News Nation Logo
बाबुल सुप्रियो का संसद की सदस्यता से इस्तीफा मंजूर दिल्ली के सदर बाजार में आज आतंकी हमलों को लेकर मॉक ड्रिल की गई T20 World Cup: साउथ अफ्रीका ने वेस्टइंडीज को 8 विकेट से हराया चाहें तो गोली मरवा सकते हैं और कुछ नहीं कर सकते: लालू प्रसाद यादव के बयान पर नीतीश कुमार आर्यन खान की जमानत पर बॉम्बे हाईकोर्ट में कल फिर होगी सुनवाई बिजनेस के सिलसिले में उनसे बातचीत होती थी: हैनिक बाफना प्रभाकर ने मेरा नाम क्यों लिया मैं नहीं जानता: हैनिक बाफना भारत के पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी आर्यन खान की ओर से कर रहे हैं दलील पेश प्रभाकर को अच्छी तरह जानता हूं: हैनिक बाफना मेरे खिलाफ कोई सुबूत नहीं: हैनिक बाफना अगर सुबूत है तो प्रभाकर लाकर दिखाएं: हैनिक बाफना टीम इंडिया के मुख्य कोच पद के लिए राहुल द्रविड़ ने किया आवेदन वीवीएस लक्ष्मण के NCA में पदभार संभालने की संभावना आर्यन खान के वकील ने HC में दाखिल किया हलफनामा HC में आर्यन खान की जमानत याचिका पर सुनवाई शुरू पश्चिम बंगाल में तंबाकू और निकोटिन वाले गुटखा-पान मसाला एक साल के लिए बैन कोवैक्सीन को मिल सकती है अंतरराष्ट्रीय मंजूरी, डब्ल्यूएचओ की बैठक आज उमर मलिक के बेटे पर यूपी सरकार कसेगी शिकंजा, एडमिशन के नाम पर रेस का आरोप पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह कल प्रेसवार्ता कर नई पार्टी का ऐलान कर सकते हैं अरविंद केजरीवाल का ऐलान - यूपी में सरकार बनी तो मुफ्त में अयोध्या की तीर्थ यात्रा कराएंगे

Bhai Dooj 2018: भाई को ऐसे लगाएं उसकी लंबी उम्र का टीका, दूर होंगे सभी कष्ट

भारत को त्‍योहारों का देश माना जाता है. दिवाली के बाद गोवर्धन पूजा और इसके बाद पड़ने वाला भैया दूज का खास महत्व है. राखी भाई-बहन के प्यार का प्रतीक है. भैया दूज भाई की लंबी उम्र की कामना का दिन. इस दिन बहनें अपनी भाइयों के रोली और अक्षत से तिलक करके उनके उज्जवल भविष्य की कामना करती हैं. आइए जानें कि किस मुहुर्त में भाई को कैसा लगाएं टीका कि उसके जीवन में खुशियां भर जाए..

YOGITA BHAGAT | Edited By : Drigraj Madheshia | Updated on: 08 Nov 2018, 03:53:16 PM
Bhai Dooj 2018 : भाई को ऐसे लगाएं टीका

नई दिल्ली:

भारत को त्‍योहारों का देश माना जाता है. दिवाली के बाद गोवर्धन पूजा और इसके बाद पड़ने वाला भैया दूज का खास महत्व है. राखी भाई-बहन के प्यार का प्रतीक है. भैया दूज भाई की लंबी उम्र की कामना का दिन.  इस दिन बहनें अपनी भाइयों के रोली और अक्षत से तिलक करके उनके उज्जवल भविष्य की कामना करती हैं. आइए जानें कि किस मुहुर्त में भाई को कैसे लगाएं टीका कि उसके जीवन में खुशियां भर जाए..

