News Nation Logo

लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत होंगे नए सेना प्रमुख, बी. एस धनोआ संभालेंगे वायु सेना की कमान

बिपिन रावत जनरल दलबीर सिंह सुहाग की जगह लेंगे। 31 दिसंबर को दलबीर सिंह का कार्यकाल खत्म होगा।

News Nation Bureau | Edited By : Vineet Kumar | Updated on: 18 Dec 2016, 08:06:58 AM
बिपिन रावत (File Photo)

नई दिल्ली :

लेफ्टिनेंट जेनरल बिपिन रावत नए सेना प्रमुख बनाए गए हैं। वहीं, एयर मार्शल बी. एस धनोआ नए वायु सेना प्रमुख होंगे। रक्षा मंत्रालय ने शनिवार को जानकारी देते हुए कहा कि सरकार ने वाइस चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत को नया चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ बनाने का फैसला लिया है। वह 31 दिसंबर को यह पद संभाल लेंगे। जनरल दलबीर सिंह सुहाग आर्मी चीफ के पद से 31 दिसंबर को रिटायर हो रहे हैं। वहीं इसी तारीख को रिटायर हो रहे वर्तमान वायुसेना प्रमुख अरूप राहा की जगह बीरेंद्र सिंह धनोवा नए चीफ ऑफ एयर स्टाफ होंगे।

Read more at: http://hindi.oneindia.com/news/india/new-army-chief-bipin-rawat-new-airforce-chief-b-s-dhanoa-392785.html

बिपिन रावत उत्तराखंड के हैं और देहरादून के भारतीय सैन्य अकादमी (IMA) से स्नातक हैं। उन्होंने एक सितंबर 2016 को सेना के उप-प्रमुख का पद संभाला था।

और पढ़ें: जानिए कौन हैं देश के अगले सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत

हाल ही में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने संकेत दिए थे कि जल्द ही थलसेना और वायुसेना के अगले प्रमुखों के नामों की घोषणा की जाएगी।

जानिए कौन हैं लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत:

भारत के अगले सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत एक जनवरी को कमान संभालेंगे। रावत मौजूदा आर्मी चीफ दलबीर सिंह सुहाग की जगह लेंगे।

रावत लेफ्टिनेंट जनरल एल एस रावत के बेटे हैं और वह 11वीं गोरखा रायफल्स के 5वीं बटालियन में तैनात रहे हैं। राजपूत परिवार में पैदा हुए रावत की कई पीढ़ी सेना में रही है। रावत भारतीय सैन्य अकादमी के अल्युमिनाई रहे हैं। आईएमए में उन्हें स्वोर्ड ऑफ ऑनर दिया गया था। 1979 में वह मिजोरम में तैनात हुए।

नेफा इलाके में तैनाती के दौरान उन्होंने बटालियन की अगुवाई की। इसके अलावा कांगो में संयुक्त राष्ट्र की पीसकीपिंग फोर्स की भी अगुवाई कर चुके हैं। रावत का जन्म उत्तराखंड के गढ़वाल में हुआ था। कांगो में तैनाती के दौरान उन्होंने दुनिया के अन्य देशों की मिली-जुली सेना वाले दल की सफलतापूर्वक अगुवाई की।

कांगो में उनकी तैनाती करीब चार महीने तक रही। पढ़ने-लिखने में रुचि रखने वाले रावत नेशनल सिक्योरिटी और लीडरशिप पर कई लेख लिख चुके हैं। रावत लगातार पत्रिकाओं और जर्नल में लिखते रहे हैं।

रावत ने देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी से डिफेंस और मैनेजमेंट स्टडीज में एम फिल की डिग्री ली है। इसके अलावा उन्होंने मद्रास यूनिवर्सिटी से स्ट्रैटेजिक और डिफेंस स्टडीज में भी एम फिल किया है। रावत के पास कंप्यूटर स्टडीज में मैनेजमेंट डिप्लोमा की डिग्री है। रावत 2011 में चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी से मिलिट्री मीडिया स्टडीज में पीएचडी की डिग्री ले चुके हैं।

 

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 17 Dec 2016, 09:12:00 PM