logo-image
लोकसभा चुनाव

Headphone-Earphone: बहरा बना देगी ये बुरी लत, घंटों तक हेडफोन-ईयरफोन का इस्तेमाल खतरनाक

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) का अनुमान है कि हेडफोन या ईयरफोन के ज्यादा इस्तेमाल की वजह से दुनिया भर में लगभग 100 करोड़ युवाओं की सुनने की क्षमता प्रभावित हो सकती है. इनके ज्यादा इस्तेमाल से क्या होते हैं सेहत को नुकसान आइए जानते है.

Updated on: 09 Jul 2024, 01:00 PM

नई दिल्ली :

Headphone-Earphone Side Effects: आजकल जिसे देखो उसके कानों में हेडफोन या ईयरफोन लगा रहता है. कोई फैशनेबल दिखने के लिए तो कोई शोरगुल से बचने के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं. लेकिन क्या आपको पता है ये बुरी लत आपको बहरा बना सकती है. इसके ज्यादा इस्तेमाल से न केवल आपके कानों पर बुरा प्रभाव पड़ेगा, बल्कि शरीर को भी कई गंभीर नुकसान झेलने पड़ सकते हैं. हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना है कि ईयरफोन से आने वाला म्यूजिक आपके कान के परदे पर बड़ा प्रभाव डालता है, जिससे स्थायी क्षति हो सकती है. पिछले 10 सालों में पोर्टेबल इयरफोन से आने वाले लाउड म्यूजिक के कई इफेक्ट्स देखने को मिले हैं. एक बढ़ती हुई चिंता यह भी है लोग घंटों तक हेडफोन से चिपके रहते हैं, जिसके कई बुरे प्रभाव शरीर में देखने को मिलते हैं. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) का अनुमान है कि हेडफोन या ईयरफोन के ज्यादा इस्तेमाल की वजह से दुनिया भर में लगभग 100 करोड़ युवाओं की सुनने की क्षमता प्रभावित हो सकती है. हेडफोन-ईयरफोन का ज्यादा इस्तेमाल करने से क्या होते हैं सेहत को नुकसान आइए जानते हैं इस खास रिर्पोट में...

सुनने की क्षमता हो सकती है प्रभावित 

ईयरफोन या हेडफोन से लाउड म्यूजिक सुनने से आपकी सुनने की क्षमता प्रभावित हो सकती है. कानों की सुनने की कैपिसिटी सिर्फ 90 डेसिबल होती है, जो लगातार सुनने से 40-50 डेसिबल तक कम हो सकती है.

दिल की धड़कन हो जाती तेज 

एक्सपर्ट के मुताबिक, घंटों तक हेडफोन लगाए रखना और म्यूजिक सुनना कानों के साथ-साथ दिल के लिए भी बिल्कुल अच्छा नहीं है. इससे न केवल दिल की धड़कन तेज हो जाती है, बल्कि दिल को काफी नुकसान भी उठाना पड़ता है.

सिरदर्द और माइग्रेन की समस्या 

हेडफोन या ईयरफोन से निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव दिमाग पर बुरा प्रभाव डालती हैं. इसकी वजह से सिरदर्द और माइग्रेन की समस्या पैदा हो जाती है. बहुत से लोग नींद में बाधा, नींद न आना, अनिद्रा या यहां तक कि स्लीप एपनिया से भी पीड़ित हो जाते हैं.

कान में इन्फेक्शन होने का खतरा 

इयरफोन सीधे कान में लगाया जाता है, जो एयर पैसेज में बाधा डालता है. ये बाधा बैक्टीरिया के विकास सहित अलग-अलग तरह के कानों के इन्फेक्शन का कारण बन सकती है.

चिंता और तनाव होने की संभावना

हेडफोन का लंबे समय तक इस्तेमाल किसी व्यक्ति की सोशल लाइफ और मेंटल हेल्थ की क्षमता को प्रभावित कर सकता है. कई बार ज्यादा चिंता और तनाव का भी कारण बन सकता है.