पूजन विधिः इस दिन बहनें सबसे पहले आटे का चौक तैयार करें. चौक पर भाई को बैठाएं. भाई की हथेली पर चावल का घोल लगाएं, जिसके बाद इसमें सिंदूर लगाकर पान, सुपारी, कद्दु के फूल हाथों पर रखकर उस पर पानी छोड़ें. कई जगहों पर बहने इस अवसर पर भाइयों की आरती भी उतारती हैं और हाथों में कलावा बांधती हैं. मुंह मीठा करने के लिए मिश्री खिलाएं. इसके बाद संध्या में यमराज के नाम से चौमुखा दीप जलाकर बहनें घर के बाहर उसका मुख दक्षिण दिशा की तरफ रख दें.

टीका मुहूर्त ःभैया दूज पर इस वर्ष टीका लगाने का शुभ मुहूर्त 13 बजकर 09 मिनट से लेकर 15 बजकर 17 मिनट तक है , यानि दो घंटे और 8 मिनट की अवधि में यदि बहनें अपने भाई को तिलक लगाएं तो अत्यंत शुभ होगा।

भाई दूज की पौराणिक कथा

भाई दूज को लेकर एक लेकर एक पौराणिक मान्यता भी है. कहते हैं यह वही तिथि है जब यमराज अपनी बहन यमुना से मिलने के लिए जाते हैं और उसी परम्परा को आगे बढ़ाते हुए पूरा देश इस दिन को भाई दूज के रूप में मनाता है.इस दिन यम देवता के पूजन का खास महत्व है.इस दिन यमुना, चित्रगुप्‍त और यमदूतों की पूजा करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है.कथा के अनुसार सूर्य की संज्ञा नामक पत्नी से दो संतानें थी.पुत्र यमराज और पुत्री यमुना, संज्ञा सूर्य का तेज सहन नहीं कर पाईं, जिसके चलते उन्होंने अपनी छाया का निर्माण कर अपने पुत्र -पुत्री को उसे सौंपकर वहां से चली गई.

यह भी पढ़ें ः नक्‍सलियों के गढ़ में पांच साल बाद बस्‍तर आ रहे हैं नरेंद्र मोदी, 30 साल पुराना है यहां से नाता

छाया को यम और यमुना से कोई लगाव नहीं था, लेकिन भाई और बहन में बहुत प्रेम था. यमुना अपने भाई यमराज से उसके घर आने का निवेदन करती थी, लेकिन यमराज यमुना की बात को टाल जाते थे. एक बर कार्तिक शुक्ल द्वितीया के दिन यमराज अपनी बहन यमुना से मिलने पहुंचे. यमुना अपने द्वार पर अचानक यमराज को देखकर बेहद खुश हो गई.यमुना ने अपने भाई का स्वागत-सत्कार कर उन्हें भोजन करवाया.बहन के आदर सत्कार से खुश होकर यमदेव ने यमुना से कुछ मांगने को कहा तभी यमुना ने उनसे हर साल इस तिथि के दिन उनके घर आने का वरदान मांगा.ऐसी मान्यता है कि जो भाई आज के दिन बहन से तिलक करवाता है उसे कभी अकाल मृत्यु का भय नहीं सताता.

यह भी पढ़ें ः Govardhan Puja: जानें गोवर्द्धन पूजा और अन्नकूट की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

इस दिन को यम द्वितिया के नाम से भी जाना जाता है.वैसे तो देश भर की पवित्र नदियों में इस दिन भाई बहन स्नान के लिए पहुंचते हैं.लेकिन मथुरा वृन्दावन में यमुना स्नान का विशेष महत्व बताया जाता है.इस दिन भारी संख्या में लोग मथुरा पहुंचते है और अपने भाई बहन बहन की लंबी आयु के लिए देवी यमुना से प्रार्थना करते हैं.मान्यता है कि जो भाई बहन इस दिन यमुना में स्नान करते हैं उनकी सभी मनोकामनाएं स्वयं यमदेव पूरी करते हैं.

First Published : 08 Nov 2018, 09:55:43 AM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.