News Nation Logo

म्यूटेशन एक वर्ष में कोविड वैक्सीन को बेअसर कर सकते हैं : विशेषज्ञ

म्यूटेशन पीपुल्स वैक्सीन एलायंस द्वारा 28 देशों के 77 महामारी विज्ञानियों, वायरोलॉजिस्ट और संक्रामक रोग विशेषज्ञों में से दो-तिहाई का कहना है कि कोविड-19 के टीके एक वर्ष या उससे कम समय में बेअसर हो सकते हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 31 Mar 2021, 08:43:12 AM
corona test

म्यूटेशन एक वर्ष में कोविड वैक्सीन को बेअसर कर सकते हैं : विशेषज्ञ (Photo Credit: फाइल फोटो)

न्यूयॉर्क:

म्यूटेशन पीपुल्स वैक्सीन एलायंस द्वारा 28 देशों के 77 महामारी विज्ञानियों, वायरोलॉजिस्ट और संक्रामक रोग विशेषज्ञों में से दो-तिहाई का कहना है कि कोविड-19 के टीके एक वर्ष या उससे कम समय में बेअसर हो सकते हैं. मंगलवार को प्रकाशित सर्वेक्षण के परिणाम दुनिया को जोखिम की चेतावनी देते हैं जो यह सुनिश्चित करने में विफल है कि सभी देशों को कोविड-19 से लोगों को बचाने के लिए पर्याप्त टीके हैं. सर्वेक्षण में शामिल लोगों में से लगभग एक तिहाई ने नौ महीने या उससे कम की समय सीमा दी. आठ में से एक ने कहा कि वे मानते हैं कि म्यूटेशन वर्तमान टीकों को अप्रभावी नहीं करेगा. भारी बहुमत यानी 88 प्रतिशत ने कहा कि कई देशों में लगातार कम वैक्सीन कवरेज से वैक्सीन प्रतिरोधी उत्परिवर्तन दिखाई देने की अधिक संभावना होगी.

यह भी पढ़ें : कामेच्छा बढ़ाने में असरदार है जायफल, यहां देखें इसके चमत्कारी फायदे

अफ्रीकी गठबंधन, ऑक्सफैम और यूएनएड्स सहित 50 से अधिक संगठनों के गठबंधन पीपुल्स वैक्सीन एलायंस ने चेतावनी दी है कि वर्तमान दर पर यह संभावना थी कि गरीब देशों के बहुमत में केवल 10 प्रतिशत लोगों को अगले वर्ष में टीका लगाया जाएगा. सर्वेक्षण में शामिल लोगों में से लगभग तीन-चौथाई जिनमें जॉन हॉपकिन्स, येल, इंपीरियल कॉलेज, लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी, एडिनबर्ग विश्वविद्यालय और केप टाउन विश्वविद्यालय - सहित महामारीविद्, विषाणुविज्ञानी और संक्रामक रोग विशेषज्ञ शामिल थे, ने कहा कि प्रौद्योगिकी और बौद्धिक संपदा का खुला साझाकरण वैश्विक वैक्सीन कवरेज बढ़ा सकता है.

ब्रिटेन में एडिनबर्ग विश्वविद्यालय में ग्लोबल पब्लिक हेल्थ के प्रोफेसर देवी श्रीधर ने एक बयान में ने कहा, 'जितना अधिक वायरस फैलता है, उतनी अधिक संभावना है कि उत्परिवर्तन और परिवर्तन उत्पन्न होंगे, जो हमारे वर्तमान टीकों को अप्रभावी बना सकते हैं. इसी समय, गरीब देशों को बिना वैक्सीन और ऑक्सीजन जैसे बुनियादी चिकित्सा आपूर्ति के बिना पीछे छोड़ दिया जा रहा है.'

यह भी पढ़ें : कोविड-19 जंतुओं से मनुष्यों में फैलने की आशंका: डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट 

उन्होंने कहा, 'जैसा कि हमने सीखा है, वायरस सीमाओं के बारे में परवाह नहीं करते हैं, हमें दुनिया में हर जगह जितनी जल्दी हो सके उतने लोगों को टीकाकरण करना है. इसके आगे बढ़ने के बजाय इंतजार और घड़ी क्यों करें?' जबकि उन्होंने येल विश्वविद्यालय में महामारी विज्ञान के एसोसिएट प्रोफेसर, ग्रेग गोंसाल्विस, एक समय-सीमा को निर्दिष्ट नहीं किया था, विश्व स्तर पर टीकाकरण करने की तात्कालिकता को प्रतिध्वनित किया.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 31 Mar 2021, 08:42:37 AM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.