News Nation Logo
CM Channi के गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी पहुंचने पर अध्यापकों का ज़ोरदार प्रदर्शन अध्यापकों की मांग - 7वें पे कमीशन की सिफारिशें पंजाब हों लागू ओमिक्रोन के अलर्ट के बीच पटना में 100 विदेशियों की तलाश भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की बाबा साहब आंबेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस आज. बसपा कर रही बड़ा कार्यक्रम नीट काउंसिलिंग में हो रही देरी के खिलाफ रेजिडेंट डॉक्टर्स आज ठप रखेंगे सेवा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आज आ रहे भारत. कई समझौतों को देंगे अंतिम रूप पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह आज करेंगे अमित शाह-जेपी नड्डा से मुलाकात.

भारतीय बच्चों में तेजी से फैल रहा ब्रेन ट्यूमर, आंकड़े देखकर हैरान हो जाएंगे आप

देश में हर साल करीब 40,000 से 50,000 लोगों में ब्रेन ट्यूमर की पहचान होती है, जिनमें से 20 प्रतिशत बच्चे होते हैं।

IANS | Edited By : Ruchika Sharma | Updated on: 27 Jul 2017, 06:33:12 PM
ब्रेन ट्यूमर  (फाइल फोटो)

highlights

  • हर साल 2,500 भारतीय बच्चे मेडुलोब्लास्टोमा से ग्रस्त
  • मस्तिष्क ट्यूमर ल्यूकेमिया के बाद बच्चों में पाया जाने वाला दूसरा सबसे आम कैंसर

नई दिल्ली:

आजकल की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में तनाव न सिर्फ वयस्कों में बल्कि बच्चों में भी पनपता जा रहा है। अक्सर सिरदर्द को हम नजरअंदाज कर अपना इलाज खुद ही शुरू कर देते है अगर लगातार सिरदर्द ,धुंधला दिखाई देना जैसे लक्षण सामने आते है तो इसे नजरअंदाज न करें क्योंकि यह ब्रेन ट्यूमर जैसी जानलेवा बीमारी भी हो सकती है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने चौका देने वाला खुलासा किया है। 

अध्ययन के मुताबिक देश में हर साल करीब 40,000 से 50,000 लोगों में ब्रेन ट्यूमर की पहचान होती है, जिनमें से 20 प्रतिशत बच्चे होते हैं। चिंता की बात यह है कि गत वर्ष यह आंकड़ा केवल पांच प्रतिशत ही ऊपर था। साथ ही, हर साल लगभग 2,500 भारतीय बच्चों में मेडुलोब्लास्टोमा रोग पाया जा रहा है।

और पढ़ें: उमस भरे मौसम में अपनाए मेकअप के ये बेहतरीन तरीके

आईएमए के अनुसार, मेडुलोब्लास्टोमा बच्चों में पाया जाने वाला एक घातक ब्रेन ट्यूमर है। यह मस्तिष्कमेरु द्रव (सीएसएफ) के माध्यम से फैलता है और दिमाग, रीढ़ की हड्डी की सतह से होता हुआ अन्य भागों को भी प्रभावित कर सकता है। यदि उपचार प्रक्रिया का सही ढंग से पालन किया जाता है, तो इन मामलों में से लगभग 90 प्रतिशत का इलाज संभव है।

अध्ययनों से पता चलता है कि मस्तिष्क ट्यूमर ल्यूकेमिया के बाद बच्चों में पाया जाने वाला दूसरा सबसे आम कैंसर है। डॉ. अग्रवाल ने कहा, 'ट्यूमर यदि ब्रेन स्टेम या किसी दूसरे हिस्से में है, तो हो सकता है कि सर्जरी संभव न हो। जो लोग सर्जरी नहीं करवा सकते उन्हें विकिरण चिकित्सा या अन्य उपचार मिल सकता है।

और पढ़ें: एंटीबायोटिक्स का कोर्स हमेशा पूरा करना जरूरी नहीं, ब्रिटिश जर्नल में वैज्ञानिकों का दावा

मेडुलोब्लास्टोमा के लक्षण: 

  • बार-बार उल्टी आना
  • सुबह उठने पर सिर दर्द

मेडुलोब्लास्टोमा को जांचने में चिकित्सक कभी जठरांत्र रोग या माइग्रेन भी मान बैठते हैं।

मेडुलोब्लास्टोमा रोग से पीड़ित बच्चे अक्सर ठोकर खाकर गिर जाते है। उन्हें लकवा भी मार सकता है। कुछ मामलों में, चक्कर आना, चेहरा सुन्न होना या कमजोरी भी देखी जाती है।

PICS: शाहरुख खान की पत्नी गौरी खान सुहाना, अबराम के साथ ले रहीं सनबाथ

डॉ. अग्रवाल ने बताया, 'मेडुलोब्लास्टोमा से पीड़ित बच्चों के लिए सिर्फ दवाएं ही काफी नहीं होती। यह सुनिश्चित करें कि ट्यूमर वापस तो नहीं आया, कोई साइड इफ़ेक्ट तो नहीं हो रहा और बच्चे के स्वास्थ्य पर नजर रखने की जरूरत है। ज्यादातर बच्चों को इस बीमारी के इलाज के बाद ताउम्र चिकित्सक के संपर्क में रहने की जरूरत होती है।'

 बच्चों में कैंसर को रोकने के लिए कुछ सुझाव:

  • रसायनों और कीटनाशकों के जोखिम से बचें। यह गर्भवती माताओं के लिए विशेष रूप से जरूरी है।
  • फलों और सब्जियों का सेवन करें और नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • धूम्रपान और मदिरापान से दूर रहें।

PICS: जानें, कौन है ड्रग मामले में फंसी साउथ की अभिनेत्री चार्मी कौर

 

First Published : 27 Jul 2017, 04:50:05 PM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.