logo-image

शिक्षा का विस्‍तार: क्या जेन एआई प्लेटफ़ॉर्म से वह बदलाव आएगा जिसका भारत इंतज़ार कर रहा है?

शिक्षा का विस्‍तार: क्या जेन एआई प्लेटफ़ॉर्म से वह बदलाव आएगा जिसका भारत इंतज़ार कर रहा है?

Updated on: 25 Oct 2023, 11:25 AM

नई दिल्ली:

शिक्षा के तरीकों पर 1984 में बेंजामिन ब्लूम के मौलिक अध्ययन के बाद से दो सिग्मा समस्या शिक्षा के सिद्धांत में विश्व स्तर पर सर्वाधिक स्‍वीकृत अवधारणाओं में से एक बन गई है। प्रसिद्ध अध्ययन प्रयोगों के एक सेट पर आधारित था जिसका निष्‍कर्ष है कि प्राइवेट ट्यूशन के चलते औसत छात्र सिर्फ क्‍लास में पढ़ने वाले छात्रों से दो मानक विचलन (सिग्मा) बेहतर प्रदर्शन करता है।

दो सिग्मा समस्या सिद्धांत की सुंदरता इसकी तत्काल सहजता में निहित है। सभी देशों और समाजों में प्राइवेट ट्यूशन ऐसे किसी भी व्यक्ति के लिए स्पष्ट प्राथमिकता है जो इसे वहन कर सकता है। भारत में, एक श्रद्धेय गुरु की अवधारणा, जो अपने शिष्यों पर अति-व्यक्तिगत ध्यान देकर ज्ञान प्रदान करता है, के इतिहास और पौराणिक कथाओं दोनों में कई संदर्भ मिलते हैं। जैसे-जैसे औद्योगिक क्रांति का प्रसार हुआ, प्रिंटिंग प्रेस के आविष्कार के साथ, शिक्षा एक व्यक्ति के विशेषाधिकार से बढ़कर अवसर के लिए एक अधिक सुलभ सेतु बन गई। इसने कक्षा पद्धति की शुरूआत को चिह्नित किया, जो अपने सदियों बाद भी सर्वव्यापी बनी हुई है।

विशेष रूप से, भारतीय क्लासरूम की विशेषता ये है कि इसका आकार बड़ा है। देश में 25 करोड़ से अधिक सक्रिय रूप से नामांकित छात्र हैं जबकि अच्‍छे शिक्षकों की संख्या इसके सौवें हिस्‍से से भी कम है। यहां तक कि शिक्षा प्रदान करने के सबसे हालिया प्रयासों, यानी एड-टेक, में भी अनेक के साथ एक का संवाद सभी व्यवहार्य व्यवसाय मॉडल पर हावी है। ब्लूम के नोट्स में इस चुनौती को बहुत अच्छी तरह से उजागर किया गया था - उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि प्राइवेट ट्यूशन अधिकांश समाजों के लिए बड़े पैमाने पर वहन करना बहुत महंगा है और शिक्षा शोधकर्ताओं को समूह निर्देश के तरीकों को प्राइवेट ट्यूशन के समान प्रभावी बनाने की चुनौती दी।

भारत में, एक्सेल में हमारा मानना है कि लंबे समय से चली आ रही दो-सिग्मा समस्या को आखिरकार जेनरेटिव एआई प्रौद्योगिकी से एक आशाजनक समाधान मिल गया है। यदि हम थोड़ा गौर करें कि एलएलएम किसमें अच्छे हैं - ढेर सारी असंरचित जानकारी का विश्लेषण करने और वैयक्तिकृत उत्तर तैयार करने में - तो सशक्त शिक्षण उपकरणों में उनकी प्रयोज्यता काफी स्पष्ट हो जाती है। आश्चर्य नहीं कि कई छात्र चैटजीपीटी के सबसे नियमित यूजरों में से हैं। डुओलिंगो और खान अकादमी जैसे वैश्विक एड-टेक दिग्गजों ने पहले से ही अपने हाल ही में लॉन्च किए गए एआई ट्यूटर फीचर्स पर उल्लेखनीय प्रतिक्रिया देखी है।

हमारा अनुमान है कि, अगले कुछ वर्षों में, जेनेरेटिव एआई को भारतीय शिक्षा में तीन तरीकों से बड़े पैमाने पर लागू किया जाएगा।

पहला, बड़े पैमाने पर वैयक्तिकरण: एआई-आधारित अनुशंसा प्रणाली लंबे समय से यूजरों (जिसमें एड-टेक भी शामिल हैं) के लिए प्रासंगिक कंटेंट पेश करती है। वहीं, जेनरेटिव एआई न केवल सिफारिश करता है बल्कि अत्यधिक प्रासंगिक कंटेंट का सृजन करके एक कदम आगे निकल जाता है। प्रत्येक छात्र के लिए अनुकूलित शिक्षण पथ एक वास्तविकता बनने की राह पर है क्योंकि नये कंटेंट तैयार करने की सीमांत लागत शून्य के करीब पहुंच गई है।

