logo-image
लोकसभा चुनाव

Navratri Fasting Tips: नवरात्रि व्रत के दौरान डायबिटीज के मरीज अपनाएं ये टिप्स, नहीं बढ़ेगी परेशानी

Diabetes in Fasting: डायबिटीज से प्रभावित लोगों के लिए नवरात्रि के व्रत में स्वस्थ रहने के सावधानियों के साथ समझदारी से उपवास किया जा सकता है. उन्हें हेल्दी कार्ब्स, प्रोटीन और उचित पानी की आवश्यकता होती है.

Updated on: 10 Apr 2024, 09:48 AM

नई दिल्ली:

Diabetes Patients Navratri Fasting Tips: मधुमेह (डायबिटीज) से ग्रस्त लोगों के लिए नवरात्रि का व्रत रखना थोड़ा चुनौतीपूर्ण हो सकता है. लेकिन कुछ सावधानियों के साथ आप स्वस्थ रहते हुए व्रत भी रख सकते हैं. नवरात्रि के व्रत का डायबिटीज पर प्रभाव होता है क्योंकि इस दौरान व्यक्ति को अनाज, दूध, चीनी, और अन्य अन्नप्राण आहारों का त्याग करना पड़ता है. इससे उनका शरीर का रक्त शर्करा स्तर कम हो जाता है. इस व्रत में सेवन किये जाने वाले खाद्य पदार्थ अधिकतर फल और सब्जियों से होते हैं, जो कि आपको विटामिन्स, मिनरल्स, और फाइबर प्रदान करते हैं. यह आहार आपके शरीर की नियंत्रित ग्लाइसीमिक इंडेक्स वाले अन्न का सेवन करने का फायदा देता है जो कि डायबिटीज के लिए उपयुक्त होता है. व्रत के दौरान अनाज, सब्जियाँ, और फलों का सेवन करने से आपका रक्त शर्करा स्तर नियंत्रित रहता है जो डायबिटीज के प्रबंधन में मदद करता है. इसके अलावा, व्रत के दौरान नियमित रूप से पानी पीना भी आवश्यक होता है जो आपके शरीर के ग्लाइसीमिक कंट्रोल में मदद करता है. लेकिन, यदि किसी व्यक्ति को सब्जियों और फलों की कोई विशेष अलर्जी हो या डायबिटीज का इलाज कर रहे हो तो वह अपने चिकित्सक की सलाह लेकर ही इन व्रतों को करें.

खाने पीने पर ध्यान दें:

छोटे-छोटे अंतराल पर भोजन करें: लंबे समय तक भूखे रहने से बचें. हर 2-3 घंटे में थोड़ा-थोड़ा करके सेहतमंद चीजें खाते रहें. इससे ब्लड शुगर लेवल बना रहेगा.

हेल्दी कार्ब्स चुनें: फलाहार में कुट्टू का आटा, समक के चावल, साबूदाना आदि खा सकते हैं. ये जटिल कार्बोहाइड्रेट हैं जो धीरे-धीरे पचते हैं और शुगर को अचानक बढ़ने से रोकते हैं.

फलों का सीमित सेवन करें: कुछ फलों में शुगर की मात्रा अधिक होती है. केला, सीताफल, अंगूर आदि कम मात्रा में खाएं.

प्रोटीन युक्त भोजन लें: दही, छाछ, मूंगफली, मेवे आदि का सेवन करें. ये आपको तृप्ति रखने में मदद करेंगे.

तली भुनी चीजों से परहेज करें: उबली या भुनी हुई चीजें खाएं.

पानी भरपूर मात्रा में पिएं: निर्जलीकरण से बचने के लिए पानी पीते रहें. कोशिश करें कि आप फलों का रस कम मात्रा में ही पिएं.

अन्य सावधानियां:

व्रत रखने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें. खासकर अगर आप दवाइयां ले रहे हैं तो. ब्लड शुगर लेवल चेक करते रहें. खासकर अगर आप इंसुलिन लेते हैं तो ब्लड शुगर लेवल की नियमित जांच करते रहें. पूरी तरह से उपवास ना करें अगर आप कमजोर महसूस कर रहे हैं तो पूरे दिन उपवास करने से बचें. नियम से थोड़ा-थोड़ा खाते रहें. आराम करें, ज्यादा शारीरिक या मानसिक थकान ना लें. आराम करना और पर्याप्त नींद लेना जरूरी है. इन बातों का ध्यान रखकर आप स्वस्थ तरीके से नवरात्रि का व्रत रख सकते हैं.  लेकिन याद रखें हर व्यक्ति की स्थिति अलग हो सकती है. अगर आपको कोई परेशानी हो तो डॉक्टर से सलाह लें.

यह भी पढ़ें: Navratri Vrat Tips: नवरात्रि में नौ दिनों का व्रत रखने वालों को अपनाना चाहिए ये टिप्स, नहीं होगी थकान महसूस