बनाया गया था, उन्होंने निराशा जताई कि बीआरएस नेता यह कहकर घटना को दबाने की कोशिश कर रहे थे कि केवल एक स्तंभ ढह गया था।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.