News Nation Logo

एंटीबॉडी कोविड संक्रमण पर कॉमन कोल्ड से करती है प्रतिक्रिया : शोध

अमेरिकी शोधकर्ताओं ने पहचाना है कि एक विशेष प्रकार की एंटीबॉडी का उत्पादन उन रोगियों में होता है, जिन्हें कोविड-19 के साथ-साथ सामान्य सर्दी भी होती है.

IANS | Updated on: 31 May 2021, 09:23:00 AM
Antibody

एंटीबॉडी कोविड संक्रमण पर कॉमन कोल्ड से करती है प्रतिक्रिया : शोध (Photo Credit: IANS)

न्यूयॉर्क:

अमेरिकी शोधकर्ताओं ने पहचाना है कि एक विशेष प्रकार की एंटीबॉडी का उत्पादन उन रोगियों में होता है, जिन्हें कोविड-19 के साथ-साथ सामान्य सर्दी भी होती है. यह अग्रिम तौर पर व्यापक प्रभावी टीकों के लिए शुरुआती बिंदु हो सकती है. स्क्रिप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट की एक टीम द्वारा किए गए अध्ययन में पाया गया कि क्रॉस रिएक्टिव एंटीबॉडी एक मेमोरी बी सेल द्वारा निर्मित होती है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली का एक अनिवार्य हिस्सा है. वे प्रारंभिक बीमारी के खतरों को याद रखते हैं और दशकों तक रक्तप्रवाह में फैल सकते हैं, अगर खतरा फिर से उभरता है तो कार्रवाई में वापस बुलाए जाने के लिए तैयार हैं. ये कोशिकाएं लक्षित एंटीबॉडी के उत्पादन के लिए जिम्मेदार होती हैं.

यह भी पढ़ें : कोरोना: अधिकांश भारतीयों ने तेज बुखार, थकान, सूखी खांसी के लक्षणों का अनुभव किया 

विश्वविद्यालय के इम्यूनोलॉजी और माइक्रोबायोलॉजी विभाग के एक अन्वेषक वरिष्ठ लेखक रायस अंद्राबी ने कहा, 'हम यह निर्धारित करने में सक्षम थे कि इस प्रकार के क्रॉस रिएक्टिव एंटीबॉडी का उत्पादन एक मेमोरी बी सेल द्वारा किया जाता है जो शुरू में कोरोनवायरस के संपर्क में आता है जो सामान्य सर्दी का कारण बनता है, और फिर कोविड 19 संक्रमण के दौरान वापस आ जाता है.' इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी का उपयोग करते हुए, टीम ने जांच की कि क्रॉस रिएक्टिव एंटीबॉडी कैसे कोरोनावायरस की एक श्रृंखला को बेअसर करने में सक्षम है.

उन्होंने महामारी से पहले एकत्र किए गए रक्त के नमूनों की जांच की और उन लोगों के नमूनों से तुलना की जो कोविड-19 से बीमार थे और एंटीबॉडी प्रकारों को इंगित करने में सक्षम थे जो कि सौम्य कोरोनविर्यूज के साथ साथ एसएआरएस कोव 2 के साथ प्रतिक्रिया करते थे. नेचर कम्युनिकेशंस नामक पत्रिका में छपे निष्कर्षों से पता चला है कि कोरोनवायरस के पूर्व संपर्क, यहां तक कि एक गैर खतरनाक वायरस जो सर्दी का कारण बनता है, प्रकृति और एंटीबॉडी के स्तर को प्रभावित कर सकता है, तब अधिक गंभीर कोरोनावायरस का खतरा सामने आता है.

यह भी पढ़ें : धूम्रपान आपके फेफड़ों के साथ-साथ जिंदगी पर भी असर डालता है, जानिए कैसे

शोधकर्ताओं ने कहा कि यह खोज एक वैक्सीन या एंटीबॉडी उपचार की खोज में मदद करेगी जो अधिकांश या सभी प्रकार के कोरोनावायरस के खिलाफ काम करेगा. आगे के परीक्षणों से पता चला कि एंटीबॉडी ने एसएआरएस कोव 1, कोरोनवायरस को भी बेअसर कर दिया, जो एसएआरएस या गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम के कारण बनता है. डेनिस बर्टन, विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ने कहा कि यह खोज पैन कोरोनावायरस वैक्सीन के अंतिम विकास में एक महत्वपूर्ण कदम हो सकता है, जो भविष्य में उभरने वाले संभावित कोरोनविर्यूज से बचाने में सक्षम होगा.

बर्टन ने कहा कि भविष्य में एक और घातक कोरोनावायरस के फिर से उभरने की संभावना है, और जब ऐसा होगा, तो हम बेहतर रूप से तैयार रहना चाहते हैं. एसएआरएस कोव 2 और अधिक सामान्य कोरोनवीरस के खिलाफ एक क्रॉस रिएक्टिव एंटीबॉडी की हमारी पहचान एक आशाजनक विकास है. एक व्यापक अभिनय वैक्सीन या चिकित्सा के लिए रास्ता है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 31 May 2021, 09:23:00 AM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.