News Nation Logo

मोबाइल टावरों के रेडिएशन का मानव पर नहीं कोई बुरा प्रभाव: विशेषज्ञ

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 24 Nov 2022, 07:19:56 PM
Mobile tower

(source : IANS) (Photo Credit: Twitter )

शिलॉन्ग:  

1532 मोबाइल टावरों का गहन परीक्षण करने के बाद विशेषज्ञों ने गुरुवार को कहा कि सेल टावरों से निकलने वाली कम शक्ति वाली, गैर-आयनीकरण विकिरण का मानव स्वास्थ्य पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है. अधिकारियों ने कहा कि दूरसंचार विभाग के नॉर्थ ईस्ट लाइसेंस्ड सर्विस एरिया (एनई-एलएसए) ने इस साल अप्रैल से नवंबर तक 1532 बेस ट्रांसीवर स्टेशन (बीटीएस) का परीक्षण किया है सभी मोबाइल टावरों को विद्युत और चुंबकीय क्षेत्र विकिरण पर दूरसंचार विभाग के मानदंडों के अनुरूप पाया गया है.

मोबाइल टावरों से विद्युत चुम्बकीय विकिरण पर एक वेबिनार को संबोधित करते हुए, सेंटर फॉर ऑक्यूपेशनल एंड एनवायर्नमेंटल हेल्थ, ओईएम प्रोग्राम, सलाहकार, स्वास्थ्य मंत्रालय और निदेशक, डॉ. तुषार कांत जोशी ने आश्वासन दिया कि यह पाया गया है कि कम शक्ति, गैर-आयनीकरण विकिरण उत्सर्जित होता है. सेल टावरों से मानव स्वास्थ्य पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है.

वैज्ञानिक अनुसंधान का उल्लेख करते हुए जोशी ने कहा कि गलत सूचना के प्रसार को संबोधित करना और मोबाइल टावरों से संबंधित स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं का एक प्रामाणिक ²ष्टिकोण प्रदान करना अत्यंत आवश्यक हो जाता है. उन्होंने कहा कि यह बताना भी महत्वपूर्ण है कि मोबाइल टावरों के खिलाफ इस्तेमाल किए गए तर्क की पुष्टि करने के लिए कोई वैज्ञानिक या चिकित्सीय साक्ष्य उपलब्ध नहीं है.

शिलांग स्थित उत्तर-पूर्व एलएसए के वरिष्ठ उप महानिदेशक रवि गोयल ने भारत में दूरसंचार सेवाओं की आवश्यकता पर प्रकाश डाला और उद्योग के हितधारकों के सामने आने वाली चुनौतियों पर जोर दिया.

हम हाइपर-कनेक्टिविटी के युग में प्रवेश कर रहे हैं जहां सरकार टेलीकॉम इंफ्रास्ट्रक्च र और टेलीकॉम टावरों को सघन करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है क्योंकि ये भारतीय मोबाइल संचार की रीढ़ हैं.

गोयल ने कहा, प्रयासों को बढ़ाने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि मोबाइल टावरों से ईएमएफ विकिरणों के बुरे प्रभावों के बारे में सिद्धांतों से जुड़ी आशंकाओं को तथ्यात्मक रूप से संबोधित किया जाए.

जागरूकता कार्यक्रम में विशेषज्ञों ने यह भी उल्लेख किया कि बेईमान कंपनियां, एजेंसियां और व्यक्ति मोबाइल टावरों की स्थापना के लिए भारी मासिक किराए के भुगतान का वादा करके जनता को धोखा देते हैं. ऐसे जालसाज जनता को अपने व्यक्तिगत, कंपनियों के खाते में सुरक्षा जमा, आवेदन शुल्क, पंजीकरण शुल्क, स्टांप शुल्क, दूरसंचार अधिनियम के तहत सरकारी कर आदि के खिलाफ विभिन्न नामों से पैसा जमा करने के लिए कहते हैं. इसके अलावा, इस बात पर भी प्रकाश डाला गया कि भारतीय क्षेत्र में सिम कार्ड और विदेशी सेवा प्रदाताओं के संकेतों के माध्यम से दूरसंचार सेवाओं का उपयोग भारतीय टेलीग्राफ अधिनियम 1885 का उल्लंघन करता है और इस प्रकार के कृत्यों में शामिल व्यक्ति अधिनियम और अन्य अधिनियमों और नियमों के अनुसार दंड के पात्र हैं.

एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि भारत में दुनिया भर में दूरसंचार प्रौद्योगिकी क्षेत्र का नेतृत्व करने की क्षमता है. ईएमएफ विकिरण के स्वास्थ्य खतरों के बारे में आबादी के एक वर्ग के बीच गलत धारणाओं को वैज्ञानिक अनुसंधान के माध्यम से उपलब्ध कराई गई तथ्यात्मक जानकारी पर हावी नहीं होना चाहिए.

बयान में कहा गया है कि भारत के आठ उच्च न्यायालयों ने भी इसी ²ष्टिकोण को बरकरार रखा है और ऐसे सभी निराधार आशंकाओं और गुमराह सक्रियता को खारिज करने वाले फैसले दिए हैं जो देश के समग्र विकास और कनेक्टिविटी के लिए एक गंभीर चुनौती पेश कर रहे हैं.

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 24 Nov 2022, 07:19:56 PM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.