News Nation Logo

डायबिटीज और मोटापे में सफल है बैरियाट्रिक सर्जरी, इमान से लेकर गडकरी करा चुके है इलाज

बैरियाट्रिक सर्जरी से तेजी से घटता है वजन, विश्व की सबसे वजनी महिला ने इससे घटाया 324 किलो का वजन।

By : Aditi Singh | Updated on: 04 May 2017, 11:33:05 AM
प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

वजन घटाने के लिए विश्व की सबसे वजनी मानी जाने वाली इमान अहमद के मिस्र से मुबंई आने के बाद बैरियाट्रिक सर्जरी काफी चर्चा में आई। बैरियाट्रिक सर्जरी वजन को तेजी से घटाने का इलाज माना जाता है। 500 किलो इमान ने इस सर्जरी के बाद 324 किलो वजन घटाया। डॉक्टर्स के मुताबिक इमान का वजन अब 176 किलो रह गया है। 

इसे भी पढ़ें: दुनिया की सबसे ज्यादा वजनी महिला ने घटाया 100 किलो वजन, जानें क्या है एलिफेंटाइसिस बीमारी के लक्षण

क्या होती है बैरियाट्रिक सर्जरी

बैरियाट्रिक सर्जरी लैप बैंड, स्लीव गैस्ट्रीकटोमी और गैस्ट्रीक बाइपास तीन तरह से की जाती है। ये सर्जरी लेप्रोस्कोपिक तरीके से की जाती हैं। एक ऐसी सर्जरी जो मेडिकल साइंस के इतिहास में डायबिटीज और मोटापे का सबसे सफल इलाज है। 

  • लैप बैंड सर्जरी के बाद खाने की क्षमता बहुत कम हो जाती है।
  • स्लीव गैस्ट्रीक्टोमी के बाद डेढ़ से दो किलो वजन हर हफ्ते कम होना शुरू हो जाता है।
  • गैस्ट्रीक बाइपास में आमाशय को बांटकर एक शेल्फ, गेंद के आकार का बनाकर छोड़ दिया जाता है। 

इसे भी पढ़ें: दुनिया की सबसे वजनी महिला इमान अहमद की बहन ने कहा- भारत में हमें बेवकूफ बनाया गया, नहीं कम हुआ वजन

कैसे करती है काम

इस सर्जरी में 12-18 महीने में 80-85 फीसदी वजन कम हो जाता है। शरीर पर 5 से 10 जरूरत के मुताबिक अलग-अलग जगहों पर छेद किए जाते हैं। फिर पेट के अंदर एक छोटा सा पाउच यानि की बैलून का आकार बनाया जाता है।

फिर पेट के अंदर से एक दूसरा रास्ता बनाकर खान की छोटी आंत की तरफ बाईपास किया जाता है। यानि आपकी आंत में खाना जमा होने की जगह को छोटा कर दिया जाता है। इस सर्जरी के बाद खाना देर से पचता है और भूख बढ़ाने वाला 'ग्रेहलीन' हार्मोन भी बनना बंद हो जाता है।

इसे भी पढ़ें: इमान अहमद वजन घटाने के लिए पहुंचेंगी अबू धाबी, बहन ने भारतीय डॉक्टर्स पर ठगी का लगाया था आरोप

अन्य बीमारियों में मददगार

इससे शरीर में जमा फैट एनर्जी के रूप में खर्च होने लगता है और तेजी से वजन कम होने लगता है। मोटापे के चलते टाइप-2 डायबीटीज, हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट डिजीज, जोड़ों की तकलीफ जैसी बीमारियां हो सकती हैं। ऐसे में बेहद मोटे लोगों को जितना जल्दी हो सके, बैरियाट्रिक सर्जरी का विकल्प चुन लेना चाहिए क्योंकि देर होने पर जटिलताएं बढ़ सकती हैं। 
इसे भी पढ़ें: क्या आप जानते हैं, स्मार्टफोन का ज्यादा इस्तेमाल कितना होता है खतरनाक

सर्जरी के बाद भी देखभाल की जरूरत

बैरियाट्रिक सर्जरी के बाद लगभग एक साल तक विशेष देखभाल की जरूरत पड़ती है। मरीज को दो से चार बार डॉक्टर के पास जाने की जरूरत होती है। वजन घटाने वाली दूसरी सर्जरी की तुलना में बैरियाट्रिक सर्जरी के खतरे बहुत कम हैं। इसमें लेप्रोस्कोपिक तरीका प्रयोग किया जाता है, जिससे दर्द बहुत कम होता है और यह आसानी से हो जाता है।

हालांकि सर्जरी के बाद मरीज को पेट दर्द, उल्टी, ब्लीडिंग आदि जैसी समस्याएं होती है। ऐसे में उन्हें तुंरत ही डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

IPL 10 से जुड़ी हर खबर के लिए यहां क्लिक करें

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 04 May 2017, 10:56:00 AM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

Bariatric Surgery