News Nation Logo
विश्व प्रसिद्ध जगन्नाथ रथयात्रा की थोड़ी देर में शुरुआत, पढ़ें-15 रोचक तथ्यRead More » Manipur Landslide: 14 लोगों की मौत की पुष्टि, 23 बचाए गए; 60 अब भी लापताRead More » महाराष्ट्र: शनिवार को शिंदे सरकार का फ्लोर टेस्ट, असेंबली स्पीकर का भी होगा चुनावRead More » संजय राउत आज दोपहर 12 बजे ED के समक्ष पेश होने वाले हैं ढाई साल बाद पहली बार चीन से बाहर निकले शी जिनपिंग, हांगकांग पहुँचे जुमे की नमाज़ और उदयपुर की घटना को लेकर यूपी के कई शहरों में अलर्ट उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी आज रात 8:30 बजे दिल्ली आएंगे सीएम की शपथ से बाद देर रात एकनाथ शिंदे सीधे गोवा में होटल पहुंचे उदयपुर हत्याकांड के मद्देनजर उदयपुर के SP और IG उदयपुर रेंज को हटाया मुंबई के कई इलाकों में आज तेज बारिश को लेकर मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट शिव सेना के सुनील प्रभु ने बागियों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई आयकर विभाग ने शरद पवार को 2004, 2009, 2014 और 2020 में दायर चुनावी हलफनामों के संबंध में नोटिस भेजा बीजेपी सांसद दिनेश लाल यादव निरहुआ ने अखिलेश यादव को जन्मदिन की शुभकामनाएं दी महाराष्ट्र: पात्रा चावल भूमि घोटाला मामले में शिवसेना नेता संजय राउत मुंबई में ED कार्यालय पहुंचे

जाने अपना अधिकार: जीने के लिए ज़रूरी भोजन पाना सब का हक़

भोजन का अधिकार समाज के हर एक व्यक्ति को भूख से मुक्ति दिलाता है और साथ ही उसे सुरक्षित और पोषक भोजन उपलब्ध कराता है।

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Kumar | Updated on: 09 Dec 2017, 12:40:13 PM
भोजन पाना सब का हक़ (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

किसी भी व्यक्ति को जन्म के बाद से ही भोजन पाने का प्राकृतिक अधिकार मिला हुआ है। संयुक्त राष्ट्र महासभा की तरफ से गठित किए गए मानावाधिकार आयोग ये सुनिश्चत करता है कि कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे और सबको खाना मिले।

भोजन का अधिकार समाज के हर एक व्यक्ति को भूख से मुक्ति दिलाता है और साथ ही उसे सुरक्षित और पोषक भोजन उपलब्ध कराता है।

संयुक्त राष्ट्र महसभा ने 1948 के सार्वभौम (यूनिवर्सल) घोषणा पत्र के आर्टिकल-25 में भोजन के अधिकार को सुरक्षित रखा और इसे समानता, स्वतंत्रता के अधिकार तरह ही वर्णित किया।

इसके अलावा अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक संधि के अनुच्छेद-11 में भी भोजन के अधिकार को प्रमुखता से रखा गया है।

भारत में अब भी 20 करोड़ से ज्यादा लोग भूखे हैं, इसलिए वैश्विक भूख सूचकांक में भारत 119 देशों की सूची में 100वें नंबर पर पहुंच गया है। साथ ही भारत में हर साल कई बच्चे कुपोषण के कारण मौत के शिकार होते हैं।

जानें अपने अधिकार: कैदियों को है फ्री कानूनी सहायता और मैलिक अभिव्यक्ति का हक़

इसी नाकामी को देखते हुए भारत में सुप्रीम कोर्ट ने अपने निर्णय में 2001 में भोजन के अधिकार को संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत जीने के अधिकार में अंतर्निहित किया।

इसलिए राज्यों को निर्देश है कि प्रत्येक नागरिक को समान रूप से भोजन देने और व्यक्ति के जीवन स्तर को सुधारने का प्रयास करें। संविधान के अनुच्छेद 39 (ए) और 47 में कहा गया है कि यह राज्य का प्राथमिक कर्तव्य हो।

भोजन का अधिकार सुरक्षित है...

  • मानवाधिकार के सार्वभौम घोषणा पत्र के अनुच्छेद 25 में
  • अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक संधि के अनुच्छेद-11 में
  • बच्चों के अधिकार पर अंतर्राष्ट्रीय संधि के अनुच्छेद 24 और 27 में
  • व्यक्ति के अधिकारों और कर्तव्यों के अमेरिकी घोषणा के अनुच्छेद में
  • भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत जीने के अधिकार

जानें अपने अधिकार: न्यूनतम मज़दूरी और सप्ताह में एक दिन अवकाश हर कर्मचारी का हक़

भारत में भोजन के अधिकार को सुनिश्चित कराने के लिए सरकार जनवितरण प्रणाली (पीडीएस) सिस्टम जैसी योजनाएं लाई, लेकिन इसके बावजूद अब तक करोड़ों लोग जीवन के लिए ज़रूरी भोजन पाने से वंचित रह जाते हैं।

भारत सरकार के खाद्य सुरक्षा विधेयक-2013 गरीब से गरीब लोगों, महिलाओं और बच्चों को भोजन सुनिश्चित करवाता है। अगर नहीं उपलब्ध हो तो, इसके तहत शिकायत का भी अधिकार दिया गया है।

हाल ही में झारखंड में भूख से हुई 12 साल की बच्ची की मौत सरकार के कामों का पोल भी खोलती है, जो कि वयक्ति के मौलिक अधिकार को छीनने के बराबर है।

जानें अपने अधिकार: हर व्यक्ति को स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराना सरकार की है ज़िम्मेदारी

First Published : 09 Dec 2017, 12:34:54 PM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.