निकट से मध्यम अवधि में कई उभरती वैयक्तिकरण विशेषताएं एड-टेक में सर्वव्यापी हो जाएंगी: उदाहरण के लिए एआई-जनरेटेड माइक्रो लेक्चर, चौबीसों घंटे उपलब्ध क्यूएनए बॉट, वैयक्तिकृत परीक्षण प्रतिक्रिया और इंस्‍टेंट प्रैक्टिस प्रॉब्‍लम। लंबी अवधि में एआई-जनित अनुकूलित शिक्षण पथ हमें भारत में शिक्षाशास्त्र के वर्तमान ऊपर से नीचे, अपेक्षाकृत कठोर डिजाइन की तुलना में अधिक फ्लेक्सिबल डिजाइन की ओर बढ़ने में मदद कर सकते हैं, जिनमें मूल अभिव्यक्तियों (उदाहरण के लिए एआई-आर्ट) और इंटरसेक्शनल विषयों (जैसे, कम्प्यूटेशनल रसायन विज्ञान बनाम रसायन विज्ञान और कंप्यूटर विज्ञान) को अधिक महत्व दिया जायेगा।

दूसरा, नए सहज ज्ञान युक्त इंटरफ़ेस: आज के लोकप्रिय डिजिटल शिक्षण अनुप्रयोगों में से यदि अधिकांश नहीं तो कम से कम कई समान दिखते हैं: लाइव/रिकॉर्ड किए गए वीडियो व्याख्यान, क्‍यूएनए (प्रश्‍नोत्‍तर) के लिए एक टिप्पणी-जैसा अनुभाग, और प्रैक्टिस प्रॉब्‍लम/टेस्‍ट। हालाँकि, ऐसी दुनिया में जहां कंप्यूटर हमारी भाषा को समझने के लिए अंतर्निहित क्षमताओं के साथ आते हैं, उपयुक्त शिक्षण इंटरफ़ेस के आसपास कई धारणाओं पर सवाल उठाया जाना चाहिए (और उठाया जा रहा है)। इस दशक के सर्वश्रेष्ठ एड-टेक इंटरफेस मूल डिजाइन तैयार करेंगे जो मल्टी-मॉडल इनपुट क्षमताओं (चैट, आवाज, छवि, प्रतीकों) को ऑडियो, वीडियो, टेक्स्ट और 3डी तक फैले इमर्सिव, जेनरेटिव यूआई के साथ जोड़ते हैं।

तीसरा, टीचर प्रोडक्टिविटी के लिए एआई का इस्‍तेमाल: एलएलएम की मुख्यधारा में आने के कुछ तिमाहियों के भीतर हमने पहले से ही कई व्यवसायों के लिए को-पायलट को उभरते देखा है - सबसे उल्लेखनीय सॉफ्टवेयर विकास है। दुनिया भर के 8.5 करोड़ से ज्‍यादा शिक्षक संभवतः विशेष शिक्षण को-पायलटों को अपनाने वालों में से एक होगी। शिल्प कक्षा के पाठों में मदद करने से लेकर ऑटो-ग्रेडिंग असाइनमेंट सबमिशन तक, इन एप्लिकेशनों की मदद से शिक्षक व्यस्त काम से मुक्त होकर छात्र संबंधों को पोषित करने पर अधिक ध्यान केंद्रित कर सकते हैं, जो सीखने के परिणाम देने के लिए एक महत्वपूर्ण चालक है।

हमारा मानना है कि जेनेरेटिव एआई पीढ़ी-दर-पीढ़ी शिक्षा के लिए परिवर्तनकारी क्षमता का स्तर प्रदान करता है जो भविष्य में कई वर्षों तक प्रकट होता रहेगा। हम सुलभ गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ एक अधिक न्यायसंगत दुनिया बनाने के अवसर को लेकर विशेष रूप से उत्साहित हैं। दूसरे, हम आशा करते हैं कि एआई के साथ शिक्षा में वास्तविक वैयक्तिकरण को अनलॉक करने से हम प्रत्येक शिक्षार्थी के व्यक्तित्व को दबाने की बजाय उसका जश्न मनाएंगे, और अधिक मौलिक विचारकों के रूप में सामने आएंगे जो मानवता को आगे बढ़ाते हैं।

(अनघ प्रसाद एक्सेल में निवेशक हैं। उनसे apraad@accel.com पर संपर्क किया जा सकता है)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.