logo-image

ठाकरे ने बर्खास्त पुलिसकर्मी की बहाली की थी, जिससे महाराष्ट्र का कारोबार खत्म हो गया : मंत्री

ठाकरे ने बर्खास्त पुलिसकर्मी की बहाली की थी, जिससे महाराष्ट्र का कारोबार खत्म हो गया : मंत्री

Updated on: 28 Oct 2023, 07:50 PM

मुंबई:

महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ गठबंधन के एक मंत्री ने विपक्ष पर ठीकरा फोड़ते हुए यहां शनिवार को आरोप लगाया कि यह पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की पूर्ववर्ती सरकार थी, जो बड़े व्यवसायों के पलायन के लिए पूरी तरह से जिम्मेदार थी।

वेदांता-फॉक्सकॉन, टाटा-एयरबस और बल्क ड्रग्स पार्क जैसी प्रमुख परियोजनाओं के राज्य से बाहर चले जाने के बाद पिछले एक साल से अधिक समय से महा विकास अघाड़ी (एमवीए) के हमले का सामना कर रहे उद्योग मंत्री उदय सामंत ने पलटवार करते हुए यह बात कही।

उन्होंने एक बयान में कहा कि एक पूर्व पुलिस अधिकारी, सचिन वेज़, जिन्हें सेवा से बर्खास्त कर दिया गया था, को हिरासत में मौत के मामले में उनकी कथित संलिप्तता के लिए निलंबित किए जाने के बाद 2020 में बहाल कर दिया गया था।

सामंत ने तर्क दिया, जानकार लोगों ने पुष्टि की है कि आदित्य ठाकरे ने सीएम उद्धव ठाकरे से वेज़ को बहाल करने की सिफारिश की थी।

सामंत का तीखा जवाब आदित्य ठाकरे की टिप्पणियों पर आया है। आदित्‍य ने शुक्रवार को सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा था - वेदांता-फॉक्सकॉन, टाटा-एयरबस, बल्क ड्रग्स पार्क, 40 गद्दार, क्रिकेट विश्‍व कप फाइनल, और अब डायमंड बोर्स... के लिए सब कुछ गुजरात! एक अच्छा प्रदर्शन करने वाली एमवीए सरकार गिरा दी गई। शिंदे-भाजपा शासन विश्‍वासघात के बाद अब क्या कर रहा है?

सामंत ने कहा कि बाद में फरवरी 2021 में वेज़ ने रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष मुकेश अंबानी के प्रतिष्ठित घर एंटिला के पास जिलेटिन की छड़ें/विस्फोटक से लदी एक कार लगाई थी।

सामंत ने बताया, एमवीए सरकार के वास्तुकार सांसद संजय राउत (शिवसेना-यूबीटी) ने मार्च 2021 में वेज़ का बचाव किया था और उन्हें ईमानदार व सक्षम अधिकारी कहा था।

मंत्री ने कहा कि इस घटना ने व्यापार जगत को सदमे में डाल दिया और यह राज्य में विश्वास खोने का एक कारण था।

सामंत ने दावा किया, ठाकरे सरकार द्वारा वेज़ को भारी समर्थन ने व्यापार और निवेशकों को हतोत्साहित कर दिया था...इसने व्यापार के लिए एक सुरक्षित गंतव्य के रूप में मुंबई की छवि भी खराब कर दी थी।

उन्होंने कहा कि वेज़ घटना और उन्हें दिए गए राजनीतिक संरक्षण का व्यापार और निवेश के लिए एक सुरक्षित गंतव्य के रूप में महाराष्ट्र पर लंबे समय तक प्रभाव पड़ेगा।

सामंत ने मांग की, ठाकरे सरकार ने महाराष्ट्र से व्यवसायों को बाहर निकालने में एक प्रमुख भूमिका निभाई थी। बड़ी परियोजनाओं का राजनीतिकरण करने के बजाय, निवेशकों को राज्य सरकार में विश्‍वास खोने के लिए उन्हें राज्य के लोगों से माफी मांगनी चाहिए।

उन्होंने आश्‍वासन दिया कि अब सीएम एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में पिछले एक साल में लिए गए विभिन्न निर्णयों और नीतियों के जरिए निवेशकों का विश्‍वास फिर से हासिल कर रहा है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.