News Nation Logo

आयुर्वेद से दूर होगी आयरन की कमी, महिलाएं इन लक्षणों की न करें अनदेखी

खून में ऑक्सीजन ले जाने वाले हीमोग्लोबिन बनाने के लिए आयरन आवश्यक है. जब हमारे मेटावॉलिक तंत्र में पर्याप्त आयरन की कमी होती है, तो हमारे शरीर को आवश्यक ऊर्जा नहीं मिलती है.

IANS | Edited By : Vineeta Mandal | Updated on: 24 Jun 2021, 02:31:42 PM
Ayurveda

Ayurveda (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

शरीर में अगर कमियां आने लगे तो उससे स्वास्थ्य समस्याएं बढ़ जाती हैं. महिलाओं के लिए आयरन की कमी प्रमुख है. खून में ऑक्सीजन ले जाने वाले हीमोग्लोबिन बनाने के लिए आयरन आवश्यक है. जब हमारे मेटावॉलिक तंत्र में पर्याप्त आयरन की कमी होती है, तो हमारे शरीर को आवश्यक ऊर्जा नहीं मिलती है. यह आहार में आयरन की कमी के कारण होता है या जब शरीर स्वयं हमारे द्वारा खाए गए भोजन से आयरन को समाहित करने में असमर्थ होता है. आयुर्वेद, जीवन और दीघार्यु का विज्ञान होने के नाते अच्छे स्वास्थ्य के लिए, विशेष रूप से महिलाओं के लिए पर्याप्त आयरन लेवल के महत्व को पहचानता है.

महर्षि आयुर्वेद अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ सौरभ शर्मा ने कहा, '' महिलाएं जीवंत लोगों में से एक हैं, जो अपने जीवन में कई भूमिकाएं निभाती हैं, जो फोकस और ऊर्जा की मांग करती हैं. हालांकि, काम के अधिक बोझ और उचित सुविधाओं की कमी के कारण आहार का सेवन, कभी-कभी, उनका शरीर उन्हें हर क्षेत्र में समान प्रदर्शन करने से रोकता है और शायद यह आयरन की कमी के कारण होता है. दरअसल, लोहे की कमी से थकान, सिरदर्द, चक्कर आना, क्षतिग्रस्त बाल और त्वचा, दिल की धड़कन आदि हो सकते हैं. समस्याएं अक्सर उन्हें स्वस्थ कार्य-जीवन संतुलन बनाए रखने से वंचित कर सकती हैं और कार्य इकोसिस्टम को बाधित कर सकती हैं. साथ ही आयरन की कमी से एनीमिया होता है."

और पढ़ें: क्या पुरुषों में बांझपन लाता है कोरोना का टीका? जानिए स्वास्थ्य मंत्रालय का जवाब

उन्होंने आगे कहा, "यह देखा गया है कि काम की अधिकता के कारण, महिलाएं थकान, कम इम्यूनिटी, बार-बार सिरदर्द, पीली त्वचा, खराब नाखून, पीले होंठ, बालों का झड़ना, बेचैन पैर सिंड्रोम, अवसाद और कमी से पीड़ित होती हैं . ये समस्याएं आयरन की कमी के कारण हो सकती हैं क्योंकि 3 में से एक व्यक्ति में आयरन की कमी होने का खतरा होता है और आयरन की कमी की आवश्यकता को नियमित आहार से पूरा नहीं किया जा सकता है क्योंकि हमारा शरीर केवल 3 प्रतिशत आयरन ही पौधे स्रोत और 15 प्रतिशत पशु स्रोत आहार से निकाल पाता है. इसलिए, आयरन की आवश्यकता को पूरा करने के लिए कि हमारे शरीर, विशेष रूप से महिलाओं के शरीर को आयुर्वेदिक आयरन पूरक की आवश्यकता होती है, जो आयरन की कमी और एनीमिया को ठीक करती है."

आयरन की कमी के लक्षणों को विकसित करने में कुछ समय लगता है क्योंकि शरीर नई रक्त कोशिकाओं को बनाने के लिए संग्रहीत और रिसाइकल आयरन का उपयोग करता है . जब शरीर पर्याप्त मात्रा में आयरन प्रदान नहीं कर पाता है, तो लाल रक्त कोशिकाएं समाप्त होने लगती हैं, जिसे आयरन की कमी कहा जाता है.

महर्षि आयुर्वेद के निदेशक राम श्रीवास्तव ने कहा, "आयरन की कमी एक सामान्य रूप से होने वाली समस्या है, जो विशेष रूप से महिलाओं में पाई जाती है. यह एनीमिया के प्रमुख कारणों में से एक है. यह एक महत्वपूर्ण खनिज है जो शरीर को लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में मदद करता है. (आरबीसी) जिसमें मेटालोप्रोटीन होता है, जो रक्त में कोशिकाओं के लिए ऑक्सीजन अणुओं और पोषण को वहन करता है. आरबीसी की कम संख्या का मतलब कोशिकाओं की कम पोषण आपूर्ति और ऑक्सीजनकरण है, जो ऊतकों को कम करता है और शरीर के अंगों को कमजोर करता है. हालांकि, हर्बल आयरन की खुराक संख्या में वृद्धि करती है रक्त में आरबीसी की मात्रा और शरीर के सभी अंगों को फिर से जीवंत करता है और थकान, सुस्ती, सांस फूलना और तनाव जैसी समस्याओं को प्रभावी ढंग से ठीक करता है. इनके अलावा, यह कोविड संक्रमित रोगियों के लिए उपयोगी हो सकता है, जिनका एचबी स्तर कम हो रहा है और दर्द हो रहा है."

First Published : 24 Jun 2021, 02:23:53 PM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.