News Nation Logo
Banner

World Brain Tumor Day : कभी-कभी का सिर दर्द हो सकता है जानलेवा, जानें ब्रेन कैंसर के लक्षण

अगर आपको लगातार कई दिनों से सिरदर्द हो रहा हो, रात में या सुबह-सबह तेज सिरदर्द होने से नींद खुल जाए, चक्कर आ रहे हों, सिरदर्द के साथ उल्टी महसूस हो या छींक व खांसी आए तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

Nandini Shukla | Edited By : Nandini Shukla | Updated on: 07 Jun 2022, 10:48:44 PM
brain

कभी-कभी का सिर दर्द हो सकता है जानलेवा (Photo Credit: johnhospitall)

New Delhi:  

World Brain tumor Day 2022 : कभी-कभी एक साधारण सिर दर्द से पता नहीं चल पाता कि शरीर के अंदर कौन सी बीमारी पनप रही है. लेकिन अगर आपको लगातार कई दिनों से सिरदर्द हो रहा हो, रात में या सुबह-सबह तेज सिरदर्द होने से नींद खुल जाए, चक्कर आ रहे हों, सिरदर्द के साथ उल्टी महसूस हो या छींक व खांसी आए तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. अक्सर लोग सिर दर्द होने पर दवाई ले लेते हैं. लेकिन अगर आपको उसके बाद भी सिर दर्द है तो ये ब्रेन ट्युमर विकसित होने का संकेत हो सकता है. ब्रेन ट्यूमर की सही समय पर जांच व उपचार के महत्व के प्रति आम लोगो को जागरूक करने के लिए हर साल आठ जून को वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे मनाया जाता है. 

यह भी पढ़ें- मुंबई में शुरू हुआ Corona का तांडव, आंकड़ा हुआ 1800 के पार

 ब्रेन ट्युमर
ब्रेन ट्युमर, मस्तिष्क में एक पिंड या आसामान्य कोशिकाओं का विकास है. ब्रेन ट्युमर मुख्यता दो प्रकार के होते हैं. कैंसर रहित और कैंसर युक्त होते हैं. कैंसरयुक्त ट्युमर को भी उसके विकसित होने के तरीके के आधार पर दो श्रेणियों में बांटा जाता है. जो ट्युमर सीधे मस्तिष्क में विकसित होते हैं उन्हें प्राइमरी ब्रेन ट्युमर कहते हैं और जो शरीर के दूसरे भाग से मस्तिष्क में फैल जाते हैं उन्हें सेकंडरी या मेटास्टैटिक ब्रेन ट्युमर कहा जाता है. 

गंभीरता से लें इन लक्षणों को

•   मामूली सिरदर्द का धीरे-धीरे गंभीर हो जाना.
•   सुबह-सुबह सिरदर्द के कारण नींद खुल जाना.
•   आखें प्रभावित होना जैसे धुंधला दिखाई देना, चीजें दो दिखाई देना.
•   संतुलन बनाने में समस्या आना.
•   बोलने में परेशानी होना.
•   सुनने में समस्या होना और अंदर सिर की नसों का फड़कना .

इलाज -

ब्रेन ट्युमर के उपचार के कईं ऑप्शंस हैं, जिनका चयन ट्युमर के प्रकार, आकार और स्थिति के आधार पर किया जाता है.

यह भी पढ़ें- अचानक हार्ट अटैक की चपेट में क्यों आ रहे लोग? जानिये क्या कहते हैं डॉक्टर

सर्जरी

सर्जरी के द्वारा पूरे ट्युमर को या ट्युमर के कुछ भाग को निकाल दिया जाता है. यहां तक कि अगर ब्रेन ट्युमर के एक भाग को भी निकाल दिया जाए तो भी लक्षणों को कम करने में सहायता मिलती है.  माइक्रो एंडोस्कोपिक स्पाइन (एमईएस) सर्जरी ने ब्रेन ट्युमर के उपचार के लिए की जाने वाली सर्जरी को आसान और ज्यादा बेहतर बना दिया है. इसके अलावा रेडिएशन थेरेपी, रेडियो सर्जरी, कीमोथेरेपी जैसी चीज़ें मरीज़ को ठीक करने के लिए की जाती हैं. 
   
ठीक होने के बाद भी रखें सावधानियां

लाइफस्टाइल में चैंजेस लाना जैसे एक्सरसाइज करना, पोषक और संतुलित भोजन का सेवन करना, और पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन, शरीर को अधिक शक्तिशाली और ट्युमर के विकास के लिए अधिक रेजिस्टेंट बनाता है. इसके अलावा इन बातों का भी ध्‍यान रखें:

 अपनी फिटनेस का ध्यान रखें, वज़न न बढ़ने दें.
 रोजाना 30-40 मिनिट योग और एक्सरसाइज करें.
 किसी भी रूप में तंबाकू का सेवन न करें.
 शराब और लाल मांस का सेवन कम से कम करें.
 ज्यादा मीठा या कोई भी गलत चीज़ का सेवन न करें.
 मस्तिष्क को शांत रखें; कोई भी ऐसा काम न करें जो आपके दिमाग की शांति को भंग करता हो. 

यह भी पढ़ें- हार्ट अटैक की सूरत में जान बचाएगा मर्क मॉडल, IIT दिल्ली-GB पंत अस्पताल की टीम ने किया ये कमाल

First Published : 07 Jun 2022, 08:30:27 PM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.