logo-image

कोविड से लड़ने में मदद कर सकतेे हैं नमक के पानी से गरारे : शोध

कोविड से लड़ने में मदद कर सकतेे हैं नमक के पानी से गरारे : शोध

Updated on: 10 Nov 2023, 04:25 PM

न्यूयॉर्क:

एक शोध से यह बात सामने आई है कि नमक के पानी से गरारे करने से श्वसन संबंधी लक्षणों में सुधार और कोविड से लड़ने में सहायता मिल सकती है। जिससे अस्पताल में भर्ती होने से बचा जा सकता है।

इस साल कैलिफोर्निया में आयोजित अमेरिकन कॉलेज ऑफ एलर्जी अस्थमा एंड इम्यूनोलॉजी की वार्षिक वैज्ञानिक बैठक में प्रस्तुत किए जा रहे अध्ययन से पता चला कि गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम कोरोना वायरस 2संक्रमणों में नियंत्रण की तुलना में कम और उच्च खुराक वाले सलाइन आहार दोनों ही अस्पताल में भर्ती होने की दर में कमी के साथ जुड़े हुए प्रतीत होते हैं।

टेक्सास विश्वविद्यालय की टीम ने 2020 और 2022 के बीच गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम कोरोना वायरस 2संक्रमण के लिए सकारात्मक पीसीआर परीक्षण वाले 18-65 वर्ष की आयु के 58 व्यक्तियों को 14 दिनों के लिए कम या उच्च खुराक वाले सेलाइन आहार से गुजरने के लिए यादृच्छिक रूप से चुना।

उनकी तुलना 9,398 लोगों के एक संदर्भ समूह से की गई, जिन्हें कोविड था, लेकिन उन्हें गरारे करने या कुल्ला करने का निर्देश नहीं दिया गया था।

निम्न- (18.5 प्रतिशत) और उच्च- (21.4 प्रतिशत) सलाइन आहार में अस्पताल में भर्ती होने की दर संदर्भ जनसंख्या (58.8 प्रतिशत) की तुलना में काफी कम थी। निम्न और उच्च-सलाइन आहार में अस्पताल में भर्ती होने की दरों में कोई अंतर नहीं था।

विश्वविद्यालय से जिमी एस्पिनोजा ने कहा, हमारा लक्ष्य कोरोनो वायरस संक्रमण से जुड़े श्वसन लक्षणों में सुधार के संभावित संबंध के लिए नमक के गरारे की जांच करना था।

“हमने पाया कि गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम कोरोना वायरस 2संक्रमणों में नियंत्रण की तुलना में दोनों सलाइन आहार अस्पताल में भर्ती होने की दर को कम करते हैं। हमें उम्मीद है कि एसोसिएशन की आगे की जांच के लिए और अधिक अध्ययन किए जा सकते हैं।

नया अध्ययन पिछले छोटे अध्ययनों के सबूतों का समर्थन करता है जो बताते हैं कि नमक के गरारे से कोविड वायरल लोड को कम किया जा सकता है।

जबकि, संक्रामक-रोग विशेषज्ञों ने निष्कर्षों की सराहना की है, उन्होंने कहा कि इसके लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है और इस बात पर जोर दिया कि गरारे करना कभी भी टीकाकरण या दवाओं के साथ उपचार के विकल्प के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.