logo-image
लोकसभा चुनाव

हेल्थजिनी के डेटाबेस से 4.5 लाख संवेदनशील दस्तावेज़, मरीजों के क्लिनिकल डेटा लीक : रिपोर्ट

हेल्थजिनी के डेटाबेस से 4.5 लाख संवेदनशील दस्तावेज़, मरीजों के क्लिनिकल डेटा लीक : रिपोर्ट

Updated on: 26 Apr 2024, 09:05 PM

नई दिल्ली:

दिल्ली स्थित स्वास्थ्य सेवा आईटी समाधान प्रदाता हेल्थजिनी के डेटाबेस से कथित तौर पर मरीजों के 4.5 लाख संवेदनशील दस्तावेज लीक हुए हैं, जिसमें क्लिनिकल डेटा और फोन नंबर, पते और भुगतान विवरण जैसे व्यक्तिगत डेटा शामिल हैं। शुक्रवार को एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है।

साइबरन्यूज़ की रिपोर्ट से पता चला है कि स्वास्थ्य सेवा समाधान प्रदाता ने एक ओपन अमेज़न एस3 बकेट छोड़ दिया, जिससे 36 गीगाबाइट से अधिक डेटा, या लगभग 4,50,000 दस्तावेज़ लीक हो गए, जिनमें से दो लाख मरीजों के थे।

दस्तावेज़ों में कथित तौर पर नाम, जन्मतिथि, फोन नंबर, पता, चिकित्सा अनुबंध संख्या और भुगतान विवरण सहित रोगी के विवरण उजागर हुए हैं।

रोगियों के संवेदनशील नैदानिक ​​डेटा जैसे चिकित्सा इतिहास, उनके बिल, नैदानिक ​​नोट्स, प्रयोगशाला रिपोर्ट और नियुक्ति विवरण जैसे फोटो, स्क्रीनिंग आदि भी लीक हो गये।

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि महत्वपूर्ण बात यह है कि दस्तावेज़ कई महीनों तक खुलेआम उपलब्ध रहे।

साइबरन्यूज़ ने कहा, “व्यक्तिगत मेडिकल डेटा को उजागर करना प्रभावित व्यक्तियों के लिए गंभीर जोखिम पैदा करता है क्योंकि हमलावर पहचान की चोरी, वित्तीय धोखाधड़ी, लक्षित फ़िशिंग हमलों, ब्लैकमेल के लिए जानकारी का उपयोग कर सकते हैं और संभावित रूप से मरीजों के मेडिकल इतिहास और व्यक्तिगत जानकारी से समझौता कर सकते हैं। व्यक्तिगत स्वास्थ्य देखभाल डेटा को डार्क वेब प्लेटफॉर्म्स पर बेचा जा सकता है।”

शोध दल ने आधिकारिक टिप्पणी के लिए हेल्थजिनी से भी संपर्क किया लेकिन खबर के प्रकाशन तक कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली।

गूगल प्ले स्टोर पर एक लाख से अधिक डाउनलोड के साथ हेल्थजिनी ऐप, डॉक्टरों को ढूंढने, अपॉइंटमेंट बुक करने, इलेक्ट्रॉनिक हेल्थ रिकॉर्ड सिस्टम, रिपोर्टिंग और एनालिटिक्स और वित्तीय निगरानी जैसी सेवाएं प्रदान करता है।

भारत हाल ही में साइबर हमलों में उल्लेखनीय वृद्धि का सामना कर रहा है, खासकर स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.